अपना शहर चुनें

States

गोहाना में फैक्टरी मालिक पर मजदूर की बेहरहमी से पिटाई का आरोप

अस्‍पताल में भर्ती घायल मजदूर.
अस्‍पताल में भर्ती घायल मजदूर.

फैक्‍टरी मालिक ने कहा कि उसे मशीन ऑपरेटर की जगह पल्लेदारी करनी पड़ेगी. सोनू ने जब पल्लेदारी करने से मना किया तो उसे कमरे में बंद कर लोहे के पाने व बिंडों से फैक्टरी मालिक अनिल व अन्य दो लोगों ने पीटना शुरू कर दिया.

  • Share this:
हरियाणा में सोनीपत जिले के गोहाना में पैसे के लेन-देन के चलते एक फैक्टरी मलिक पर फैक्‍टरी में काम करने वाले मजदूर की बेहरहमी से पिटाई का आरोप लगा है. मजदूर को गंभीर हालत में गोहाना के नागरिक अस्पताल में लाया गया, जहां उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे खानपुर पीजीआई रेफर कर दिया गया. इतना ही नहीं, बीचबचाव के लिए आई मजदूर की आठ महीने की गर्भवती पत्नी को भी धक्‍का दे दिया गया. उसे भी खानपुर पीजीआई में दाखिल करवाया गया है. वहीं इस मामले में पुलिस अभी शिकायत मिलने का इंतजार कर रही है.

घायल मजदूर सोनू ने बताया कि वह महमूदपुर मार्ग स्थित अनिल निवार फैक्टरी में काम करता था. पिछले दिनों निवार-डोरी मजदूरों ने अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए यूनियन का गठन किया था. वो भी इस यूनियन के कार्यक्रमों में भाग लेता था. फैक्टरी मालिक ने उसे हटा दिया. जब उसने दूसरी फैक्टरियों में नौकरी की तलाश की, तो मालिक ने सभी को उसे नौकरी देने से मना कर दिया.

इसके बाद फैक्‍टरी मालिक सोनू पर और उसे दिए गए सात हजार रुपए लौटाने के लिए दबाव डालने लगा. जब सोनू ने उन्हें कहा कि वह काम करके पैसे चुका देगा तो मालिक ने कहा कि उसे मशीन ऑपरेटर की जगह पल्लेदारी करनी पड़ेगी. सोनू ने जब पल्लेदारी करने से मना किया तो उसे कमरे में बंद कर लोहे के पाने व बिंडों से फैक्टरी मालिक अनिल व अन्य दो लोगों ने पीटना शुरू कर दिया. जब उसकी आठ माह की गर्भवत्ती पत्नी पूजा बीचबचाव करने के लिए पहुंची तो उसे धक्का दे दिया, जिससे वह जमीन पर जा गिरी और उसे पेट में दर्द हो गया. साथी मजदूरों ने उन्हें शहर के नागरिक अस्पताल में भिजवाया, जहां से दोनों को खानपुरकलां स्थित बीपीएस राजकीय महिला मेडि‍कल कॉलेज के अस्पताल रेफर कर दिया गया.



निवार-डोरी मजदूर यूनियन के अध्यक्ष अनिल शर्मा व सीटू के वरिष्ठ प्रधान टेकराम शर्मा ने कहा कि सोनू को बेरहमी से पीटने के साथ उसकी पत्नी पूजा को दिए गए धक्के के मामले में उन्हें न्याय मिलना चाहिए. अगर पुलिस प्रशासन ने जल्द ही फैक्टरी मालिक सहित अन्य साथियों को गिरफ्तार नहीं किया तो वे आंदोलन छेड़ देंगे.
वहीं इस बारे में जब फैक्टरी मालिक से बात की गई तो उसने अपने आप को गोहाना के बाहर बताते हुए कहा कि सोनू से सात हजार रुपए लेने थे. वह नहीं देने के लिए झूठे आरोप लगा रहा है. वहीं पुलिस इस मामले में शिकायत का इंतजार कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज