• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • SIRSA THE MATTER OF GETTING GURMEET RAM RAHIM ADMITTED TO MEDANTA REACHED HIGH COURT HRRM

Haryana News: गुरमीत राम रहीम को मेदांता में भर्ती कराने का मामला पहुंचा हाई कोर्ट, चीफ जस्टिस को लिखा पत्र

राम रहीम को दो बार लाया गया था पीजीआई (मुंहबोली बेटी हनीप्रीत के साथ राम रहीम)

रोहतक की सुनारिया जेल में सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम को गुरुग्राम का निजी अस्पताल में इलाज कराने का मामला अब पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट पहुंच गया है.

  • Share this:
सिरसा. डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह (Gurmeet Ram Rahim Singh) को मेडिकल पैरोल पर दिवंगत पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के बेटे अंशुल छत्रपति लगातार सवाल उठाते रहे हैं. अब उन्होंने इस मामले को लेकर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस को एक पत्र लिखकर मामले में दखल देने और इसकी मॉनिटरिंग करने की मांग की है. साथ ही अंशुल छत्रपति ने डेरा प्रमुख को दी गई पैरोल में नियमों का उल्‍लंघन होने का आरोप लगाया है.

अंशुल ने गुरुग्राम के मेदांता हॉस्पिटल द्वारा डेरा प्रमुख की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत का अटेंडेंट कार्ड बना कर उसे गुरमीत राम रहीम से मिलने देने पर भी सवाल खड़े किये हैं. अंशुल छत्रपति ने कहा कि जिस तरह से बार-बार डेरा प्रमुख को कभी उनकी माता के बीमारी के बहाने एक दिन की कस्टोडियस पैरोल दी गई और उसे गुरुग्राम के एक फार्म हाउस में मिलाया गया. उसके बाद बाबा की बीमारी को लेकर पहले PGI रोहतक और उसके बाद गुरुग्राम के मेदांता हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया. ये सरकार और जेल प्रशासन  की तरफ से डेरा प्रमुख को लंबी छुट्टी देने का एक ग्राऊंड तैयार किया जा रहा है.

अंशुल ने कहा कि जिस तरह 25 अगस्त 2017 को गुरमीत राम रहीम के खिलाफ फैसला आया और प्रदेश में जिस तरह से दंगा हुआ, उससे सरकार और प्रशासन को सबक लेना चाहिए. अंशुल ने कहा कि जो पुलिस प्रशासन 25 अगस्त 2017 के बाद से लगातार जांच में हनीप्रीत को मुख्य साजिशकर्ता बता रहा था, उसके बाद पुलिस का केस इतना कमजोर क्यों हुआ? हनीप्रीत से आरोप हटे और उसके बाद उनको जमानत मिली. अंशुल ने आरोप लगाया कि फिर से हनीप्रीत को अटेंडेंट कार्ड बना कर साजिश रचने के लिए उसे राम रहीम से मिलने दिया जा रहा है. साथ ही अंशुल ने इलाज की CCTV फुटेज भी कोर्ट में मुहैया करवाने की मांग की है.