होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /तीन दिन तक बर्फीले तूफान में फंसा रहा जर्मन कपल, एयरफोर्स ने ऐसे बचाया

तीन दिन तक बर्फीले तूफान में फंसा रहा जर्मन कपल, एयरफोर्स ने ऐसे बचाया

रेस्क्यू टीम के साथ जर्मन नागरिक माइकल और एनेटी

रेस्क्यू टीम के साथ जर्मन नागरिक माइकल और एनेटी

वायुसेना ने मंगलवार को हिमाचल प्रदेश में लाहौल-स्पीति के नज़दीक फंसे एक जर्मन दंपति को बचाया है. ये दंपति रिंगडम से डिब ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    वायुसेना ने मंगलवार को हिमाचल प्रदेश में लाहौल-स्पीति के नज़दीक फंसे एक जर्मन दंपति को बचाया है. ये दंपति रिंगडम से डिबलिंग तक ट्रैकिंग के दौरान बर्फ के तूफान में करीब तीन दिन से फंसा हुआ था.

    वायुसेना के बयान के मुताबिक, दो दिन तक हुई भारी बर्फबारी ने सभी तरह की गतिविधियों को रोक दिया और तब तक दंपति की रसद खत्म हो गई. इसके बाद माइकल ने आखिरी उपाय के तौर पर अपना पर्सनल रेस्क्यू बीकॉन (पीआरबी) सक्रिय करने का फैसला किया. पीआरबी से एक मैसेज सोमवार को क्षेत्रीय समन्वय केंद्र पहुंचा.

    इस मैसेज को तुरंत पश्चिमी वायु सेना कमान को भेजा गया और लेह स्थित सियाचिन पायनियर्स हेलिकॉप्टर इकाई को जांच की जिम्मेदारी सौंपी गई. सियाचिन पायनियर्स के दो हेलिकॉप्टरों ने मंगलवार सुबह छह बजे उड़ान भरी और बड़ी मशक्कत के बाद जर्मन दंपति का पता लगाया और उन्हें बचाया.

    ये भी पढ़ें: PHOTOS: CM जयराम ने लाहौल घाटी का हवाई सर्वे किया-बोले-1955 के बाद हुई इतनी बर्फबारी

    प्राप्त जानकारी के अनुसार, जर्मन नागरिक माइकल और एनेटी ट्रैकिंग के दौरान बर्फीले तूफान में फंस गए. दो दिन तक भारी बर्फबारी के कारण वह आबादी वाली सुरक्षित जगह तक नहीं पहुंच सके और उनकी सप्लाई खत्म हो गई.



    पायलट विंग कमांडर डे और विंग कमांडर प्रधान ने सियाचिन पायनियर्स के दो हेलिकॉप्टर्स के साथ सुबह 6 बजे पर्सनल रेस्क्यू बीकॉन की संभावित लोकेशन की ओर उड़ान भरी. शुरुआत में उन्हें कुछ हासिल नहीं हुआ.



    ये भी पढ़ें: हिमाचल के कुल्लू-मनाली में बरपा सबसे अधिक कहर, तबाही के PHOTOS

    मिशन लीडर और यूनिट के कमांडिंग ऑफिसर विंग कमांडर डे ने बताया, "हम उस लोकशन पर गए, जहां से पैरों के निशान शुरू थे. इन्हें फॉलो करते हुए कुछ दूर बढ़ने पर हमें एक संरचना दिखाई दी. शुरुआत में लगा कि यह चट्टान है लेकिन नज़दीक जाने पर हमें टेंट नज़र आया. हेलिकॉप्टर की आवाज़ सुनते ही माइकल टेंट से बाहर आए और उन्होंने हाथ हिलाकर इशारा किया."

    Tags: Germany, Himachal pradesh, Indian Airforce, Leh

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें