गुरुग्राम वैज्ञानिक सुसाइड केस: जहां हुई चार लोगों की मौत, उस कमरे में मिला तीसरा दरवाज़ा

जिस कमरे में श्रीप्रकाश ने पत्नी सहित बेटे और बेटी की हत्या करने के बाद आत्महत्या की थी उस कमरे के दोनों बंद दरवाज़े तोड़कर पुलिस ने शवों को बाहर निकाला था. लेकिन जांच के दौरान पुलिस को उस कमरे में तीसरा दवाजा मिला है.

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 12:48 PM IST
गुरुग्राम वैज्ञानिक सुसाइड केस: जहां हुई चार लोगों की मौत, उस कमरे में मिला तीसरा दरवाज़ा
प्रतीकात्मक फोटो- वैज्ञानिक ने पत्नी और बेटे-बेटी की चाकू से हत्या करने के बाद खुद आत्महत्या कर ली थी.
नासिर हुसैन
नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 12:48 PM IST
गुरुग्राम में वैज्ञानिक श्रीप्रकाश के परिवार की आत्महत्या का केस पुलिस के लिए अभी भी एक पहेली बना हुआ है. अब तो 8 दिन बाद जांच में सामने आए तीसरे दरवाज़े ने इस केस को और उलझा दिया है. पुलिस अब इस केस में किसी दूसरे के शामिल होने से भी इंकार नहीं कर रही है.

तीसरा दरवाज़ा आने के बाद अब पुलिस की जांच में तीन बिन्दु आ गए हैं. वहीं श्रीप्रकाश के घर वाले घटना वाले दिन से ही मुन्ना (श्रीप्रकाश) को बेकसूर बता रहे हैं. उनका कहना है कि मुन्ना अपने तो दूर की बात किसी बाहर वाले की हत्या भी नहीं कर सकता.



2 जुलाई को श्रीप्रकाश ने अपनी पत्नी सहित बेटे और बेटी की हत्या करने के बाद आत्महत्या कर ली थी. मौके पर पहुंची पुलिस ने कमरे के दोनों बंद दरवाज़े तोड़कर चारों शवों को बाहर निकाला था. जांच के दौरान पुलिस को दो अहम बिन्दु हाथ लगे थे. एक बेटी के मोबाइल का पूरा डाटा किसने डीलीट कर मोबाइल पानी से भरी बाल्टी में डाला. दूसरा बेटी की हत्या पहले क्यों कि. यह वो दो सवाल थे जिनका जवाब पुलिस तलाश रही थी.

लेकिन जांच के दौरान ही पुलिस को उस कमरे में तीसरा दरवाजा मिला है जहां श्रीप्रकाश ने परिवार की हत्या करने के बाद आत्महत्या की थी. 8 दिन बाद सामने आए इस तीसरे दरवाज़े ने पुलिस को चौंका दिया है. श्रीप्रकाश की बहन और बहनोई पहले दिन से ही शक जता रहे हैं कि यह हत्या किसी और ने की है. वह लगातार सीबीआई जांच की भी मांग कर रहे हैं.

प्रतीकात्मक फोटो- पुलिस ने खुद बंद कमरे के दो दरवाज़े तोड़कर शवों को बाहर निकाला था.


हालांकि पुलिस को मौके से एक सुसाइड नोट भी मिला था. ढाई लाइन के इस नोट में लिखा था कि आर्थिक तंगी के चलते मैं अब घर-परिवार चलाने में असमर्थ हूं. जबकि घर में चार महंगी नस्ल के कुत्ते भी पल रहे हैं. एक हजार बच्चों वाले 5 चैरिटी स्कूल भी चल रहे थे. स्कूल में 50 लोगों का स्टाफ भी था.

ये भी पढ़ें- गुरुग्राम सामूहिक हत्याकांड: वैज्ञानिक ने 30 मिनट में खत्म कर दिया था परिवार
Loading...

बस हादसा: 30 मौत के बाद एक और लापरवाही, शराब के नशे में मिला बस ड्राइवर
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...