Assembly Banner 2021

VIDEO: हिमाचली युवक शशांक ने फेसबुक में निकाली खामी, FB ने किया पुरस्कृत

हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर के रोड़ा सेक्टर के रहने वाले शशांक मेहता ने अब एक बार फिर फेसबुक के चैक प्वाइंट की खामी को उजागर किया है. फेसबुक ने हॉल ऑफ फेम में शशांक को 15वां स्थान देते हुए करीब 1,40,000 रुपए का पुरस्कार दिया है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर के रोड़ा सेक्टर के रहने वाले शशांक मेहता ने फेसबुक पर खामी ढूंढ़कर 500 डॉलर का अवार्ड हासिल कर चुके हैं. यशपाल मेहता के सुपुत्र शशांक ने अब एक बार फिर फेसबुक के चैक प्वाइंट की खामी को उजागर किया है. इसके लिए फेसबुक ने हॉल ऑफ फेम में शशांक को 15वां स्थान देते हुए करीब 1,40,000 रुपए का पुरस्कार दिया है. शशांक मेहता ने फेसबुक की सिक्योरिटी टीम को बग संबंधी रिपोर्ट भेजी थी. शशांक के अनुसार जब भी कोई संदिग्ध गतिविधि फेसबुक के सर्वर की पकड़ में आती है जैसे फेक अकाउंट बनाना, किसी और की फोटो को अपनी प्रोफाइल में लगाने पर फेसबुक यूजर के अकाउंट को ब्लॉक कर देता था. फेसबुक ऐसा इसलिए करता था ताकि यूजर उस फेक अकाउंट का इस्तेमाल न कर सके.

शशांक के अनुसार उन्होंने अपनी रिपोर्ट में फेसबुक को बताया कि वह किस प्रकार इस सुरक्षा चैक प्वाइंट को बाईपास कर ब्लॉक अकाउंट से भी फोटो, मैसेज व अन्य प्रकार की गतिविधियां कर सकते हैं. शशांक के अनुसार यह एक चूक थी, जिसका गलत उपयोग भी किया जा सकता था. फेसबुक ने इस खामी को माना और इसे गत 27 मार्च को ठीक कर दिया है.

शशांक का कहना है कि वह पिछले काफी समय से साइबर सुरक्षा पर काम कर रहे हैं तथा उन्हें इस क्षेत्र में काम करने का जुनून है.



शशांक की मां ममता मेहता अपने बेटे की उपलब्धि को लेकर गौरवान्वित है और उसका कहना है कि इसे शुरू से ही फेसबुक का जुनून था. उन्होंने बताया कि शशांक ने इसे अपना पैशन बनाया और इसके लिए अपनी नौकरी तक छोड़ दी.
यह भी पढ़ें: लाहौल में चौकी में भी जमा ​करा सकते हैं हथियार, सड़क बंद होने के चलते दी यह सुविधा 

यह भी देंखे: VIDEO: लाहौल स्पीति में सड़क नहीं बहाल होने से घाटी के लोगों की परेशानी बढ़ी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज