Home /News /himachal-pradesh /

हिमाचल: सरकारी स्कूल में 18 साल से बिजली नहीं, अंधेरे और ठंड में पढ़ने को मजबूर बच्चे

हिमाचल: सरकारी स्कूल में 18 साल से बिजली नहीं, अंधेरे और ठंड में पढ़ने को मजबूर बच्चे

समस्या के बारे में प्रशासन और विभाग को अवगत करवाया गया है.  (सांकेतिक तस्वीर)

समस्या के बारे में प्रशासन और विभाग को अवगत करवाया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Himachal Government School News : एक ओर सरकार बेहतर शिक्षा प्रदान करने के दावे कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ स्कूल में बिजली कनेक्शन तक न होना सरकार के दावों की पोल खोल रहा है. स्कूल प्रबंधन समिति और स्थानीय लोगों ने समस्या के बारे में सरकार और प्रशासन से मांग की है कि स्कूल में बिजली मुहैया करवाई जाए. दरअसल चंबा जिले के प्राथमिक पाठशाला मंडोला में 18 साल से बिजली का कनेक्शन नहीं लग पाया है.

अधिक पढ़ें ...

    चंबा. हिमाचल प्रदेश के चंबा (Chamba) जिले में एक सरकारी स्कूल (Government School) ऐसा है जहां पिछले 18 साल से बिजली नहीं है. इस स्कूल के 43 विद्यार्थी अंधेरे और कड़ाके की ठंड में पढ़ने को मजबूर है. वहीं, विभाग ने हाल ही में स्कूल में हीटर (Heater) तो भिजवा दिए हैं, लेकिन उन्हें चलाने के लिए बिजली की व्यवस्था आज तक नहीं हो पाई है. ये हाल चंबा जिले के प्राथमिक पाठशाला मंडोला का है, जहां 18 साल से बिजली का कनेक्शन नहीं लग पाया है.

    सर्दियों के मौसम में विद्यार्थी अंधेरे में परीक्षा देने के लिए मजबूर हैं. वहीं स्टाफ और विद्यार्थियों को ठंड से बचाने के लिए विभाग ने स्कूल में हीटर तो भेज दिए हैं, लेकि, उन्हें चलाने के लिए बिजली की व्यवस्था आज तक नहीं हो पाई है. इन दिनों स्कूलों में परीक्षाओं का दौर चला है. ऐसे में विद्यार्थियों को पहले कड़ाके की ठंड में गांव से डेढ़ किमी पैदल चलकर पहुंचना पड़ता है और उसके बाद अंधेरे में ठंड में कांपते हाथों से पेपर देना पड़ता है. रुटीन में उनकी कक्षाएं भी अंधेरे में ही लगती हैं.

    अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, इस समस्या के बारे में प्रशासन और विभाग को अवगत करवाया गया है. स्कूल प्रबंधन समिति और स्थानीय लोग समस्या के बारे में कई बार विभाग और प्रशासन को सूचित कर चुके हैं. हैरानी की बात है कि अभी तक समस्या का समाधान नहीं हो पाया है. स्कूल प्रबंधन समिति अध्यक्ष दुनी चंद ने बताया कि पिछले दिनों क्षेत्र में बर्फबारी हुई है. इससे इलाके में ठंड काफी बढ़ गई है. बच्चों को बर्फ में आवाजाही करके परीक्षा देनी पड़ रही है.

    पिछले 18 सालों से दिया जा रहा आश्वासन

    उन्होंने कहा कि जब वह बिजली कनेक्शन के लिए बोर्ड के अधिकारियों को कहते हैं तो हर बार उन्हें आश्वासन देकर टाल दिया जाता है. यह आश्वासन पिछले 18 सालों से दिया जा रहा है. हैरानी इस बात की है कि सरकार भी इस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही है. एक ओर सरकार बेहतर शिक्षा प्रदान करने के दावे कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ स्कूल में बिजली कनेक्शन तक न होना सरकार के दावों की पोल खोल रहा है.

    सामान पहुंचते ही कनेक्शन लगाने का कार्य शुरू हो जाएगा

    दुनी चंद ने सरकार और प्रशासन से मांग की है कि स्कूल में बिजली मुहैया करवाई जाए. बोर्ड के अधिशासी अभियंता पवन शर्मा ने बताया कि स्कूल तक बिजली पहुंचाने के लिए टेंडर आवंटित हो चुका है. जरूरी सामान पहुंचते ही कनेक्शन लगाने का कार्य शुरू हो जाएगा.

    Tags: Electricity, Electricity problem, Government School, Himachal news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर