पत्नी छोड़कर गई तो तीनों बच्चों को खिलाया जहर, फिर खुद भी कर ली आत्महत्या

लोगों के आने पर उन्हें घर से दुर्गंध आई. उन्होंने ऊपर चढ़कर देखा तो चारों के शव पड़े थे. गांव वालों ने इसके बाद पुलिस को सूचना दी.

Sunil Jindal | News18 Haryana
Updated: July 23, 2019, 3:50 PM IST
पत्नी छोड़कर गई तो तीनों बच्चों को खिलाया जहर, फिर खुद भी कर ली आत्महत्या
मृतक बच्चों के ऊपर रजाई डली हुई थी (Demo Pic)
Sunil Jindal
Sunil Jindal | News18 Haryana
Updated: July 23, 2019, 3:50 PM IST
हरियाणा के सोनीपत से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. यहां एक 40 वर्षीय बुजुर्ग ने तीन बच्चों को जहर देकर मार दिया. इसके बाद खुद भी खुदकुशी कर ली. पुलिस को घटना की जानकारी बुजुर्ग के पड़ोसियों ने दी. जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिए. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

घर में मिली सड़ी हुई लाश

मिली जानकारी के मुताबिक, गांव दोदवा में पत्नी के घर छोड़कर जाने से परेशान राजमिस्त्री ने दो बेटों व बेटी को जहर खिलाकर मारने के बाद खुद भी आत्महत्या कर ली. घटना चार दिन पहले की बताई जा रही है. चारों के शव घर के अंदर सड़ी हुई हालत में मिले हैं. बच्चों के स्कूल नहीं जाने पर शिक्षक ने अन्य बच्चों को देखने के लिए घर भेजा तो अंदर से गेट बंद मिला. घर के अंदर से दुर्गंध आ रही थी. छत पर जाकर देखने के बाद लोगों को मामले का पता लगा. सूचना मिलने पर सदर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और सभी शव को पोस्टमार्टम के लिए सरकारी अस्पताल भिजवाया. जहां से शवों को गांव खानपुर कलां स्थित बीपीएस राजकीय महिला मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल भेज दिया गया. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

पत्नी से चल रहा था मनमुटाव

मूलरूप से दिल्ली में नजफगढ़ के गांव दीनपुर का महेंद्र (40) 7 साल से अपने बच्चों के साथ गांव दोदवा में रहता था. दोदवा में महेंद्र की बहन शादीशुदा है. वह उससे अलग मकान लेकर रह रहा था. महेंद्र राजमिस्त्री का काम करता था. महेंद्र का अपनी पत्नी नूरजहां से मनमुटाव चल रहा था और वह करीब दो माह पहले घर से चली गई थी. जिसके बाद से महेंद्र मानसिक रूप से परेशान रहता था. करीब चार दिन से महेंद्र व उसका बेटा समीर (11), बेटी सोनिया (9) और छोटा बेटा राज (6) दिखाई नहीं दे रहे थे. तीनों बच्चे गांव के सरकारी स्कूल में पढ़ते थे.

बच्चों के ऊपर डाली गई थी रजाई
चार दिन से बच्चे स्कूल नहीं गए तो एक शिक्षक ने सोमवार को अन्य बच्चों को महेंद्र के घर देखने के लिए भेज दिया. जब बच्चे महेंद्र के घर पहुंचे तो दरवाजा अंदर से बंद मिला. उन्होंने आवाज दी, लेकिन कोई आवाज नहीं आई. जिसके बाद आसपास के लोग भी एकत्रित हो गए. लोगों के आने पर उन्हें घर से दुर्गंध आई. उन्होंने ऊपर चढ़कर देखा तो चारों के शव पड़े थे. जिस पर गांवों वालों ने दरवाजे को खोलकर पुलिस को सूचना दी गई. तीनों बच्चों के शव बैड पर व महेंद्र का एक शव चारपाई पर सड़ी हालत में पड़ा था. बच्चों के ऊपर रजाई डाली गई थी.
Loading...

छात्रों ने स्कूल पहुंचकर टीचर को दी जानकारी
छात्रों ने स्कूल पहुंच कर घटना के संबंध में अपने शिक्षकों को बताया. इसके बाद यह घटना पूरे गांव में फैल गई. पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए गोहाना के सरकारी अस्पताल में भिजवाया. वहां से चिकित्सकों ने चारों शवों को बीपीएस राजकीय महिला मेडिकल कॉलेज के अस्पताल के लिए भेज दिया. पुलिस ने महेंद्र के भांजे सद्दाम के बयान दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है. शक जताया जा रहा है कि महेंद्र ने तीनों बच्चों को जहर देकर मारने के बाद खुद भी जहर खाकर आत्महत्या कर ली. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

महेंद्र के भांजे सद्दाम ने बयान दिया है कि उसकी मामी नूरजहां के बीच मनमुटाव रहता था. उसकी मामी दो माह पहले घर से भी चली गई थी, जिससे महेंद्र अधिक परेशान रहने लगा था. मानसिक परेशानी के चलते ही महेंद्र ने पहले बच्चों को जहरीला पदार्थ खिलाया और बाद में खुद निगल लिया. मामले की जांच की जा रही है.

ये भी पढ़ें--

मुस्लिम युवक ने Facebook पर खुद को बताया जैश-ए-मोहम्मद का सदस्य!

देवेंद्र फडणवीस के दो करीबी टिकट के प्रयास में, सीएम बोले- बिना काम किए नहीं

CM फडणवीस बोले- पहले ही कह चुका हूं, दूसरी बार भी मैं ही मुख्यमंत्री बनूंगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सोनीपत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 22, 2019, 10:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...