67 साल बाद हक में आया फैसला, किसान का हो गया नेशनल हाईवे
Yamunanagar News in Hindi

67 साल बाद हक में आया फैसला, किसान का हो गया नेशनल हाईवे
किसान ने जेसीबी से एनएच उखाड़ा

67 साल बीत जाने के बाद कोर्ट के फैसले के बाद ही किसान ने इस जमीन पर अपना मालिकाना हक जताया है.

  • Share this:
यमुनानगर के गांव कैल के समीप 1951 में बिना अधिग्रहण किए ही किसान की जमीन पर नेशनल हाइवे बना देने के67 साल बीत जाने के बाद किसान ने सड़क पर अपना हक जताया. हालांकि पांच दिन पहले किसान ने सड़क को खोदने की बात कही थी. लेकिन प्रशासन की अनदेखी के बाद किसान ने जेसीबी की मदद से नेशनल हाइवे नंबर 73 को खोद डाला.

यह सड़क इसलिए नहीं खोदी गई कि सड़क को खोद कर किसान ने अपनी जमीन से पानी की निकासी करनी है. बल्कि यह सड़क इसलिए खोदी गई ताकि इस सड़क को बनाने से पहले 1951 में बिना अधिग्रहण किए ही किसान की जमीन पर सरकार ने कब्जा कर यहां नेशनल हाइवे 73 बना दिया था.





67 साल बाद हक में आया फैसला
अब 67 साल बीत जाने के बाद कोर्ट के फैसले के बाद ही किसान ने इस जमीन पर अपना मालिकाना हक जताया है. इस सड़क पर जेसीबी चलाकर किसान ने यह बता दिया है कि यह सड़क कोई सरकारी नहीx बल्कि उसकी जमीन पर बनाई गई सडक थी. इस सड़क पर उसका पूरा अधिकारी है.

पीडब्ल्यूडी अधिकारियों ने नहीं ली सुध

बता दे कि 1951 में यहां खेत होते थे और सरकार ने सीधा रास्ता निकालने के लिए ही यहां से सड़क निकाल दी थी. ऐसे में कोर्ट का फैसला भी आ गया लेकिन पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों ने इस रास्ते की सुध नहीं ली और अपने कार्यालय में बैठकर इंतजार करते रहे. हालांकि किसान स्वयं जाकर अधिकारियों से मिले तो अधिकारियों ने बात हल्के में लेते हुए यह कह कर टाल दिया कि उन्हें इस सडक की जरूरत ही नहीं.

जब सड़क पर जेसीबी चली तो पहुंचे अधिकारी

जब इस सड़क पर जेसीबी चली तो अधिकारी घुटने के बल चल कर यहां पहुंचे और किसान से दो दिन का समय देने की बात कहने लग गए. अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर किसान से दो दिन का समय मांगा. हालांकि किसान ने अधिकारी को वह बात भी याद दिला दी जिस समय अधिकारी ने इस सड़क की जरूरत न होने की बात कही थी. लेकिन अधिकारी स्वयं मान रहे हैं कि उनकी जमीन किसान की जमीन की दूसरी तरफ है और सड़क घूमकर वहां से निकलती थी इसलिए उन्होंने ऐसा कहा. लेकिन अब उन्हें अगर दो दिन का समय मिलता है तो वह इसका हल निकाल देंगे क्योंकि सड़क पर 9 बिघा जो जमीन आती है उसका पैसे किसान को देने की बात करेंगे.

किसान मांग रहा 67 साल का मुआवजा

दूसरी तरफ किसान अब विगाग से 67 साल जो उसकी जमीन का इस्तेमाल सरकार ने किया है उसका भी मुआजा मांग रहा है. ऐसे में आज किसान कश्मीर सिंह से दो दिन का समय विभाग ने मांगा है और दो दिन में कोई हल नहीं निकला तो किसान पूरी सड़क को ही खोद डालेगा.

ये भी पढ़े:-

नशे में धुत पुलिसकर्मी 'बुलेट' बाइक से कई बार गिरा, VIDEO वायरल

'जो अपने परिवार को नहीं संभाल सकता वह प्रदेश कैसे संभालेगा'- सीएम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज