होम /न्यूज /हरियाणा /रोहतक जेल में गोली लगने से वार्डर की मौत

रोहतक जेल में गोली लगने से वार्डर की मौत

रोहतक की सुनारिया जेल में जेल वार्डर के पद पर तैनात एक सिपाही की गोली लगने से मौत हो गई. गोली लगने की इस घटना को संदिग्ध माना जा रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि उसने खुदकुशी की है, जबकि पुलिस इसे हादसा मान रही है.

रोहतक की सुनारिया जेल में जेल वार्डर के पद पर तैनात एक सिपाही की गोली लगने से मौत हो गई. गोली लगने की इस घटना को संदिग्ध माना जा रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि उसने खुदकुशी की है, जबकि पुलिस इसे हादसा मान रही है.

रोहतक की सुनारिया जेल में जेल वार्डर के पद पर तैनात एक सिपाही की गोली लगने से मौत हो गई. गोली लगने की इस घटना को संदिग् ...अधिक पढ़ें

    रोहतक की सुनारिया जेल में जेल वार्डर के पद पर तैनात एक सिपाही की गोली लगने से मौत हो गई. गोली लगने की इस घटना को संदिग्ध माना जा रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि उसने खुदकुशी की है, जबकि पुलिस इसे हादसा मान रही है.

    पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया है. परिजनों का कहना है कि घर पर किसी प्रकार की कोई कलह और परेशानी नहीं थी.

    हिसार के रहने वाले जगदीश रोहतक की सुनारिया जेल में वार्डर के पद पर तैनात था. वह अपने तीन बच्चे और पत्नी के साथ रह रहा था. मंगलवार को जगदीश सुबह ड्यूटी पर आया था. वह रात के समय जेल की एक गुंबज में ड्यूटी दे रहा था. देर रात को जब दूसरा संतरी ड्यूटी पर गया तो उसने पाया कि जगदीश मृत अवस्था में पड़ा हुआ था. उसने इसकी सूचना जेल अधीक्षक व अन्य अधिकारियों को दी.

    सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की छानबीन शुरू कर दी. पुलिस ने पूछताछ के बाद मृतक के शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों के हवाले कर दिया है. पुलिस इसे एक हादसा मान रही है. जबकि मृतक के हाथ पर गन पाउडर लगा हुआ है. वहीं परिजनों का भी साफ कहना है कि जगदीश घर से आया तो उसे कोई परेशानी नहीं थी और ना ही किसी प्रकार का तनाव. ऐसे में जगदीश की मौत पुलिस के लिए एक सवाल बन गई है.

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें