Home /News /haryana /

दुष्यंत चौटाला ने कहा- किसान जत्थे बंदियों का मकसद सरकार से बातचीत नहीं, माहौल खराब करना

दुष्यंत चौटाला ने कहा- किसान जत्थे बंदियों का मकसद सरकार से बातचीत नहीं, माहौल खराब करना

हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि किसान अगर बातचीत के लिए तैयार हैं तो वह सरकार से उनकी बातचीत करवाएंगे.

हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि किसान अगर बातचीत के लिए तैयार हैं तो वह सरकार से उनकी बातचीत करवाएंगे.

Haryana Kisan Andolan: दुष्यंत चौटाला ने कहा कि किसान जत्थे बंदियों का मकसद सरकार से बातचीत करना ही नहीं है. उनका मकसद केवल माहौल खराब करना है और जिसकी वजह से आज प्रदेश ही नहीं देश भर में हालात बिगड़ रहे हैं. बता दें कि किसान जत्थे बंदियों ने 29 नवंबर से संसद कूच करने का ऐलान किया है. डिप्टी सीएम चौटाला ने कहा कि सरकार किसानों के साथ बातचीत के लिए तैयार है, लेकिन अगर किसान सरकार के साथ बातचीत करना चाहते हैं तो वह खुद सरकार के साथ बातचीत करवाएंगे, लेकिन जो हाई पावर कमेटी हरियाणा सरकार ने किसान जत्थे बंदियों के पास बातचीत के लिए भेजी थी, उससे किसान जत्थे बंदियों ने बातचीत नहीं की.

अधिक पढ़ें ...

सोनीपत. हरियाणा के सोनीपत में आज एक निजी कार्यक्रम में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala)  पहुंचे. वहींं दुष्यंत चौटाला ने जत्थे बंदियों के 29 नवंबर को संसद कूच (Parliament march on 29th November) पर कहा कि सरकार आंदोलन कारी किसानों (Protester farmers) के साथ बातचीत के लिए तैयार है, अगर किसान सरकार के साथ बातचीत करना चाहते हैं तो वह खुद सरकार के साथ किसानों की बातचीत करवाएंगे. बता दें कि हरियाणा के किसान अलग-अलग जगहों पर करीब एक साल से केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं.

किसान जत्थे बंदियों का मकसद सरकार से बातचीत करना ही नहीं है. उनका मकसद केवल माहौल खराब करना है और जिसकी वजह से आज प्रदेश ही नहीं देश भर में हालात बिगड़ रहे हैं. निजी कार्यक्रम में दुष्यंत चौटाला आज  सोनीपत पहुंचे और पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने किसान जत्थे बंदियों द्वारा 29 नवंबर को संसद कूच पर बोल रहे थे.

डिप्टी सीएम चौटाला ने कहा कि सरकार किसानों के साथ बातचीत के लिए तैयार है, लेकिन अगर किसान सरकार के साथ बातचीत करना चाहते हैं तो वह खुद सरकार के साथ बातचीत करवाएंगे, लेकिन जो हाई पावर कमेटी हरियाणा सरकार ने किसान जत्थे बंदियों के पास बातचीत के लिए भेजी थी, उससे किसान जत्थे बंदियों ने बातचीत नहीं की.

जिसके बाद एक बात साफ हो गई कि किसान सरकार के साथ बातचीत कर अपनी मांग मनवा ना ही नहीं चाहते हैं. उनका मकसद केवल माहौल खराब करना है और यह फिलहाल साबित भी हो रहा है. इसका प्रभाव प्रदेश ही नहीं देश भर में पड़ रहा है. जिसकी वजह से आंदोलन भी खराब हो रहा है और हमारा एक दूसरे के प्रति भावनाओं पर भी इसका प्रभाव पड़ रहा है. वहीं सोनीपत में पढ़ रहे प्रभाव पर दुष्यंत चौटाला ने कहा कि किसान जत्थे बंदियों से आसपास के लोगों को बातचीत करनी चाहिए.

Tags: Deputy Chief Minister Dushyant Chautala, Farmer Protest, Farmers Protest, Haryana Farmers, Kisan Andolan

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर