लाइव टीवी

मजदूर के हत्यारे को सोनीपत न्यायालय ने उम्रकैद और 41 हजार जुमाने की सजा सुनाई

Nitin Antil | News18 Haryana
Updated: January 10, 2020, 1:27 PM IST
मजदूर के हत्यारे को सोनीपत न्यायालय ने उम्रकैद और 41 हजार जुमाने की सजा सुनाई
सोनीपत अदालत ने कहासुनी की रंजिश में मजदूर की गला काटकर हत्या करने के दोषी को उम्रकैद की सजा सुनाई है.

सोनीपत (Sonipat) जिला एवं सत्र न्यायाधीश वाईएस राठौर की अदालत ने कहासुनी की रंजिश में मजदूर (Labour Murder) की गला काटकर हत्या करने के दोषी को उम्रकैद की सजा सुनाई है. अदालत ने दोषी पर 41,000 रुपये का जुर्माना भी किया है. जुर्माना नहीं देने पर एक साल अतिरिक्त कैद की सजा भुगतनी होगी.

  • Share this:
सोनीपत. जिला एवं सत्र न्यायाधीश वाईएस राठौर की अदालत ने कहासुनी की रंजिश में मजदूर (Labour) की गला काटकर हत्या (Murder) करने के दोषी को उम्रकैद (Jailed for whole life) की सजा सुनाई है. अदालत ने दोषी पर 41,000 रुपये का जुर्माना भी किया है. जुर्माना नहीं देने पर एक साल अतिरिक्त कैद की सजा भुगतनी होगी. उत्तरप्रदेश में हापुड़ के गढ़ मुक्तेश्वर स्थित कल्याणपुर के सूबे सिंह ने 7 दिसंबर, 2018 को सोनीपत पुलिस को बताया कि वह अपने गांव के दीपक व हापुड के गांव भहना ढोलपुर के मुकेश के साथ गांव बड़ी में किराए पर रहता है. उसने बताया कि मुकेश पहले हापुड़ के गांव कहनौर के रहने वाले प्रभुदयाल के साथ बड़ी औद्योगिक क्षेत्र स्थित एक फैक्ट्री में नौकरी करता था. उसने बताया कि करीब दो माह पहले दोनों की मामूली कहासुनी हो गई थी, जिसके बाद दोनों अलग-अलग फैक्ट्री में नौकरी करने लगे थे.

प्रभुदयाल ने पुरानी रंजिश का लिया बदला

सूबे सिंह ने बताया कि 6 दिसंबर, 2018 की रात को 11 बजे प्रभुदयाल पुरानी कहासुनी की रंजिश का बदला लेने के लिए मुकेश के कमरे में घुस आया था. मुकेश कमरे में अकेला था. उसने मुकेश की गर्दन पर गंडासी से कई वार कर उसकी बेरहमी से हत्या कर दी थी. इसी दौरान मुकेश का दोस्त सूबे सिंह भी कमरे में पहुंच गया था, जिसे देखकर प्रभुदयाल मौके से फरार हो गया था. इस हमले में गंभीर रूप से घायल हुए मुकेश ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था.

इन धाराओं के आधार पर चला मुकदमा

पुलिस ने मृतक के दोस्त सूबे सिंह की शिकायत पर प्रभुदयाल के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया था. इस मामले में कार्रवाई करते हुए आरोपी प्रभुदयाल को गिरफ्तार कर लिया था. पुलिस ने इस मामले में आरोपी की निशानदेही पर वारदात में प्रयुक्त गंडासी बरामद कर लिया था. पुलिस ने उसे अदालत में पेश कर जेल भेज दिया था. वीरवार को मामले की सुनवाई करते हुए सेशन जज वाईएस राठौर की अदालत ने प्रभुदयाल को दोषी करार दिया है.

अदालत ने उसे भारतीय दंड संहिता की धारा 302 में उम्रकैद व 20,000 रुपये जुर्माना, धारा 449 में 10 साल कैद व 20,000 रुपये जुर्माना और धारा 506 में दो साल कैद व 1000 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है. जुर्माना नहीं देने पर एक साल अतिरिक्त कैद की सजा भुगतनी होगी. सभी सजाएं एक साथ चलेंगी.

यह भी पढ़ें: जाति देखकर हस्ताक्षर करने का आरोप! तहसीलदार ने नायब तहसीलदार को किया लहूलुहानसाल 2019 में हुए गुरुग्राम रेल हादसों के सामने आए चौंका देने वाले आंकड़े...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सोनीपत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 10, 2020, 1:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर