सोनीपत: बेमौसमी बारिश किसानों पर पड़ी भारी, मंडियों में पड़ा हजारों क्विंटल गेहूं भीगा

हरियाणा के कई जिलों में हुई बारिश ने बढ़ाई किसानों की चिंता

हरियाणा के कई जिलों में हुई बारिश ने बढ़ाई किसानों की चिंता

गेहूं की बोरिया भीग गई है, जिसके कारण गेहूं में नमी की मात्रा बढ़ जाएगी. जब तक गेहूं नहीं सूखेगा, तब तक गेहूं की खरीद सरकारी एजेंसियों द्वारा नहीं की जाएगी.

  • Share this:
सोनीपत. गोहाना की अनाज मंडी में एक बार फिर फसल उठान न होने के कारण आढ़तियों का लाखों क्विंटल अनाज भीग गया है. जहां गोहाना का प्रशासन लाख दावे करते हुए नजर आता है कि समय पर उठान हो रहा है. लेकिन धरातल पर बारिश ने प्रशासन की पोल खोल कर रख दी है. गोहाना की अनाज मंडी में आढ़तियों ने बारिश से बचने के लिए काफी प्रयास जरूर किए.  लेकिन उठान होने के कारण होने के कारण सभी बोरियों को ढक पाना मुश्किल रहा है और इसी कारण एक बार फिर गोहाना की अनाज मंडी में सरकारी एजेंसियों की लचर व्यवस्था के कारण लाखों किवंटल बारिश की भेंट चढ़ गया है.

बता दें कि प्रदेशभर की मंडियों में किसानों का अनाज लगातार पहुंच रहा है. जहां किसान लगातार अपनी फसल को मंडी में लेकर पहुंच रहा है. जहां अलग-अलग मंडियों में फसल का उठान न होने के कारण किसानों को और आढ़तियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. वहीं लगातार मौसम दी किसान और आढतियों के साथ आंख मिचौली का खेल खेल रहा है. गोहाना की अनाज मंडी में पिछले कई दिनों से फसल का उठाना होने के कारण अनाज मंडी में आढ़तियों ने काफी ऊंचे टीले लगाए हैं.

मौसम में अचानक हुई खराबी के कारण गोहाना में अनाज मंडी में रखा हुआ लाखों किवंटल अनाज मंडी प्रशासन और खरीद एजेंसियों की लचर व्यवस्था के कारण बारिश की भेंट चढ़ गया है. आढ़तियों ने काफी फसल को ढकने का प्रयास किया लेकिन उठान होने के कारण सभी गेहूं की बोरियों को ढक पाना असंभव कार्य है और इसी कारण आज बारिश आई और बारिश के कारण गेहूं की बोरियां बारिश में भीग गई है. मजदूर भीगी हुई बोरियों को अलग करते हुए नजर आए.

गौरतलब है कि अब गेहूं की बोरिया भीग गई है, जिसके कारण गेहूं में नमी की मात्रा बढ़ जाएगी और जब तक गेहूं नहीं सूखेगा, तब तक गेहूं की खरीद सरकारी एजेंसियों द्वारा नहीं की जाएगी और खरीद करने के दौरान कुछ नहीं बाकी रह जाती है तो उसे नमी बता कर कटौती की जाएगी. या फिर गोदाम से वापस भेज दी जाएगी. ऐसी तस्वीरें लगातार पूरे प्रदेश भर से देखने को मिल रही है. हालांकि कमियां बता कर अनाज वापस भेजने की प्रक्रिया पर लगातार आढतियों द्वारा विरोध किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज