सोनीपत: हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल का विरोध, किसानों और पीटीआई टीचर्स ने दिखाए काले झंडे

मंत्री को काले झंडे दिखाते हुए
मंत्री को काले झंडे दिखाते हुए

किसानों और पीटीआई टीचर्स (PTI teachers) के विरोध को देखते हुए भारी पुलिस बल गांव में तैनात किया गया था. इसके बावजूद प्रदर्शनकारी डटे रहे.

  • Share this:
सोनीपत. कृषि अध्यादेशों को लेकर बीजेपी के मंत्रियों का विरोध शुरू हो गया है. जहां हरियाणा और पंजाब (Haryana and Punjab) में इन बिलों को लेकर पुरजोर विरोध हो रहा है, वहीं गुरुवार को गोहाना के बरोदा हलके के गांव मुंडलाना में हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल (JP Dalal) का किसानों ने जमकर विरोध करते हुए उन्हें काले झंडे दिखाये. इस विरोध में हरियाणा के बर्खास्त पीटीआई टीचर्स भी किसानों के समर्थन में आये. किसानों और पीटीआई टीचर्स के विरोध को देखते हुए भारी पुलिस बल गांव में तैनात किया गया था, लेकिन इसके बावजूद किसानों ने कृषि मंत्री के खिलाफ नारे के साथ काले झंडे दिखाते रहे.

कृषि मंत्री जेपी दलाल बरोदा उपचुनाव के प्रभारी हैं और वह गांव मुंडलाना में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करने के लिए आये थे. कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि वह 250 करोड़ रुपए की परियोजना का काम बरोदा हलके के लिए करेंगे. जो काम आज तक नहीं हुआ वो काम बीजेपी सरकार ने पिछले 6 महीने के दौरान किया है. किसी का इस तरह से विरोध करना अच्छी बात नहीं है.

जेजेपी और बीजेपी नेताओं को बरोदा में नहीं घुसने देंगे
किसी की कोई समस्या है तो विरोध करने के बजाय मिलें. 25 तारीख के किसानों के भारत बंद के ऐलान को लेकर कृषि मंत्री ने कहा कि भारत बंद का ऐलान किसानों ने नहीं, बल्कि कांग्रेस पार्टी ने किया है. वहीं भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष ने कहा कि हम बीजेपी और जेजेपी के किसी भी नेता को बरोदा के किसी भी गांव में घुसने नहीं देंगे. इनका हर गांव में विरोध होगा.
पीटीआई टीचर्स ने कही ये बात


वहीं बर्खास्त पीटीआई टीचर्स ने कहा कि है सरकार किसान विरोधी है. उन्‍होंने कहा कि वे किसानों के साथ मिलकर कृषि विधेयकों का विरोध करेंगे. इस सरकार ने 1983 पीटीआई टीचर्स को बर्खास्त किया है. यह सरकार जनविरोधी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज