Himachal News: तूफान में फंसा CM जयराम ठाकुर का हेलीकॉप्टर और फिर...

मुख्यमंत्री सड़क मार्ग से शिमला के लिए रवाना हुए.

चक्रवाती तूफान ताउते का असर हिमाचल पर दिखा, खराब मौसम की वजह से बिलासपुर में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) के हेलीकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग (Emergency Landing) हुई.

  • Share this:
बिलासपुर. मौसम के बदतले मिजाज ने कांगड़ा दौरे से लौट रहे मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) के विमान को रोक दिया. खराब मौसम के चलते बिलासपुर के लुहनू मैदान में हुई सीएम के हेलीकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग (Emergency Landing) कराई गई. इस दौरान सीएम जयराम ठाकुर के साथ स्वास्थ्य मंत्री राजीव सैजल भी मौजूद थे. इसके बाद बिलासपुर से सड़क मार्ग से शिमला के लिए सीएम जयराम ठाकुर रवाना हुए. इस दौरान मीडिया से बातचीत करते हुए सीएम जयराम ठाकुर ने कोरोना माहमारी की जंग से लड़ने के लिए सरकार द्वारा प्रदेश के जिला अस्पतालों में बैड सहित ऑक्सीजन के पुख्ता प्रबंध किए जाने की बात कही.



कोरोना कर्फ्यू को 26 मई से आगे बढ़ाने को लेकर पूछे गए सवाल पर सीएम जयराम ठाकुर ने जल्द कैबिनेट मीटिंग में इस बात पर चर्चा करने व हालात के मद्देनजर ही निर्णय लिए जाने की कही बात कही.

तूफान का असर

चक्रवाती तूफान ताउते  का असर हिमाचल प्रदेश में भी साफ तौर पर देखा जा रहा है. राजधानी शिमला समेत पूरे हिमाचल में बादल छाए हुए हैं. कई स्थानों पर जमकर बारिश हुई  है. पहाड़ों की रानी धुंध के आगोश में डूबी रही और मौसम काफी खुशनुमा रहा. तापमान में गिरावट दर्ज की गई है. मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार बीते 24 घंटों के दौरान चंबा और सिरमौर में सबसे ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की गई है. चंबा में 20 से 22 मिलीमीटर बारिश हुई है. केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा कि दिन तापमान में लगभग 5-6 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई. ऊना का तापमान 40 डिग्री से गिरकर 35 डिग्री दर्ज किया गया, शिमला में बीते 24 घंटो में 22 डिग्री तापमान रिकॉर्ड किया गया. प्रदेश में कुछ स्थानों पर भारी बारिश और कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश और ओलावृष्टि का पूर्वानुमान है.

ये भी पढ़ें: UP: अखिलेश यादव ने बताया था 'बीजेपी का टीका', अब मुलायम सिंह की बहू अर्पणा ने लगवाई कोरोना वैक्सीन

मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक ताउते का ज्यादा प्रभाव उत्तराखंड के साथ लगते इलाकों में पड़ेगा. सिरमौर,शिमला और किन्नौर में ज्यादा प्रभाव देखा जा सकता है, जिसके चलते भारी बारिश हो सकती है. इसका प्रभाव मंडी और सोलन जिले में भी असर देखने को मिल सकता है. 20 मई को मैदानी और मध्यम ऊंचाई वाले इलाकों के लिए विभाग की ओर से येलो अलर्ट जारी किया गया है. उसके बाद ताउते का प्रभाव कम होना शुरू हो जाएगा. मौसम विभाग के अनुसार 22 मई तक मौसम के खराब रहने का पूर्वानुमान है. 23 मई के बाद मौसम साफ रहने की संभावना है. छुटपुट इलाकों में ही बारिश हो सकती है.