Home /News /haryana /

जाट आंदोलन : रोहतक में हुई लूट, हिंसा और दहशत की सच्‍ची कहानी, सुनें चश्मदीद की जुबानी

जाट आंदोलन : रोहतक में हुई लूट, हिंसा और दहशत की सच्‍ची कहानी, सुनें चश्मदीद की जुबानी

Amroha: Members of Jat Sangharsh Samiti squat on a train track to block Delhi-Lucknow rail route near Amroha in support of their demand for obc reservation on Sunday.    PTI Photo 



(PTI3_6_2011_000156B) *** Local Caption ***

Amroha: Members of Jat Sangharsh Samiti squat on a train track to block Delhi-Lucknow rail route near Amroha in support of their demand for obc reservation on Sunday. PTI Photo (PTI3_6_2011_000156B) *** Local Caption ***

मैं और मेरे बहुत सारे पड़ोसी अभी भी अपने घरों में फंसे हुए हैं. हमारी महिलाएं और बच्चे डर से घबरा रहे हैं.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
    मैं रोहतक में पैदा हुआ और यहीं पला-बढ़ा हूं. मैंने दिल्ली में बेहतर जॉब ढूंढने के लिए इस खूबसूरत शहर को कभी नहीं छोड़ा. यह दिल्‍ली से महज एक घंटे की दूरी पर है. हमेशा से यहां जीवन काफी अच्छा और शांत था. हालांकि, कभी-कभी कुछ सामयिक गड़बड़ियां भी होती रही हैं. लेकिन इन सबके बावजूद रोहतक और आसपास का क्षेत्र काफी शांत था.

    लेकिन जाट आरक्षण के नाम पर आज जो भी कुछ हो रहा है वह काफी भयानक है. हमने अब से पहले इस तरह का माहौल यहां कभी नहीं देखा है. रोहतक शहर पूरी तरह बर्बाद हो रहा है. पुराना बाजार पूरी तरह नष्ट हो गया है. पूर्व मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के दस साल के शासन के दौरान बने नए शॉपिंग मॉल, इमारतें, होटल, शैक्षिक संस्थानों को भी भीड़ ने बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया है.

    jat row 3 copy

    इस नेतृत्वविहीन आंदोलन में आरक्षण के नाम पर कुछ अपराधियों ने आतंक फैलाया हुआ है. बेरोजगार युवा और अन्य छोटे अपराधी आंदोलन में शामिल हो गए हैं और मारपीट एवं लूटपाट कर लोगों को आतंकित कर रहे हैं.

    प्रदेश में मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्‍व में चल रही भाजपा की सरकार अब कहीं दिखाई नहीं दे रही है. उन्‍होंने अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी त्याग दी है. प्रदेश की कानून-व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है. पुलिसकर्मी भी स्वयं अपनी जान बचाकर भाग गए हैं. जहां कई पुलिस स्टेशनों को बंद कर दिया गया है, वहीं कुछ को क्षतिग्रस्त कर दिया गया है.

    jatdd

    मैं और मेरे बहुत सारे पड़ोसी अभी भी अपने घरों में फंसे हुए हैं. हमारी महिलाएं और बच्चे डर से घबरा रहे हैं. हम पिछले पांच दिनों से राशन, पानी और दवाओं आदि के लिए भागे-भागे फिर रहे हैं. इस दौरान मैंने जरूरी चीजें खरीदने के लिए कई बार अपने घर से बाहर निकलने की कोशिश की, लेकिन हर बार वापस लौटना पड़ा, क्योंकि यहां स्थिति काफी खराब है.

    fire in bus

    आधिकारिक तौर पर अब तक यहां सिर्फ 5-6 से मौतें हुई हैं, लेकिन अनाधिकारिक तौर पर मरने वालों का यह आंकड़ा काफी अधिक हो सकता है.

    रोहतक शहर के अंदरूनी हिस्सों और उसके आसपास के स्‍थान तक पहुंचने में सेना भी सक्षम नहीं है. वहां की स्थिति बहुत खराब है. सेना में स्थानीय भौगोलिक ज्ञान का अभाव है. यही कारण है कि अब भी यहां समस्या बनी हुई है.

    army 3

    हम अपने घर से शहर के विभिन्न भागों से उठता हुआ धुआं भी देख सकते हैं. यह वास्तव में एक भयावह दृश्य है. मेरे एक व्यापारी दोस्त ने मुझे बताया कि भीड़ ने करोड़ों रुपए नकदी भी लूट ली है. यह आंदोलन के नाम हो रही डकैती है और कुछ भी नहीं. जाट समुदाय के नेताओं को जाटों की छवि को बचाने के लिए अब यह सब रोक देना चाहिए.

    jat 4

    स्थानीय प्रशासन न तो हमारे फोन का कोई जवाब दे रहा है और ना ही उग्र भीड़ को दंडित करने के लिए कुछ भी कर रहा है. राज्‍य में इस अराजक माहौल के लिए अब हम सीधे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को जिम्मेदार मान रहे हैं. वे पूरी तरह अनुभवहीन हैं और उनमें कार्य करने के लिए साहस का भी अभाव है.

    jat row 2

    अगर यह हालात सिर्फ एक-दिन तक चलते तो हम समझ सकते हैं, लेकिन यह 5-6 दिन से चल रहा है. इससे यह स्पष्ट रूप से पता चलता है कि प्रशासन पूरी तरह से ध्वस्त हो गया है.

    अब मैं कुछ समय के लिए मेरी बहन के साथ दिल्‍ली में रहने के बारे में गंभीरता से योजना बना रहा हूं. यहां तक ​​कि अगर हिंसा समाप्त होती है तो भी रोहतक में सामान्य स्थिति बहाल करने में कई महीनों का समय लगेगा.

    मेरी राय में, रोहतक क्षेत्र ने अब से पहले कभी इस तरह का माहौल नहीं देखा होगा.

    (प्रदेश18 को मिले एक ईमेल में रोहतक के झज्‍जर रोड पर रहने वाले एक शख्‍स ने वहां के हालात हमारे साथ साझा किए. सुरक्षा कारणों से मेल भेजने वाले शख्‍स का नाम नहीं दिया गया है.)

    Tags: Haryana news, Jat agitation, Jat reservation, Jat reservation issue

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर