CMO कांगड़ा की डिमांड पर खुलासा- आयुर्वेद विभाग के पास नहीं है इम्यूनिटी बढ़ाने वाला काढ़ा

आयुष विभाग की अधिकारी मामले की जानकारी देती हुईं.
आयुष विभाग की अधिकारी मामले की जानकारी देती हुईं.

आयुर्वेद विभाग( Ayurveda Department) के पास इम्यूनिटी (Immunity) बढ़ाने वाला काढ़ा अब नहीं बचा है. सीएमओ (cmo) शिमला की मांग पर विभाग ने इसके बारे में जानकारी दी है. कोरोना (Corona) से बचने के लिए लोग इस काढ़े का सेवन करते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 5:28 PM IST
  • Share this:
धर्मशाला. कोरोना (Corona) से बचाव और इम्यूनिटी (Immunity) बढ़ाने के लिए काढ़ा पीना सेहत के लिए लाभदायक है, लेकिन वर्तमान में काढ़ा उपलब्ध न होने के चलते जिले के विभिन्न कोविड केयर सेंटर्स (Covid care center) से काढ़े की डिमांड आ रही है. यही नहीं सीएमओ कार्यालय (CMO Office) ने भी इसके लिए आयुर्वेद विभाग को डिमांड भेजा है, लेकिन आयुर्वेद विभाग (Ayurveda Department) के पास काढ़े का स्टॉक खत्म हो गया.

कोविड-19 की शुरुआत में आयुष मंत्रालय ने लोगों को कोरोना से बचाव और इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष काढ़ा पीने की सलाह दी थी, जिस पर आयुर्वेद विभाग ने विशेषज्ञों की सलाह पर आयुष काढ़ा तैयार करके जिला मुख्यालय स्थित विभिन्न कार्यालय में कार्यरत कोरोना वॉरियर्स को काढ़ा उपलब्ध कराया था. आयुष विभाग की ओर से तैयार आयुष काढ़ा इम्यूनिटी बेहतर बनाने के लिए उपयुक्त है, जिसके चलते विभाग ने आयुर्वेद विशेषज्ञों की सलाह पर काढ़ा तैयार किया था, जो कोरोना से बचाव में अच्छा काम कर रहा था, लेकिन अब आयुर्वेद विभाग के पास काढ़ा नहीं बचा है.

हालांकि कार्यालय की ओर से उच्च अधिकारियों को समय-समय पर डिमांड भेजी जा रही है. सीएमओ कार्यालय जिला कांगड़ा स्थित धर्मशाला की ओर से भी काढ़ा की डिमांड आई थी और कोविड केयर सेंटर्स से भी काढ़ा की डिमांड आई थी, इस संबंध में आयुर्वेद विभाग के निदेशक को भी अवगत करवाया गया है. जैसे ही विभाग के पास काढ़ा उपलब्ध होगा सबसे पहले उन जगहों पर भिजवाया जाएगा, जहां से डिमांड आई है. जोगिंद्र नगर फार्मेसी में भी डिमांड की गई है.



हिमाचल: E-Pass और कोरोना रिपोर्ट की शर्त खत्म होते ही शिमला में बढ़ी पर्यटकों की चहलकदमी, देखें तस्वीरें
होम मेड काढ़ा भी है कारगर
विशेषज्ञों का कहना है कि होम मेड काढ़ा भी बनाया जा सकता है, जिसमें तुलसी, मर्च, दालचीनी, हल्दी, धनिया, मेथी, इलायची डाल सकते हैं. दो गिलास पानी के साथ इसे इतना उबालें कि आधा गिलास पानी बचे. इसके बाद इसमें शक्कर, गुड़ या शहद डालकर इसका सेवन करें. कोरोना के चलते आयुर्वेद विभाग ने लोगों को गर्म पानी और रात को सोते समय हल्दी वाला दूध पीने की सलाह दी है. साथ ही विटामिन सी लेने के लिए नींबू और आंवला  का सेवन करने की बात कही है.

आयुष विभाग की ओर से तैयार आयुष काढ़ा इम्यूनिटी बेहतर बनाने के लिए बेहतर है, जिस पर विभाग की ओर से काढ़ा तैयार करके वितरित किया गया था. वर्तमान में कोरोना की वजह से वित्तीय संकट के चलते अब काढ़ा उपलब्ध नहीं है. सीएमओ कांगड़ा और कोविड केयर सेंटर्स से भी काढ़ा की डिमांड आई थी, इस संबंध में आयुर्वेद विभाग के निदेशक को भी अवगत करवाया गया है. जैसे ही विभाग के पास काढ़ा उपलब्ध होगा तो जहां से भी डिमांड आई है, वहां काढ़ा उपलब्ध करवाया जाएगा। जोगिंद्र नगर फार्मेसी में भी डिमांड की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज