सरकार और किसानों के बीच का विवाद जल्द खत्म होगा: रणजीत चौटाला

रणजीत चौटाला ने कहा किसान संगठनों और सरकार के बीच बातचीत का दौर जारी.

रणजीत चौटाला ने कहा किसान संगठनों और सरकार के बीच बातचीत का दौर जारी.

Kisan Aandolan: कैबिनेट मंत्री रणजीत चौटाला ने कहा कि हरियाणा के लोगों को कोरोना से बचाव के लिए सावधानियां बरतनी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 9:01 AM IST
  • Share this:
सिरसा. हरियाणा के कैबिनेट मंत्री चौधरी रणजीत सिंह चौटाला (Ranjit Singh Chautala) ने कहा कि किसानों और सरकार के बीच गतिरोध जल्दी खत्म होगा. किसान संगठनों और सरकार (Government) के बीच बातचीत का दौर जारी है और उन्हें पूरी उम्मीद है कि सरकार और किसान संगठनों के बीच का विवाद जल्द खत्म हो जाएगा. उन्होंने कहा कि किसानों को भी अपनी जिद्द छोड़नी पड़ेगी और सरकार को भी जल्द किसानों की बात पर गौर करना चाहिए.

कैबिनेट मंत्री रंजीत सिंह चौटाला ने हरियाणा के लोगों से कोरोना से बचाव के लिए कोविड 19 के नियमों की पालना करने की अपील  की है. उन्होंने हरियाणा वासियों से नाईट कर्फ्यू के आदेशों की पालना करने की अपील की है और नाइट कर्फ्यू के दौरान लोग अपने घरों में ही रहे. कैबिनेट मंत्री आज सिरसा में कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने के बाद मीडिया से बातचीत कर रहे थे.

मीडिया से बातचीत करते हुए हरियाणा के कैबिनेट मंत्री रणजीत सिंह चौटाला ने कहा कि सरकार और किसानों के बीच का विवाद जल्द खत्म होगा. उनकी सद्भावना और शुभकामनाएं किसानों के साथ है.  किसान संगठनों और सरकार की कमेटी जल्द मामले को सुलझा लेगी. उन्होंने कहा कि देश के साथ साथ हरियाणा में भी कोरोना के लगातार केस बढ़ रहे है लोग अपने आपको कोरोना से बचाए.

उन्होंने कहा कि हरियाणा के लोगों को कोरोना से बचाव के लिए सावधानियां बरतनी चाहिए. उन्होंने कहा कि कोविड 19 के नियमों की पालना करनी चाहिए ताकि कोरोना से बचाव किया जा सके. उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार भी कोरोना से बचाव के लिए काफी प्रयास कर रही है और सरकार इस कोरोना काल में हर प्रकार की मदद करने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि जेलों में कोरोना के केस आ रहे है और कोरोना संक्रमित वाले कैदियों और बंदियों को जेलों में बैरक में रखने की बजाए आइसोलेशन वार्ड में रखा जा रहा है ताकि जेलों में कोरोना का संक्रमण ज्यादा न फ़ैल सके. उन्होंने कहा कि सीरियस क्राइम नहीं करने वाले कैदियों और बंदियों को पेरोल दी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज