अपना शहर चुनें

States

Kisan Aandolan: सिंघु बॉर्डर पर हार्ट अटैक से 34 साल के किसान की मौत, अबतक 12 की गई जान

सिंघु बॉर्डर पर एक और किसान की मौत
सिंघु बॉर्डर पर एक और किसान की मौत

Kisan Aandolan: तीन कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर लगातार किसानों का प्रदर्शन जारी है.

  • Share this:
सोनीपत. तीन कृषि कानूनों का विरोध ठंडा पड़ने का नाम ही नहीं ले रहा. आंदोलन का आज 57वां दिन है. भले ही केंद्र सरकार ने किसानों (Farmers) के आगे झुकते हुए कानूनों को 2 साल तक लिए रोक दिया है, पर अभी आंदोलन जारी है. इसी बीच सोनीपत के सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर एक किसान की दिल की धड़कन थम गई. अब तक इस आंदोलन में मौतों का कुल आंकड़ा 62 हो गया है. 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च पर सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता करने से इन्कार कर दिया है, वहीं खाप पंचायतों ने दिल्ली कूच से रोकने पर बैरिकेड्स तोड़ देने की चेतावनी दी है.

बता दें कि तीन कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर लगातार किसानों का प्रदर्शन जारी है और सोनीपत सिंघु बॉर्डर पर आज फिर एक किसान की हृदय गति रुकने से मौत हो गई. सिंघु बॉर्डर पर अब तक 12 किसान इस आंदोलन में अपनी जान गवा चुके हैं. आज जिस किसान की मौत हुई वह पंजाब के लुधियाना का रहने वाला था और उसकी उम्र 34 साल थी. मृतक जगत सिंह किसान आंदोलन में पिछले कई दिन से शामिल था.

किसानों ने सरकार को ठहराया जिम्मेदार



पुलिस ने मृतक किसान के शव को क़ब्ज़े में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में भिजवा दिया है. मृतक जगत सिंह के साथी किसान ने बताया कि आंदोलन में जो भी मौतें हो रही हैं उसकी जिम्मेवार सरकार है, क्योंकि हम कोई भी चीज जबरदस्ती नहीं दे रहे हैं. यह हमारा हक है और हमारा आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक हमारी मांगे नहीं मानी जाएगी.
मामले की जांंच में जुटी पुलिस

इस मामले की जानकारी देते हुए कुंडली थाना प्रभारी रवि कुमार ने बताया कि एक किसान जगत सिंह जो कि लुधियाना का रहने वाला था उसकी मौत हो गई है. हृदय गति रुकने से मौत बताई जा रही है. पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद पूरे मामले का खुलासा हो पाएगा. परिवार वालों को सूचना दे दी गई है. वो जो भी शिकायत देंगे उस पर कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज