लाइव टीवी

सिरसा : शहीदी दिवस पर याद किए गए वीर जवान, दी गई श्रद्धांजलि

Nakul Jasuja | News18 Haryana
Updated: December 16, 2019, 1:58 PM IST
सिरसा : शहीदी दिवस पर याद किए गए वीर जवान, दी गई श्रद्धांजलि
1971 के युद्ध में शहीद हुए जवानों को दी गई श्रद्धांजलि

पुलिस के जवानों की टुकड़ी ने बिगुल बजा कर शहीदों की शहादत को सलाम किया. जिला उपायक्त ने शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित (Tributes paid) करते हुए कहा कि हमें इनकी कुर्बानियों एवं बलिदानों (Sacrifice) से प्रेरणा लेते हुए देश सेवा (Serve the Country) करनी चाहिए.

  • Share this:
सिरसा. शहीदी दिवस (Martyrdom Day) के अवसर पर सिरसा के लघु सचिवालय स्थित शहीद स्मारक पर शहीदों को फूल माला व पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि (Tributes paid) दी गई. जिला उपायक्त अशोक कुमार गर्ग ने शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि हमें इनकी कुर्बानियों एवं बलिदानों (Sacrifice) से प्रेरणा लेते हुए देश सेवा करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि 1971 का युद्ध (1971 war ) बांग्लादेश की मुक्ति का दिवस (Bangladesh Liberation Day) था, जिसमें भारतीय सेना ने अपनी वीरता का परिचय दिया.

इस अवसर पर पुलिस के जवानों की टुकड़ी ने बिगुल बजा कर शहीदों की शहादत को सलाम किया. जिला सैनिक व अर्द्धसैनिक कल्याण बोर्ड द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में प्रशासन की ओर से उपायुक्त अशोक कुमार गर्ग ने बतौर मुख्य अतिथि शहीदी स्मारक पर पुष्प अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी. जिला सैनिक कल्याण बोर्ड के सचिव कर्नल दीप डागर ने भी पूर्व सैनिकों की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की.

'हमारे वीर जवानों ने बांग्लादेश को आजाद कराया'

जिला सैनिक एवं अर्द्धसैनिक कल्याण विभाग के कल्याण अधिकारी कर्नल डॉ. दीप डागर ने बताया कि आज का दिन देश के लिए गौरव का दिन है. 1971 में पकिस्तान के साथ हुए युद्ध में हमारे वीर जवानों ने बांग्लादेश को आजाद कराया. इस युद्ध में भारतीय सेना ने फील्‍ड मार्शल सैम मानेकशॉ के नेतृत्व में करीब 93 हजार पकिस्तानी सैनिकों को बंदी बनाया था और विजय हासिल की थी. उन्होंने कहा कि इस युद्ध में हमारे करीब 3 हजार 900 जवानों ने अपनी शहादत दी थी. उन्होंने देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि हमें एकजुटता से देश के विकास में सहयोग देना चाहिए.

1971 में पकिस्तान के साथ हुए युद्ध में हमारे वीर जवानों ने बांग्लादेश को आजाद कराया.


1971 की पकिस्तान के साथ हुई लड़ाई में भाग लेने वाले पूर्व सैनिक ओमप्रकाश और लालचंद गोदारा ने कहा कि हथियारों की कमी के बावजूद हमारे सैनिकों ने विषम परिस्थियों में लड़ाई लड़ी और इतिहास रचा.

ये भी पढ़ें - पुलिस ने सेक्स रैकेट का किया भंडाफोड़, 4 महिलाओं सहित एक युवक गिरफ्तारये भी पढ़ें - सिरसा : टोल प्लाजा पर कैश भुगतान करने वाले वाहनों की लगी लंबी लाइन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिरसा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 16, 2019, 1:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर