निकिता मर्डर केस: रिकॉर्ड 11 दिनों में चार्जशीट पेश, लव जिहाद के एंगल को नहीं किया गया शामिल

चार्जशीट में पुलिस ने 60 लोगों को गवाह बनाया है.
चार्जशीट में पुलिस ने 60 लोगों को गवाह बनाया है.

मामले में एसआईटी (SIT) ने रिकाॅर्ड 11 दिनों के अंदर कोर्ट में 700 पेज की चार्जशीट दाखिल की है. एसआईटी ने चार्जशीट में लव-जेहाद (Love- jihad) के एंगल को शामिल नहीं किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 4:06 PM IST
  • Share this:
फरीबाद. बल्लभगढ़ (Ballabhgarh) में हुई कॉलेज छात्रा निकिता तोमर की हत्या के मामले में विशेष जांच दल ने शुक्रवार को चार्जशीट पेश कर दी. खास बात ये रही कि एसआईटी ने रिकॉर्ड 11 दिनों के अंदर ही 700 पेज की चार्जशीट कोर्ट में पेश की. हालांकि एक चौंकाने वाली बात ये रही कि इसमें लव जिहाद के एंगल को शामिल नहीं किया गया है. इसमें 60 लोगों को मामले का गवाह बनाया गया है.

इसलिए नहीं लव जिहाद का एंगल

जानकारी के अनुसार लव जिहाद के एंगल को फिलहाल चार्जशीट में शामिल नहीं किया गया है. इसके लिए पहले तौशीफ और निकिता के मोबाइल फोन जांचे जाएंगे और दोनों के ही फोन की जांच की जा रही है. एसआईटी का कहना है कि लव जिहाद की यदि कोई बात सामने आती है तो इसके लिए पूरक चार्जशीट पेश की जाएगी.



खट्टर सरकार का बड़ा तोहफा, कमजोर वर्गों को पुलिस भर्ती की उम्र में 5 साल की छूट
आरोपित किसी भी स्थिति में बच ना पाएं इसलिए चार्जशीट को डिजिटल, फोरेंसिक एवं मेटेरियल एविडेंस के आधार पर अनुभवी अनुसंधान अधिकारियों द्वारा तैयार किया गया है. इसके बाद फरीदाबाद पुलिस आयुक्त ओपी सिंह ने बारीकी से अवलोकन किया. इतना ही नहीं इसके बाद वरिष्ठ कानूनी विशेषज्ञों द्वारा केस के हर लीगल पहलुओं की गहराई से स्क्रूटनी की गई. बताया जा रहा है कि डिजिटल और फॉरेंसिक साइंस एविडेंस और चश्मदीद गवाह और अन्य पुख्ता सबूत के आधार पर आरोपियों को शीघ्र कड़ी सजा दिलवाई जाएगी.

क्या था मामला
बल्लभगढ़ में 26 अक्टूबर की शाम को परीक्षा देकर सहेली के साथ घर लौट रही कॉलेज छात्रा निकिता का अग्रवाल कॉलेज के गेट के बाहर मुख्य आरोपी तौसीफ और उसके साथी ने अपहरण करना चाहा, लेकिन इस पर नाकाम होने पर आरोपी तौसीफ ने निकिता को गोली मार दी. इस वारदात को अंजाम देने में उसका साथी रेहान भी शामिल था.

दोनों आरोपी वारदात को अंजाम देकर कार से फरार हो गए थे. यह पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई. इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. सूत्रों की मानें तो हत्याकांड के इस मुकदमे में पहले केवल हत्या की धारा लगी थी. एसआइटी ने जांच के दौरान इसमें हत्या के लिए अपहरण, शादी लिए दबाव डालना और साजिश की धाराएं भी जोड़ीं हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज