5.51 लाख रुपये और 72 ग्राम हैरोइन बरामद, 7 माह में इस गांव से मिल चुकी है 15 हजार लीटर शराब

गस्त 2017 से अब तक पुलिस ने 15 मामलों में अवैध शराब पकड़ने में सफलता हासिल की है. इस कच्ची शराब को नष्ट किया गया है.

News18Hindi
Updated: March 14, 2018, 5:36 PM IST
5.51 लाख रुपये और 72 ग्राम हैरोइन बरामद, 7 माह में इस गांव से मिल चुकी है 15 हजार लीटर शराब
बिलासपुर के मजारी गांव में मौके से मिली करेंसी.
News18Hindi
Updated: March 14, 2018, 5:36 PM IST
वह दिन दूर नहीं जब हिमाचल प्रदेश भी ‘उड़ता पंजाब’ की तरह ‘उड़ता हिमाचल’ कहलाएगा. यह हम नहीं, आंकड़े कह रहे हैं.

सूबे के बिलासपुर जिले का गांव मजारी बना नशे के अवैध कारोबार का अड्डा बन गया है. पंजाब सीमा के साथ सट्टे इस गांव में बीते सात महीने में पुलिस ने 15 हजार लीटर अवैध कच्ची शराब बरामद की और साथ ही नशा तस्करी के 15 मामले दर्ज किए गए हैं.

दो दिन पहले भी थाना कोट पुलिस ने DSP अनिल शर्मा के नेतृत्व में गांव एक घर में छापेमारी के दौरान 72 ग्राम हीरोइन और 5 लाख 51 हजार की नगदी बरामद की है.

पुलिस ने एक व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया है. आरोपी का नाम इंद्रजीत पुत्र दिलावर सिंह मजारी गांव का ही रहने वाला है. DSP अनिल शर्मा ने बताया कि पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है, लेकिन नगदी के बारे में अभियुक्त कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया.

इसके अलावा, पुलिस ने तीन इलेक्ट्रॉनिक भार तोलने वाली मशीनें भी बरामद की है, जो कि हैरोइन तोड़ने के लिए प्रयोग की जाती थी.

पंजाब भाग जाते हैं तस्कर
पंजाब सीमा के साथ सटे होने के कारण यहां नशा कारोबारियों को फायदा मिलता है. अगर पुलिस हिमाचल सीमा में सटे इलाके में छापेमारी करती है तो आरोपी भाग कर पंजाब सीमा में चले जाते हैं. अगर पंजाब में छापामारी की जाती है तो आरोपी हिमाचल सीमा में आ जाते हैं इसी का फायदा ये अवैध नशे का कारोबार करने वाले उठाते रहे हैं.
Loading...

पंजाब के साथ साझा अभियान की जरूरत : DSP
पिछले कुछ दिनों में DSP अनिल शर्मा ने मजारी गांव में नशे के खिलाफ एक अभियान चलाया. अगस्त 2017 से अब तक पुलिस ने 15 मामलों में अवैध शराब पकड़ने में सफलता हासिल की है. इस कच्ची शराब को नष्ट किया गया है.

DSP अनिल शर्मा का यह भी कहना है कि अगर हिमाचल और पंजाब पुलिस मिलकर अभियान चलाती है तो निश्चित रुप से यह कारोबार करने वाले के खिलाफ उचित कार्रवाई हो पाएगी. उन्होंने बताया कि DSP आनंदपुर साहिब के साथ उनकी बातचीत हुई है. जल्द हिमाचल और पंजाब पुलिस मिलकर नशाखोरी के खिलाफ एक बड़ा अभियान शुरू करेंगे.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->