Home /News /haryana /

बीजेपी सांसद और अभिनेता विनोद खन्ना को कैंसर

बीजेपी सांसद और अभिनेता विनोद खन्ना को कैंसर

पठानकोट हमले के बाद मौके पर न पहुंच पाने के पीछे भाजपा सांसद और हिंदी फिल्मों के दिग्गज अभिनेता रहे विनोद खन्ना ने बड़ा खुलासा किया है कि वो इस समय कैंसर की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं.

पठानकोट हमले के बाद मौके पर न पहुंच पाने के पीछे भाजपा सांसद और हिंदी फिल्मों के दिग्गज अभिनेता रहे विनोद खन्ना ने बड़ा खुलासा किया है कि वो इस समय कैंसर की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं.

पठानकोट हमले के बाद मौके पर न पहुंच पाने के पीछे भाजपा सांसद और हिंदी फिल्मों के दिग्गज अभिनेता रहे विनोद खन्ना ने बड़ा खुलासा किया है कि वो इस समय कैंसर की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
    पठानकोट हमले के बाद मौके पर न पहुंच पाने के पीछे भाजपा सांसद और हिंदी फिल्मों के दिग्गज अभिनेता रहे विनोद खन्ना ने बड़ा खुलासा किया है कि वो इस समय कैंसर की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं.
    जिसकी इलाज और बीमार होने की वजह से वो यहां नहीं पहुंच पाए हैं. उन्होंने कहा कि यही वजह है कि पिछले कुछ दिनों से वो अपने संसदीय क्षेत्र गुरुदासपुर से भी कटे हुए हैं.
    विनोद खन्ना ये खुलासा गुरुदासपुर में किया है. उस समय उनके साथ पत्नी कविता खन्ना, जिले के सभी विधायक मौजूद थे
    विनोद खन्ना ने कहा कि अगर वो राजनीतिक जीवन में नहीं होते तो इस बात का खुलासा कभी नहीं करते. उन्होंने कहा कि 2010 में उन्हें बड़ी आंत में कैंसर होने का पता चला था. उस समय उनकी बेटी श्रद्धा 10 वीं की छात्रा थी और उसे उस समय माता-पिता के भावनात्मक सपोर्ट की जरूरत थी इसलिए इस बात को सिर्फ मैंने अपनी पत्नी को बताया था.
    डॉक्टरों ने कहा 80 फीसद फिट
    विनोद खन्ना ने ये बात कहकर सबको राहत की सांस दी कि उन्हें डॉक्टरों ने 80 फीसद फिट बताया है. डॉक्टरों के मुताबिक उनकी बीमारी ठीक हो रही है. विनोद खन्ना ने कहा कि कैंसर के साथ उनकी जंग में वो खुद को जीता महसूस कर रहे हैं. अब धीरे-धीरे सब ठीक हो रहा है.
    तिब्बत के आयुर्वेद से कराया इलाज
    विनोद खन्ना ने कहा कि अपने चार दोस्तों की सलाह जिनको ये बीमारी हो चुकी थी, की सलाह पर उन्होंने धर्मशाला के तिब्बत आयुर्वेद दवा से इलाज कराया साथ में एलोपैथ का भी इलाज चला.
    बीजेपी सांसद ने बताया कि उन्हें कीमोथैरिपी से नहीं गुजरना लेकिन सर्जरी करानी पड़ी. उन्होंने दुख जताया कि धर्मशाला के इलाज पर उन्होंने ज्यादा भरोसा लेकिन इसी पद्धति से इलाज कराने के लिए बार-बार जर्मनी जाना पड़ा. उनके कहने का मतलब था कि हमारी देसी चिकित्सा पद्धति का महत्व विदेशों में ज्यादा समझा गया जबकि हमारे देश में इसको विकसित नहीं किया गया.
    उन्होंने कहा कि उनकी चारो दोस्त जिनको ये गंभीर बीमारी हो चुकी थी तिब्बत से इलाज कराकर अब बिलकुल स्वस्थ हैं.

    Tags: Gurdaspur, Vinod Khanna

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर