होम /न्यूज /हरियाणा /हरियाणा: डूबते व्यक्ति को बचाने गई रेस्क्यू टीम की नाव पलटी, कई लोग पानी में बहे, तलाश जारी

हरियाणा: डूबते व्यक्ति को बचाने गई रेस्क्यू टीम की नाव पलटी, कई लोग पानी में बहे, तलाश जारी

मौत के मुंह से बाहर आए लोगों को प्राथमिक उपचार के लिए अस्पताल भेज दिया गया है.

मौत के मुंह से बाहर आए लोगों को प्राथमिक उपचार के लिए अस्पताल भेज दिया गया है.

बचाव दल में पटवारी धर्मेंद्र सिंह (Patwari Dharmendra Singh) सहित 6 लोग नाव पर सवार थे. साथ ही कहा जा रहा है कि बचाव दल ...अधिक पढ़ें

यमुनानगर. हरियाणा के यमुनानगर (Yamunanagar) में एक बड़ी खबर सामने आई है, जहां अस्थि विसर्जन करने आए एक व्यक्ति यमुना नदी में डूब गया. इसकी सूचना मिलते हीं मौक पर मौजूद बचाव दल के लोग उस व्यक्ति को रेस्क्यू करने के लिए नाव के साथ नदी में कूद गए. लेकिन कुछ दूर जाने के बाद तेज बहाव के चलते नाव यमुना नदी (Yamuna River) में पलट गई. ऐसे में बचाव दल के लोग खुद डूबने लगे. वहीं, देखते ही देखते मौके पर चीख- पुकार के साथ हड़कंप मच गया. जबकि, स्थानीय लोगों ने किसी तरह चार लोगों को डूबने से बचा लिया. लेकिन दो लोग अभी भी लापता बताए जा रहे हैं. जानकारी के मुताबिक, बचाव दल में पटवारी धर्मेंद्र सिंह (Patwari Dharmendra Singh) सहित 6 लोग थे. साथ ही कहा जा रहा है कि बचाव दल के लोग भी लाइफ जैकेट नहीं पहने हुए थे. यही वजह है कि नाव पलटते ही वे लोग भी डूबने लगे.

वहीं, मौके पर लोगों का जमावड़ा लग गया. सूचना के बाद एम्बुलेंस और पुलिस भी पहुंच गई. अस्थियों के साथ डूबे व्यक्ति सहित यमुना की लहरों में गुम हुए तीन लोगों को खोजने के लिए सर्च अभियान अभी भी चल रहा है. मौके पर डूबने वालों के परिजन भी पहुंच गए हैं,  जिनका रो-रोकर बुरा हाल है. पुलिस अधिकारियों के अनुसार, लापता तीनों लोगों के लिए सर्च अभियान लगातार जारी है. वहीं, मौत के मुंह से आए पटवारी ने कहा कि तहसीलदार के आदेश पर बिना लाइफ जैकेट के जाना पड़ा.

प्राथमिक उपचार के लिए अस्पताल भेज दिया गया है
वहीं, मौत के मुंह से बाहर आए लोगों को प्राथमिक उपचार के लिए अस्पताल भेज दिया गया है. पटवारी ने बताया कि उसे तहसीलदार ने यमुना में भेजा था. वहीं, गणपति विसर्जन समारोह में ड्यूटी मजिस्ट्रेट तहसीलदार का कहना है कि उसने किसी को नहीं भेजा था. जब मीडिया ने तहसीलदार से सवाल किया कि बिना लाइफ जैकेट और दूसरे बचाव उपकरणों के बचाव दल को क्यों यमुना में जाने दिया, तो उनका जवाब था कि यह सब उनकी जानकारी में नहीं थी. और ऐसा नहीं होना चाहिए था.

Tags: Haryana news, Yamuna River

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें