शांत हिमाचल की खतरनाक वादियां : 20 साल में 9 विदेशियों समेत 1670 सैलानी लापता

ज्यादातर ग्रुप ऐसे गाइडों के साथ जाते है, जिन्हें यहां के रास्तों का पता नहीं होता है. इस कारण लोग गुम हो जाते हैं.

Sachin | News18 Himachal Pradesh
Updated: April 20, 2018, 1:09 PM IST
शांत हिमाचल की खतरनाक वादियां : 20 साल में 9 विदेशियों समेत 1670 सैलानी लापता
Valley of Kullu.
Sachin
Sachin | News18 Himachal Pradesh
Updated: April 20, 2018, 1:09 PM IST
हिमाचल प्रदेश की खूबसूरती और पहाड़ कई सैलानियों की जान पर भारी पड़ रही है. देवदार के ऊंचे-ऊंचे वृक्ष, बर्फ से ढके पहाड कई सैलानियों की जान ले चुके हैं. ये वादियां जितनी सुन्दर और शांत हैं, उतनी ही खतरनाक भी.

कुल्लू और मनाली की सुन्दर और शांत वादियों भारत के कोने-कोने और विदेशों से पर्यटक घूमने आते हैं. लेकिन इनमें से कुछ ऐसे अभागे हैं, जो हमेशा के लिए वादियों के आगोश में खो गए. उनका आज तक कहीं पता नहीं चल पाया. ना ही वे कभी अपने घर लौट पाए.

जो लौट को घर ना आए...
कुल्लू की एसपी शालिनी अग्निहोत्रि बताती हैं कि वर्ष 1999 से 31 मार्च 2018 तक हिमाचल प्रदेश की पर्यरन नगरी कुल्लू में 1670 लोग लापता हुए हैं. लापता लोगों में 18 वर्ष के नीचे के 5 लडके एवं 3 लडकियां हैं. जिनका अब तक कुछ पता ही नहीं लग पाया है. वहीं, 18 वर्ष ऊपर के 172 पुरुष एवं 111 महिलाएं (कुल-283) भी तब से लापता है. इनमें लापता लोगों में नौ विदेशी भी शामिल हैं.


ये विदेशी हुए लापता

बता दें कि साल 1999 में डच नागरिक मार्टिन सैलोमो, साल 2000 में एक्सेई ईवानो, रूस, साल 2003 में गाय दौदी, इजरायल, साल 2004 में फ्रांसेस्को गाती, इटली, साल 2005 में डेनियल माउंटविटन, आस्ट्रेलिया, 2009 में एमी चाय स्पेमेतिज, इजरायल, 2016 में ब्रूनो मशचैलिक पॉलेंड, 2016 सोता श्काई, जापान और साल 2016 में जस्टिन एलेग्जेंडर शेल्टर, यूएस ऐसे विदेशी पर्यटक हैं, जो कुल्लू-मनाली की हसीन वादियों में घूमने आए, लेकिन इन्हीं वादियों में खो गए.
Loading...

‘ऐसे गाइड के साथ गए, जिन्हें रास्ते का पता नहीं’
कुल्लू की वादियों में लापता होने वाले लोगों को खोजने में मदद करने वाले छापे राम बताते हैं कि ज्यादातर ग्रुप ऐसे गाइडों के साथ जाते है, जिन्हें यहां के रास्तों का पता नहीं होता है. इस कारण लोग गुम हो जाते हैं. लोगों को मान्यता प्राप्त गाइडों के साथ ही जाना चाहिए. घाटी में कई विदेशी पर्यटक लापता हुए हैं, जिन्हे ढूंढने के लिए वह अब भी कार्य कर रहे हैं.

नशा के कारण भी गंवा देते हैं जान
अक्सर देखा गया है कि मनाली या कुल्लू के साथ लगती पार्वती वैली की घाटी में पर्यटकों का जमावड़ा लगा रहता है. पार्वती घाटी विदेशी पर्यटकों की भी पंसदीदा जगह है. कुछ पर्यटक यहां नशे के लिए आते हैं. इसी चक्कर में अपनी जाने से भी हाथ धो बैठते हैं. कसोल और साथ वाला इलाका चरस और भांग के लिए वैसे भी काफी मशहूर है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनाली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 20, 2018, 1:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...