यमुनानगर: भाभी के साथ देवर ने की छेड़छाड़, पति ने तीन तलाक बोल घर से निकाला

छेड़छाड़ का विरोध करने पर मिली ये सजा
छेड़छाड़ का विरोध करने पर मिली ये सजा

हरियाणा के यमुनानगर में शादी के महज 3 महीने बाद ही दहेज को लेकर एक महिला के साथ पहले छेड़छाड़ फिर तीन तलाक (Triple Talaq) देने का मामला सामने आया. पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर 4 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया.

  • Share this:
यमुनानगर. हरियाणा के यमुनानगर (Yamunangar) में दहेज को लेकर महिला के साथ छेड़छाड़ और फिर तीन तलाक बोलकर घर से निकालने का मामला सामने आया है. शादी के महज 3 महीने बाद ही महिला के साथ उसके रिश्ते के एक देवर छेड़छाड़ की कोशिश और इज्जत पर हाथ डालना चाहा. महिला ने जब इसका विरोध किया, तो उसके पति तीन तलाक (Triple Talaq) बोलकर घर से निकाल दिया. महिला कानून की छात्रा है, उसकी शिकायत पर पुलिस ने पति, सास, ननद और देवर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. महिला का आरोप है कि दहेज को लेकर ससुराल में उसे प्रताड़ना दी गई. भूखा-प्यासा रखकर एक कमरे में बंद कर दिया गया.

यमुनानगर के गांव मंडोली की रहने वाले सायरा (काल्पनिक नाम) के अब्बू छोटे से जमींदार है और खुद ही किसानी करते हैं. सायरा एलएलबी कर रही है, तो उसका भाई इंजीनियरिंग कर रहा है. इसी साल 29 फरवरी को सायरा की शादी हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर में कर दी गई. मगर आरोप है कि शादी के कुछ दिन बाद से ही उसके ससुराल वाले उसे कम दहेज लाने के ताने देने लगे. पिता ने दहेज में बेटी को अल्टो कार दी थी, मगर ससुराल वालों को बड़ी कार स्विफ्ट डिजायर चाहिए थी. सायरा की मानें तो उसके पति के साथ सास-ससुर और ननद सभी मिलकर उसे अपने अब्बू के घर से 2 लाख रुपए लाने का दबाव बनाने लगे.

बीमार होने पर नहीं दी दवा



बेटी के साथ ससुराल में जुल्म की बात सुनने के बाद लाचार पिता ने ससुराल वालों को 2 लाख रुपए दे दिए. कुछ दिनों तक तो सब ठीक रहा, मगर फिर से ससुराल वालों ने सायरा पर सितम ढाहने शुरू कर दिए. सायरा ने बताया कि उसे घर के एक कमरे में कैद कर दिया गया, भूखा-प्यासा रखा गया, बीमार हुई तो दवा भी नहीं दिलाई गई. ऐसी हालत में भी शारीरिक यातनाओं के साथ मानसिक टॉर्चर करने के लिए ननद ने ताने देने शुरू कर दिए कि कार अभी भी छोटी है, उसे भी सोने की चेन चाहिए.
पढ़ाई करने पर दी हाथ काटने की धमकी

आरोप है कि विरोध करने पर ननद द्वारा भी मार पिटाई की जाती थी. जज बनने का सपना देखने वाली सायरा एलएलबी की छात्रा है. उसने बताया कि शादी से पहले भी उसके ससुराल वालों ने वायदा किया था, कि उन्हें ना तो उसकी पढ़ाई से कोई ऐतराज है और ना ही पढ़ाई के बाद उसके कोर्ट में बैठने पर. मगर शादी के बाद वह अपनी बात से मुकर गए. ससुर ने इसकी नजरों के सामने वकालत की सभी किताबों को आग लगा दी और यह धमकी भी दी कि अगर दोबारा पढ़ाई का नाम लिया, तो वह इसके हाथ कटवा देंगे.

सब्र का बांध टूटा, PM मोदी से की अपील

सायरा का आरोप है कि जब वह अपने ससुराल में बिल्कुल अकेली थी, इसी दौरान उसके पति की मौसी का लड़का मौका पाकर घर में आया और उसके साथ छेड़छाड़ करने लगा. सायरा किसी तरह उससे जान छुड़ाकर भागी और पति से शिकायत की. सायर के अनुसार, पति ने उल्टा उसी को तीन तलाक बोलकर घर से निकाल कर सड़क पर ला दिया. सायरा ने इसके बाद पुलिस से शिकायत की. सायरा ने पीएम मोदी से अपील करते हुए कहा कि उन्होंने मुस्लिम लड़कियों को राहत देने के लिए तीन तलाक जैसे कानून को तो खत्म कर दिया, मगर अब भी कई लोग इस मानसिकता से बाहर नहीं आए हैं.

पुलिस ने दर्ज किया मामला

पूरे मामले में पुलिस द्वारा पीड़िता की शिकायत पर उसके पति, सास, ननद और देवर के खिलाफ 498-(ए) 323, 506, 406, 354-(बी) मुस्लिम महिला प्रोटेक्शन एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है. जांच अधिकारी भूप सिंह ने पूरे मामले की जानकारी दी और कहा कि जल्द ही दोषियों को गिरफ्तार किया जाएगा.

ये भी पढ़ें-

हरियाणा में कोरोना से 6 और मौतें, मृतकों की संख्या पहुंची 70

चंडीगढ़ में दाखिल नहीं होंगी हरियाणा रोडवेज की बसें, 30 जून तक रोक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज