Home /News /haryana /

Kisan Andolan के 1 साल पूरे होने पर सिंघु बॉर्डर पर मनेगा जश्न, टलेगा किसानों का दिल्ली कूच!

Kisan Andolan के 1 साल पूरे होने पर सिंघु बॉर्डर पर मनेगा जश्न, टलेगा किसानों का दिल्ली कूच!

दिल्ली बॉर्डर पर होने वाले जश्न को लेकर बड़ी संख्या में किसान ट्रैक्टर ट्राली लेकर पहुंच रहे हैं.

दिल्ली बॉर्डर पर होने वाले जश्न को लेकर बड़ी संख्या में किसान ट्रैक्टर ट्राली लेकर पहुंच रहे हैं.

Kisan Andolan: 26 नवंबर को किसान आंदोलन का 1 साल पूरा हो रहा है. किसान नेता बूटा सिंह शादीपुर ने कहा कल यानि 26 नवंबर को दिल्ली और हरियाणा के सभी बॉर्डर पर 1 साल पूरा होने और तीन कृषि कानूनों की वापसी पर जश्न मनाया जाएगा. बूटा सिंह ने एक बड़ी बात कही कि उनकी निजी राय है कि 29 तारीख को होने वाले संसद कूच को टाल दिया जाए, सरकार ने उनकी और अब सरकार को भी समय दिया जाए. बूटा सिंह ने कहा कि उनकी एक मांग यह भी है कि जो NRI जिन्होंने किसान आंदोलन को सपोर्ट किया है. सरकार ने रोक लगा दी है. उसे हटाया जाए. जो मांगे बची हुई हैं. उन्हें सरकार जल्द पूरा कर देता कि वह जश्न मनाते हुए यहां से चले जाएं.

अधिक पढ़ें ...

सोनीपत. तीन कृषि कानूनों के खिलाफ (Three Agriculture law Protest) दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के कृषि कानूनों को रद्द (Agriculture law cancelled) करने के ऐलान के बाद भी जारी है. वहीं आज सोनीपत के सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर किसान आंदोलन (Kisan Andolan) ऑफिस में पंजाब के 32 जत्थे बंदियों की बैठक हुई. किसानों की मुख्य मांगें तो संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में रखी जाएंगी.

किसान नेता बूटा सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि उनकी निजी राय है कि फिलहाल 29 तारीख के संसद कूच को टाल दिया जाए और सरकार को मौका दिया जाए. वहीं उन्होंने कहा कि उनकी प्रमुख मांग है कि जिन NRI ने किसान आंदोलन को सपोर्ट किया, सरकार ने उन पर रोक लगा दी है. उनकी रोक को भी फौरन हटा दिया जाए.

इन मांगों पर डटे हैं किसान 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऐलान के बाद कैबिनेट में भी तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मंजूरी मिल चुकी है, लेकिन किसान अभी भी दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं. किसानों की मांग है कि उन्हें MSP की गारंटी दी जाए. जिन किसानों ने आंदोलन में अपनी जान गंवाईं हैं, उन्हें मुआवजा दिया जाए. जिन किसानों पर मुकदमे दर्ज किए गए, उनकाे वापस लिया जाए, इन मांगों पर किसान अभी भी दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. वहीं उन्होंने कहा 27 तारीख को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक है, जिसमें पूरी जानकारी दी जाएगी.

सिंघु बॉर्डर पर एक साल पूरा होने पर जश्न की तैयारी

वहीं 27 तारीख को संयुक्त किसान मोर्चे की अहम बैठक होनी है. वहीं उससे पहले 26 नवंबर को किसान आंदोलन को 1 साल पूरा हो रहा है, जिसे लेकर सिंघु बॉर्डर पर तैयारियां पूरी कर ली गई है. पंजाब के अलग-अलग जगह से किसानों का आना भी सिंघु बॉर्डर पर शुरू हो गया है. वहीं आज पंजाब के 32 ने बंदियों की बैठक हुई.

किसान नेता बूटा सिंह शादीपुर ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी मांग पूरी कर दी है. हालांकि उन्होंने 1 साल का समय लगा दिया, लेकिन वह फिर भी प्रधानमंत्री का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने तीन कृषि कानून रद्द करने का ऐलान कर दिया है. कैबिनेट में भी तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मंजूरी दे दी गई है. बूटा सिंह ने कहा कि आज 32 बंदियों की बैठक चल रही है. जिसमें MSP, शहीद किसानों को मुआवजा और जो मुकदमें दर्ज हुए हैं, उनको वापस लेने की बात हुई है.

29 नवंबर को संसद कूच को टाल दिया जाए, सरकार को देना चाहिए और टाइम

बूटा सिंह ने एक बड़ी बात कही है कि उनकी निजी राय है कि 29 तारीख को होने वाले संसद कूच को टाल दिया जाए, क्योंकि सरकार ने उनकी और अब सरकार को भी समय दिया जाए. वहीं बूटा सिंह ने कहा कि उनकी एक मांग यह भी है कि जो एनआरआई जिन्होंने किसान आंदोलन को सपोर्ट किया है. सरकार ने रोक लगा दी है. उस रोक को हटा दिया जाए. वहीं बूटा सिंह ने कहा कि जो भी मांगे बची हुई है. उन्हें सरकार जल्द पूरा कर देता कि वह जश्न मनाते हुए यहां से चले जाएं बूटा सिंह ने कहा कि कल 1 साल पूरा होने पर सभी बॉर्डर पर वह अपनी जीत का जश्न मनाएंगे.

Tags: Agricultural law return, Delhi Singhu Border, Farmers Protest, Farmers Protest on Delhi Border, Kisan Andolan

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर