Home /News /haryana /

OMG! शराब के केस खत्म कराने को बनवाया फर्जी डेथ सर्टिफिकेट, 12 साल मस्‍ती के बाद खुली 'मुर्दा' की पोल

OMG! शराब के केस खत्म कराने को बनवाया फर्जी डेथ सर्टिफिकेट, 12 साल मस्‍ती के बाद खुली 'मुर्दा' की पोल

सोनीपत पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

सोनीपत पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

OMG News: हरियाणा (Haryana Crime News) के सोनीपत शहर से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. दरअसल अवैध शराब सप्‍लाई के मामलों से बचने के लिए आरोपी ने अपनी पत्‍नी और भाई व भाभी की मदद से फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र (Fake Death Certificate) बनवाकर उसे उत्तराखंड हाईकोर्ट में जमा कर कर दिया, ताकि उसके खिलाफ दर्ज मामले रफा-दफा हो सकें. वहीं, 12 साल बाद एक व्‍यक्ति की शिकायत के बाद इस मामले की पोल खुल गयी है. इसके बाद सोनीपत पुलिस ने आरोपी संजय, उसकी पत्‍नी रितु और भाई नरेंद्र व भाभी माया के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. हालांकि अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

अधिक पढ़ें ...

सोनीपत. हरियाणा (Haryana Crime News) के सोनीपत शहर से एक ऐसा मामला सामने आया है जो सभी को हैरान कर देगा. शहर के रहने वाले संजय नाम के शख्स ने उत्तराखंड में कई अवैध शराब सप्लाई के दर्ज मामलों से बचने के लिए शातिराना अंदाज से अपना ही फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र (Fake Death Certificate) बनवा डाला. यही नहीं, उसने फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र उत्तराखंड हाईकोर्ट में जमा कर मामले को रफा-दफा करने का प्रयास किया है. वहीं, पुलिस ने शिकायत के बाद आरोपी, उसकी पत्नी और उसके भाई व भाभी के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

वैसे तो अवैध शराब की सप्लाई के मामलों से बचने के लिए आरोपी नए-नए रास्ते निकालते हैं, ताकि वह मामलों से बचकर निकल सकें, लेकिन सोनीपत के रहने वाले संजय नाम के शख्स ने तो एक ऐसा रास्ता निकाला जिसने सभी को हैरान कर दिया. उसने उत्तराखंड में अवैध दारू की सप्लाई के मामलों से बचने के लिए कोर्ट में अपना ही फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनवा कर जमा करवा दिया, ताकि वह मामले को रफा-दफा करवा सके.

जानें कैसे चली चाल, कैसे खुली पोल
जानकारी के अनुसार, 2007 में संजय के खिलाफ अवैध शराब की सप्लाई के मामले उत्तराखंड में दर्ज हुए थे. इसके बाद 2009 में उसके भाई नरेंद्र ने सोनीपत सिविल अस्पताल में उसकी मृत्यु की जानकारी दी और यहां मिलीभगत कर फर्जी प्रमाण पत्र बनवा कर उत्तराखंड कोर्ट में जमा करवा दिया, ताकि मामले को रफा-दफा करवाया जा सके. इस मामले में सोनीपत पुलिस ने अब 12 साल बाद संजय, उसकी पत्‍नी रितु और भाई नरेंद्र व भाभी माया के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. वहीं, पुलिस ने मामले में अब गहनता से जांच शुरू कर दी है. वहीं, आरोपी मजे से अपना जीवन काट रहा था.

पुलिस ने कही ये बात
इस मामले में सिटी थाना के एसआई सुरेंद्र कुमार ने जानकारी दी कि विकास नगर निवासी भंवर सिंह ने शिकायत दी थी कि सोनीपत के रहने वाले संजय कुमार के खिलाफ 2007 में उत्तराखंड में दो अलग-अलग मामले दर्ज हुए थे. दोनों ही मामले अवैध शराब सप्लाई करने के दर्ज हुए थे. इसके बाद उत्तराखंड में अपने मामलों से बचने के लिए उसने एक फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाया है. नरेंद्र के भाई संजय ने सोनीपत सिविल अस्पताल में 20 जुलाई 2009 को सूचना दी थी कि उसके भाई की डेथ हो गई है और मिलीभगत कर फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाकर उत्तराखंड कोर्ट में जमा करवा दिया, ताकि मामले को रफा-दफा करवाया जा सके. वहीं, अब इस मामले में हमने उत्तराखंड के आरोपी संजय, उसकी पत्‍नी और भाई नरेंद्र व भाभी माया के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. हालांकि मामले में भी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है. जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. वहीं, मामले में गहनता से जांच की जा रही.

Tags: OMG News, Sonipat, Sonipat police, Uttarakhand high court

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर