लाइव टीवी

रंग ला रही है बेटी बचाओ मुहिम, सोनीपत में लिंगानुपात 870 से बढ़कर 937 हुआ

Nitin Antil | News18 Haryana
Updated: February 21, 2019, 3:19 PM IST

2015 में प्रधानमंत्री मोदी ने सोनीपत जिले में बेटियों की जन्म पर चिंता जताई थी, अब प्रयासों के लिए कर चुके है सम्मानित.

  • Share this:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की बेटियों को बचाने और पढ़ाने के नारे के साथ साल 2015 में हरियाणा के पानीपत से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुवात की थी. उस समय हरियाणा के कई जिलों में बेटियों के जन्म दर की हालात बेहद खराब थी. सोनीपत जिले को देश के पहले 100 जिलों में शामिल किया गया था, जहां पर बेटियों की जन्म दर सबसे खराब थी. सोनीपत जिले में उस समय 1 हज़ार बेटो पर 870 बेटियां थी. बेटा पौदा करने की चाह में बेटियों का कोख में ही कत्ल किया जा रहा था. ऐसे में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बेटियों को बचाने का जिम्मा उठाया.  4 साल के बाद सोनीपत में बेटियों की जन्म दर 870 से बढ़कर 937 जा पहुंची है. जिसके लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात में सोनीपत जिले की तारीफ कर चुके हैं. पिछले साल झुंझनु में सोनीपत जिले को इसके लिए सम्मान भी दिया गया.

सोनीपत नागरिक हॉस्पिटल में सीएमओ जेएस पूनिया से ने न्यूज 18 से खास बातचीत में बताया कि कैसे उनकी टीम ने बेटियों को बचाने का प्रयास किया और उसमे कामयाब हुए. पुनिया ने बताया कि जब बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुवात हुई तो उस समय सोनीपत जिले के हालात बेहद खराब थे. बेटियों को बोझ समझकर कोख में ही मार दिया जाता था. स्वास्थ विभाग ने लोगों को जागरूक करने के साथ साथ ऐसी कत्लगाहों के खिलाफ अभियान चलाया जहां पर कोख में बेटियों को मारा जाता था. अब 4 साल के प्रयास के बाद स्वास्थ्य विभाग ने हरियाणा, यूपी और दिल्ली में 60 रेड डाली जिसमे लिंग जांच और गर्भपात के अड्डो को सील कर आरोपियों को जेल भिजवाया.

ये भी पढ़ें- विमान हादसे में शहीद विंग कमांडर साहिल गांधी का पार्थिव शरीर पहुंचा हिसार

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना ने आम लोगों को भी खूब प्रभावित किया है. लोगों में जागरूकता बढ़ रही है और अब वे कह रहे हैं कि बेटियां किसी भी मायने में बेटों से कम नही हैं. बेटियां अपने माँ- बाप की शान हैं.

बता दें कि सोनीपत में अब बेटियों की लिंगानुपात 937 प्रति हजार पहुंच चुकी है. ग्रामीण इलाकों में 16 गांव में ऐसे है जहां पर बेटियों की लिंगानुपात 1 हज़ार से ज्यादा है. सोनीपत के पुरखास गांव में ये आंकड़ा 1037 पर पहुंच गया है. जहां स्वास्थ्य विभाग सरकारी स्कूल की उन बच्चियों को डेढ़ लाख का चेक देकर सम्मानित किया, जिन्होंने 10वी क्लास में पहला, दूसरा ओर तीसरा स्थान हासिल किया. बेटियों ने भी प्रधानमंत्री के बेटी बचाओ अभियान की जमकर तारीफ की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सकारात्मक सोच, लोगो मे बढ़ती जागरूकता ओर स्वास्थ्य विभाग के प्रयासों ने सोनीपत में इस मुश्किल दिख रहे मुकाम को हासिल करने में सफलता हासिल की है.

ये भी पढ़ें- शहीद संदीप के घर पहुंचे सीएम खट्टर, परिवार को 50 लाख और एक सदस्य को नौकरी देगी सरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सोनीपत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 21, 2019, 3:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...