Home /News /himachal-pradesh /

vijay sen high school mandi case supreme court school management committee nodvm

मंडी: विजय सेन हाईस्कूल मामला अब जाएगा सुप्रीम कोर्ट, जानें आखिर क्या है पूरा मसला?

अधिवक्ता एवं समाजसेवी रजनीश शर्मा ने कहा कि स्कूल प्रबंधन समिति, स्कूली बच्चों द्वारा SC का दरवाजा खटखटाया जाएगा ताकि बच्चों को न्याय मिल सके.

अधिवक्ता एवं समाजसेवी रजनीश शर्मा ने कहा कि स्कूल प्रबंधन समिति, स्कूली बच्चों द्वारा SC का दरवाजा खटखटाया जाएगा ताकि बच्चों को न्याय मिल सके.

Mandi News: विजय सेन हाई स्कूल प्रबंधन समिति व बच्चों ने अब सुप्रीम कोर्ट जाने का निर्णय लिया है ताकि इस गंभीर मसले को लेकर उचित कदम उठ सके. बिलासपुर में आयोजित प्रेसवार्ता को टावर लाईन शोषित जागरूकता मंच ने राष्ट्रीय संयोजक, अधिवक्ता एवं समाजसेवी रजनीश शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री की ओर से मंडी जिला के दौरे के दौरान 2019 में मल्टी पर्पज स्टोरी पार्किंग बनाने को लेकर निर्देश दिए थे. लेकिन अब वर्तमान में वहां पर मल्टी पर्पज कर्मिशियल पार्किंग बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

बिलासपुर. मंडी जिला मुख्यालय पर स्थित विजय सेन हाई स्कूल मसला अब सुप्रीम कोर्ट में जाएगा. स्कूल प्रबंधन समिति व बच्चों ने अब सुप्रीम कोर्ट जाने का निर्णय लिया है ताकि इस गंभीर मसले को लेकर उचित कदम उठ सके. बिलासपुर में आयोजित प्रेसवार्ता को टावर लाईन शोषित जागरूकता मंच ने राष्ट्रीय संयोजक, अधिवक्ता एवं समाजसेवी रजनीश शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री की ओर से मंडी जिला के दौरे के दौरान 2019 में मल्टी पर्पज स्टोरी पार्किंग बनाने को लेकर निर्देश दिए थे. लेकिन अब वर्तमान में वहां पर मल्टी पर्पज कर्मिशियल पार्किंग बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं.

रजनीश शर्मा ने कहा कि मंडी के विजय सेन हाई स्कूल में पांच शिक्षण संस्थान चल रहे हैं. इसमें करीब 1000 से अधिक बच्चों के हितों की अनदेखी करते हुए कुछ एक लोगों को लाभ पहुंचाने को लेकर इन बच्चों को खेल मैदान से वंचित कर दिया गया. उन्होंने कहा कि राजा द्वारा दान में दी गई जमीन व उस पर बने ऐतिहासिक धरोहर को सरकार के निर्देशों पर प्राथमिक कन्या स्कूल को तोड़ दिया गया. वहीं, अवैध निर्माण जारी है जोकि हजारों बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ है.

शर्मा ने कहा कि जिस स्कूल को तोड़ा गया है उस स्कूल में अमीरों के बच्चे नहीं बल्कि गरीबों के बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं. इस स्कूल से पूर्व चीफ जस्टिस, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुखराम, कौल सिंह ठाकुर, स्वयं सदर विधायक अनिल शर्मा सहित अन्य ने शिक्षा ग्रहण की है. लेकिन इस मसले पर जहां पर सरकार ने बच्चों की अनदेखी की है. वहीं, दूसरी ओर विपक्ष भी इस मसले पर चुप्पी साधे हुए है.

दिल्ली के डिप्टी सीएम सिसोदिया ने दिया पॉजिटिव रिस्पांस 

उन्होंने कहा कि आप नेता एवं दिल्ली सरकार के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इस मसले को लेकर तुरंत ही निरीक्षण की बात कही है तो प्रदेश सरकार के शिक्षा मंत्री के अलावा अन्य भाजपा नेताओं ने मनीष सिसोदिया के बयान को लेकर लेकर प्रतिक्रिया दी है. लेकिन इससे पहले इन भाजपा नेताओं को विजय सेन स्कूल का मसला नहीं दिखाई दिया.

अधिवक्ता रजनीश शर्मा ने कहा कि इस पूरा मसले में अधिकारी, नेताओं की मिलीभगत है. उन्होंने कहा कि एक ओर प्रदेश और केंद्र सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की बात कर रही है. वहीं, दूसरी ओर कन्या स्कूल मंडी में बेटियों के हितों की अनदेखी की गई है. उन्होंने कहा कि अब इस मसले में स्कूल प्रबंधन समिति, स्कूली बच्चों द्वारा माननीय सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया जाएगा. ताकि बच्चों को न्याय मिल सके.

विधानसभा उपाध्यक्ष के व्यवहार से आहत हैं लोग 

रजनीश शर्मा ने कहा कि विस उपाध्यक्ष द्वारा एक स्कूल का दौरा किया गया. वहां पर स्कूली बच्चे से अभद्र व्यवहार किया गया जोकि सही नहीं है. इस मसले को लेकर भी एफआईआर होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि वर्तमान में कई ऐसे स्कूल हैं जहां पर महज एक ही शिक्षक हैं. सरकार शिक्षा के दावे करती है. लेकिन सरकार के विस उपाध्यक्ष ही बच्चों से अभद्र व्यवहार करेंगे तो शिक्षा के मंदिरों में बच्चों को कैसे बेहतर शिक्षा मिल पाएगा. इस मसले पर भी एफआईआर होनी चाहिए.

Tags: Himachal news, Schools

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर