Home /News /haryana /

सिंघु बॉर्डर पर निहंगों की महापंचायत: बोले- मांगें पूरी होने तक डटे रहेंगे, धर्म की बेअदबी बर्दाश्त नहीं

सिंघु बॉर्डर पर निहंगों की महापंचायत: बोले- मांगें पूरी होने तक डटे रहेंगे, धर्म की बेअदबी बर्दाश्त नहीं

सिंघु बॉर्डर से थोड़ी दूरी पर ही लखबीर का परिवार मुआवजे की मांग को लेकर धरने पर बैठा है.

सिंघु बॉर्डर से थोड़ी दूरी पर ही लखबीर का परिवार मुआवजे की मांग को लेकर धरने पर बैठा है.

Kisan Andolan Update News: सिंघु बॉर्डर पर महापंचायत में पहुंचे निहंगों ने कहा कि वह न तो किसान मोर्चा के बुलावे पर आए हैं और न ही उसके कहने से वापस जाएंगे. बाॅर्डर पर जमे रहेंगे और मांग पूरी होने तक यहां से हटेंगे नहीं. निहंगों ने ये भी कहा कि धर्म की बेअदबी बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

अधिक पढ़ें ...

    सोनीपत. केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन को 11 माह पूरे हो चुके हैं. इस बीच कुंडली बार्डर पर लखबीर सिंह की जघन्य हत्या जैसा मामला सामने आया. उसके बाद आंदोलन स्थल से निहंगों के वापस जाने को लेकर चर्चाएं तेज हो गईं. संयुक्त किसान मोर्चा के सामने भी अजीब सा संकट पैदा हो गया. निहंग धरना स्थल पर रहेंगे या चले जाएंगे इसको लेकर बुधवार को निहंगों की महापंचायत बुलाई गई थी.

    महापंचायत में निहंगों ने कहा कि किसान मोर्चा किसान आंदोलन और प्रदर्शन का सर्वेसर्वा नहीं है. निहंग न उसके बुलावे पर आए थे और न ही उसके कहने से वापस जाएंगे. बार्डर पर जमे रहेंगे और मांग पूरी होने तक नहीं हटेंगे. साथ ही निहंगों ने ये भी कहा कि यदि धर्म की बेअदबी हुई तो फिर लखबीर जैसा दूसरा निर्णय लिया जाएगा. इसी महापंचायत में तय किया गया कि निहंग इस महापंचायत के बारे में गुरुवार की शाम को 5 बजे पत्रकारों से बातचीत करेंगे. 

    निहंगों के निशाने पर किसान मोर्चा 

    किसान मोर्चा के पदाधिकारी लखबीर हत्याकांड के बाद से खुद को अपनी छवि बचाने का प्रयास कर रहे हैं. वहीं निहंगों का मानना है कि मोर्चा नेताओं के साथ छोड़ देने से पुलिस कार्रवाई हुई है. धर्म ग्रंथ के अपमान का बदला लेने के बाद से मोर्चा ने निहंगों को अलग-थलग कर दिया है. इसी के चलते निहंगों ने आज 27 अक्टूबर को महापंचायत का ऐलान किया था. इस महापंचायत में संयुक्त किसान मोर्चा के बयानों के बाद के हालात पर फैसला लिया जाना था.

    महापंचायत में होगा निर्णय, निहंग रहेंगे या वापस जाएंगे 

    निहंग बाबा राजाराम सिंह ने कहा था कि अब निहंग प्रदर्शन में रहेंगे या वापस जाएंगे, इसका निर्णय महापंचायत में होगा. इस महापंचायत में जनमत संग्रह के आधार पर फैसला लिया जाना था कि निहंगों को कृषि कानून विरोधी प्रदर्शन से वापस जाना चाहिए या नहीं. पंचायत में निहंगों ने तय किया कि फिलहाल वो यहां से नहीं जा रहे हैं. न ही वो किसान मोर्चा के बुलावे पर आए थे न ही उनके कहने पर यहां से जाने वाले हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि अब धर्म की बेअदबी पर हम खुद कार्रवाई करेंगे.

    मुआवजे की मांग को लेकर लखबीर का परिवार धरने पर 

    बता दें कि मुआवज़े की मांग को लेकर लखबीर सिंह का परिवार सिंघू बॉर्डर के धरने पर पास बैठा. परिवार के साथ घटनास्थल पर अरदास की मांग को लेकर सिंघु की तरफ बढ़ रहे किसान समिति के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दी. सिंघु बॉर्डर पर मारे गए संगरूर के रहने वाले लखबीर सिंह का परिवार आज हिंद मजदूर किसान समिति के साथ सिंघू बॉर्डर के पास पहुंचा. पीड़ित परिवार सिंघू बॉर्डर पर मुआवजे की मांग और घटनास्थल पर अरदास करने के लिए पंहुच थे लेकिन जैसे ही सिंघू बॉर्डर की तरफ बढ़े दिल्ली पुलिस ने बल प्रयोग कर दिया.
    फिलहाल पीड़ित परिवार और हिंद मजदूर किसान समिति के कार्यकर्ता नरेला इंडस्ट्रियल इलाके में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं. इनका कहना है कि जबतक मांगे पूरी नहीं हो जाती यही बैठे रहेंगे. ये इलाक़ा सिंघू बॉर्डर से कुछ किलोमीटर की दूरी पर ही है. इन्हें रोकने के लिए पुलिस ने धरनास्थल पर बेरिकेड्स लगाए हैं. साथ ही भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है.

    Tags: Delhi Singhu Border, Farmer Protest, Kisan Andolan, News Updates, Singhu Border

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर