Haryana News: ऑक्सीजन प्लांट के सामने 250 बेड का अस्पताल एक सप्ताह में होगा तैयार

पानीपत में जिस स्थान पर 250 बेड को कोविड अस्पताल बनना है, वहीं मुआयना करने पहुंचे अधिकारी.

पानीपत में जिस स्थान पर 250 बेड को कोविड अस्पताल बनना है, वहीं मुआयना करने पहुंचे अधिकारी.

औद्योगिक नगरी पानीपत (Panipat) में ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen plant) के सामने 250 बेड का अस्पताल (Hospital) एक सप्ताह में बनकर तैयार होगा. इसके लिए अधिकारियों ने जमीन का मुआयना कर लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2021, 5:21 PM IST
  • Share this:
पानीपत. प्रदेश में कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के चलते सरकार चिंतित दिखाई देने लगी है. इसको देखते हुये मनोहर लाल सरकार औद्योगिक नगरी में कोविड अस्पताल (Covid Hospital) की सुविधा देगी. जिसका दौरा बीते दिनों प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किया था. लेकिन, ग्रामीणों के विरोध के बाद प्रशासन ने पुरानी जगह में ही अस्पताल बनाने का निर्णय लिया है. इसके लिए पानीपत उपायुक्त ने आईओसीएल के अधिकारियों के साथ जगह का दौरा किया और एक सप्ताह में 250 बेड़ों के अस्पताल के निर्माण का आदेश दिया है. यह अस्पताल 11 एकड़ जमीन में बनेगा.

लोगों को मिलेगी कोविड अस्पताल की सौगात

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोमवार को रिफाइनरी स्थित ऑक्सीजन प्लांट और उस साइट का दौरा किया था, जहां 500 बेड का कोविड अस्पताल बनाया जाना है. मुख्यमंत्री ने उपायुक्त धर्मेन्द्र सिंह को ऑक्सीजन प्लांट के सामने वाले स्थान पर ही जगह का चयन कर अस्पताल का निर्माण जल्द से जल्द करवाने के निर्देश दिए थे. इससे पूर्व जिला प्रशासन द्वारा जो स्थान 500 बेड के अस्पताल के लिए चिन्हित किया गया था, उसे मुख्यमंत्री ने खारिज करते हुए कहा कि यह स्थान ऑक्सीजन प्लांट से करीब 1.5 किलोमीटर की दूरी पर है.

कोरोना के बढ़ते मामलों से चिंतित हरियाणा सरकार, CM खट्टर बोले- दिल्ली से सटे जिलों में बुरा हाल
नए स्थान पर बनने से करीब 1 किलोमीटर की दूरी कम होगी और ऑक्सीजन पाइप भी कम डालनी पड़ेगी. लेकिन, इस योजना को बाल जाटान के ग्रामीणों के विरोध के बाद रोक दिया गया और जिस जगह को पहले प्रशासन ने  चिन्हित किया था उस जगह पर ही अब अस्पताल के निर्माण का फैसला लिया है. उपायुक्त ने कहा कि 11 एकड़ में इस अस्पताल का निर्माण होगा. उन्होंने कहा कि अगर अधिक जमान की जरूरत पड़ी तो पंचायती जमीन का उपयोग भी किया जाएगा.

पहले चरण में  250 बेड तैयार होंगे

पहले चरण में 250 बेड तैयार करने शुरू किए जाएंगे. तीन दिन में इसका ढांचा खड़ा हो जाएगा. उसके बाद 7 दिन बाद यह अस्पताल बनकर तैयार हो जाएगा. बाकी 250 बेड उसके बाद आगामी 15 दिन तक तैयार कर दिए जाएंगे. उपायुक्त धर्मेंद्र सिंह ने आज आईओसीएल के अधिकारियों के साथ जगह का दौरा किया. उन्होंने संबंधित अधिकारियों को मौके पर ही बुलाए गए ठेकेदार को निर्देश दिए कि यह कार्य युद्ध स्तर पर चलना चाहिए. सरकार और जिला प्रशासन की ओर से हर संभव सहायता प्रदान की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज