सोनीपत : सिंघु बॉर्डर पर की गई है वैक्सीनेशन की व्यवस्था, पर किसान टीका लेने को राजी नहीं

स्वास्थ्यकर्मी किसानों को वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक करने की कोशिश कर रहे हैं.

आंदोलन कर रहे किसानों का कहना है कि सरकार जानबूझकर ध्यान भटकाने के लिए वैक्सीनेशन को मुद्दा बना रही है. ताकि इसकी आड़ में उनके आंदोलन को समाप्त करवाया जा सके.

  • Share this:
सोनीपत. केंद्र सरकार (Central Government) के नए कृषि कानूनों (New Agricultural Laws) के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं (Delhi Borders) पर किसान लगातार डटे हुए हैं. वहीं सोनीपत (Sonipat) के सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर स्वास्थ्य विभाग ने दो जगहों पर कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) लगाने का काम शुरू किया है, ताकि आंदोलन में लगे किसानों को कोरोना से बचाया जा सके. लेकिन किसान कोरोना वैक्सीन के प्रति जागरूक नहीं दिखाई दे रहे हैं. यहां पर महज नाममात्र के किसान ही कोरोना वैक्सीन का टीका लगवाने के लिए पहुंच रहे हैं.

डॉक्टर कर रहे अपील, किसान कर रहे इनकार

कैंप लगाने वाले डॉक्टर हाथ जोड़कर किसानों से अपील कर रहे हैं कि वे कोरोना वैक्सीन का टीका लगवा लें, लेकिन किसान इनकार कर रहे हैं. इसके बाद सिंघु बॉर्डर के मेन स्टेज से भी डॉक्टर ने अपील की कि इस महामारी से बचने के लिए सभी किसान कोरोना वैक्सीन का टीका जरूर लगवाएं. लेकिन वैक्सीनेशन से किसान साफ इनकार कर रहे हैं.

किसानों को सरकार पर भरोसा नहीं

किसान कह रहे हैं कि यह मुद्दा भटकाने के लिए सरकार की कोई चाल है. उनका कहना है कि वे 4 महीने से दिल्ली की सीमाओं पर डटे हैं, लेकिन किसी को कोरोना नहीं हुआ. सरकार जानबूझकर इसको मुद्दा बना रही है, ताकि उनके आंदोलन को समाप्त करवाया जा सके. वही किसानों का कहना है कि जिस तरह से उक्त किसान मोर्चा आह्वान कर रहा है, उसी तरह वह अपने आंदोलन को आगे बढ़ा रहे हैं और जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं होंगी, हम अपना आंदोलन समाप्त नहीं करेंगे.

नर्स ने बताया - वैक्सीनेशन के लिए आ रहे ग्रामीण

कोरोना का टीका लगवाने वाली नर्स का कहना है कि ग्रामीण टीका लगवाने के लिए आ रहे हैं और आज भी 10 के करीब ग्रामीण टीका लगवाने के लिए आए हैं और इससे पहले भी आते रहे हैं. लेकिन ग्रामीणों के मुकाबले वैक्सीनेशन के लिए बहुत कम किसान आ रहे हैं. आज तो कोई भी किसान टीका लगवाने के लिए नहीं आया है.

फील्ड के कर्मचारी कर रहे किसानों को जागरूक

फील्ड में काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों का कहना है कि वे लगातार किसानों को जागरूक कर रहे हैं कि कोरोना का टीका लगवाएं. उन्होंने बताया कि आज इनके मुख्य नेताओं से बात हुई है और मेन स्टेज से भी अपील की गई है. स्वास्थ्य कर्मचारी का कहना है कि आगे किसान जागरूक होकर टीका लगवा सकते हैं.

डॉक्टर ने की किसान नेताओं से बात

डॉ अन्विता कौशिक ने बताया कि 2 दिन से उनका काम चल रहा है और 1 दिन 47 तो 1 दिन 49 टीके लगाए गए हैं. किसानों में भी जागरूकता दिख रही है. डॉक्टर का कहना है कि आज उनकी बात वहां के नेताओं से हुई हैं. उन्होंने मेन स्टेज के पास ही कैंप लगाने की बात कही है. डॉ अन्विता कौशिक को उम्मीद है कि जल्द ही सभी किसान वैक्सीन लगवा लेंगे.