होम /न्यूज /हरियाणा /

साइबर ठगों ने बिजली उपकरण निर्माता कंपनी ECE के खाते से उड़ाए 1.89 करोड़, कई राज्यों में छापे

साइबर ठगों ने बिजली उपकरण निर्माता कंपनी ECE के खाते से उड़ाए 1.89 करोड़, कई राज्यों में छापे

साइबर ठगों ने बिजली उपकरण निर्माता कंपनी ईसीई के खाते से उड़ाए 1.89 करोड़.साइबर ठगों ने बिजली उपकरण निर्माता कंपनी ईसीई के खाते से उड़ाए 1.89 करोड़, खुलासे के लिए पुलिस ने कई राज्यों में छापे मारे.

साइबर ठगों ने बिजली उपकरण निर्माता कंपनी ईसीई के खाते से उड़ाए 1.89 करोड़.साइबर ठगों ने बिजली उपकरण निर्माता कंपनी ईसीई के खाते से उड़ाए 1.89 करोड़, खुलासे के लिए पुलिस ने कई राज्यों में छापे मारे.

Cyber Crime News: सोनीपत के बहालगढ़ रोड स्थित बिजली उपकरण बनाने वाली कंपनी के बैंक खाते को हैक कर लिया गया. साइबर ठगों ने खाते से 1.89 करोड़ रुपये उड़ा दिया. इस धोखाधड़ी के मामले में साइबर टीम ने जांच तेज कर दी है. धोखाधड़ी व आईटी एक्ट के मामले में ठगों तक पहुंचने के लिए तीन टीम बनाई गई हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

पश्चिमी बंगाल, पंजाब और महाराष्ट्र के कई खातों में ट्रांसफर हुई रकम
तीन राज्यों में साइबर ठगों ने एटीएम से निकाले पैसे, दूसरे खातों में भी ट्रांसफर
साइबर ठगों को शिकंजे में लेने कई राज्यों में दबिश, खातों को खंगाल रही पुलिस

सोनीपत. सोनीपत के बहालगढ़ रोड स्थित बिजली उपकरण बनाने वाली कंपनी के बैंक खाते को हैक कर 1.89 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में साइबर टीम ने जांच तेज कर दी है. पुलिस के लिए यह मामला चुनौती बना हुआ है. धोखाधड़ी व आईटी एक्ट के मामले में ठगों तक पहुंचने के लिए तीन टीमें बनाई गई हैं. टीम एटीएम बूथ के सीसीटीवी के आधार पर जांच को आगे बढ़ा रही है. पुलिस ने पैसे ट्रांसफर करने में प्रयुक्त हुए बैंक खातों की जानकारी जुटानी शुरू कर दी है. इसमें अभी तक करीब दो दर्जन बैंक खातों का प्रयोग हो चुका है.

सोनीपत में बिजली के ट्रांसफार्मर बनाने वाली कंपनी ईसीई के साथ हुई ठगी साइबर अपराध का बड़ा मामला है. मामले को लेकर कंपनी के सीनियर मैनेजर प्रदीप रस्तोगी ने मुकदमा दर्ज कराया है. कंपनी प्रबंधन के अनुसार साइबर ठगों ने उनके किसी अधिकारी, कर्मचारी से संपर्क ही नहीं किया है और 1.89 करोड़ रुपये कंपनी के खाते से ट्रांसफर कर लिए गए. मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने इस मामले में ठगी के साथ ही आईटी एक्ट की धारा भी जोड़ी हैं. जिले में साइबर थाना बनने के बाद यह साइबर ठगी का सबसे बड़ा मामला है.

पश्चिम बंगाल, पंजाब और महाराष्ट्र के कई खातों में ट्रांसफर हुई रकम
साइबर थाना पुलिस से इस मामले में लगातार अपडेट लिया जा रहा है. पुलिस को जांच में साइबर ठगों की संख्या कई होने की जानकारी मिली है. प्रारंभिक जांच से लगता है कि सब कुछ पहले से ही षड्यंत्र कर किया गया था. साइबर ठगी को शाम को पांच बजे के बाद अंजाम दिया गया. जब बैंकों के बंद होने का समय था. इसके साथ ही ठगी के पैसे पश्चिमी बंगाल, पंजाब और महाराष्ट्र के दर्जनभर से ज्यादा खातों में ट्रांसफर किए गए, जिससे एक ही खाते में बड़ी राशि पहुंचने पर सिस्टम उसको सीज न कर दे.

तीन राज्यों में  साइबर ठगों ने एटीएम से निकाले पैसे, दूसरे खातों में भी ट्रांसफर
साइबर ठगों के साथी तीनों राज्यों में पहले से ही तैयार थे. उन्होंने दर्जनभर एटीएम का प्रयोग कर काफी राशि निकाल ली. उसके बाद बचे हुए पैसे दूसरे खातों में ट्रांसफर कर दिए गए थे. पुलिस पता लगा रही है कि तीनों राज्यों में एक ही साइबर गैंग काम कर रहा था या वहां पर दूसरे गैंग के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया.

साइबर ठगों को शिकंजे में लेने के लिए कई राज्यों में दबिश
इस मामले की जानकारी देते हुए साइबर थाना प्रभारी राजीव कुमार ने बताया कि बिजली के उपकरण बनाने वाली कंपनी के साथ करोड़ों रुपये की सायबर ठगी का मामला सामने आया हैं. साइबर ठगों द्वारा जिन खातों में ठगी के पैसे भेजे गए उनको तुरंत खाली कर लिया गया. बड़ी धनराशि दूसरे खातों में ट्रांसफर कर ली गई. मामले में तीन टीम लगी है. अलग.अलग प्रदेशों में छापे मारे जा रहे हैं. जल्द ही साइबर गैंग के सदस्यों की गिरफ्तारी शुरू कर दी जाएगी.

Tags: Bank fraud, Cyber ​​Thug, Haryana news, Sonipat news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर