होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /

हिमाचलः भर्ती में नहीं हुआ चयन तो स्कूल का रास्ता बंद कर दिया, सीढ़ी से दाखिल हुए बच्चे

हिमाचलः भर्ती में नहीं हुआ चयन तो स्कूल का रास्ता बंद कर दिया, सीढ़ी से दाखिल हुए बच्चे

Chamba News: मल्टी टास्क भर्ती में चयन नहीं हुआ तो स्कूल को जमीने दान देने वाले शख्स ने स्कूल की वार्डबंदी कर दी.

Chamba News: मल्टी टास्क भर्ती में चयन नहीं हुआ तो स्कूल को जमीने दान देने वाले शख्स ने स्कूल की वार्डबंदी कर दी.

Multitask Worker Recruitment in Himachal: बच्चे स्कूल पहुंचे थे तो उन्हें रास्ता बंद दिखा. करीब आधे घंटे तक इंतजार के बाद उन्हें सीढ़ी से स्कूल पहुंचाया गया. शिक्षक किशोरी लाल व पवन कुमार ने बताया कि स्कूल के गेट पर बाड़ लगाकर उसे बंद कर दिया गया है. ग्राउंड से जो रास्ता होकर स्कूल पहुंचता है, उस रास्ते को बंद कर दिया गया था.

अधिक पढ़ें ...

चम्बा. मल्टी टास्क भर्ती में चयन नहीं हुआ तो स्कूल को जमीने दान देने वाले शख्स ने स्कूल की वार्डबंदी कर दी. गुस्साए जमीन मालिक ने स्कूल के आसपास का रास्ता बंद कर दिया. मामला हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले का है. जानकारी के अनुसार, बुधवार को चम्बा जिला के राजकीय प्राथमिक पाठशाला सराहन के मुख्य गेट पर बाड़ लगा दी गई . बच्चों को एक लोहे की सीढ़ी से पीठ पर उठाकर क्लासरूम तक पहुंचाना पड़ा.

दरअसल, मल्टी टास्क वर्कर में भर्ती न होने से गुस्साए जमीन के मालिक ने स्कूल के ग्राउंड और मुख्य गेट पर यह बाड़ लगा दी थी. इस जमीन के मालिक ने स्कूल के भवन के लिए जमीन दान में दी थी. अभी हाल ही में उसने स्कूल में मल्टी टास्क वर्कर के पद के लिए आवेदन दिया था, लेकिन एक महिला को कानूनी तौर पर उस पद पर रख लिया गया. इसी पर गुस्साए उस जमीन के मालिक ने स्कूल का रास्ता बंद कर दिया.

ऐसे स्कूल में दाखिल हुए बच्चे
बच्चे सुबह स्कूल पहुंचे तो उन्हें आधे घंटे तक स्कूल के बाहर इंतजार करना पड़ा. उसके बाद पास के गांव से एक लोहे की सीढ़ी मंगवाई गई और स्कूल के अध्यापकों और कर्मचारियों ने बारी-बारी से बच्चों को हाथ पकड़कर पीठ पर उठाकर स्कूल तक पहुंचाया. जहां यह रास्ता बंद कर किया गया था, उसके पीछे ही बच्चों के लिए शौचालय था. दोपहर को जब भी बच्चों को शौच जाना पडा तो वे उसी सीढ़ी से होकर शौचालय गए . जब न्यूज़-18 की टीम सराहन स्कूल पहुंची तो गेट पर बाड़ लगी थी . स्कूल प्रबंधन ने अधिकारियों को सूचित किया और कुछ ही देर के बाद विभाग की एक 3 सदस्यीय टीम स्कूल पहुंची. वहां पहुंचकर उन्होंने उस समस्या को देखा और फिर उस जमीन के मालिक को फोन कर कर वहां बुलाया. लेकिन जमीन मालिक गांव से बाहर अपने काम पर गया था.

जल्द होगा समस्या का समाधानः अधिकारी
बच्चों ने बताया कि जब वे स्कूल पहुंचे थे तो उन्हें यहां पर रास्ता बंद दिखा. करीब आधे घंटे तक इंतजार किया. उसके बाद उन्हें सीढ़ी से उतारकर स्कूल में पहुंचाया गया. शिक्षक किशोरी लाल व पवन कुमार ने बताया कि स्कूल के मुख्य गेट पर बाड़ लगाकर उसे बंद कर दिया गया है. ग्राउंड से जो रास्ता होकर स्कूल पहुंचता है, वहां पर उस रास्ते को बंद कर दिया गया था. उन्हें कहा गया था कि वह इस रास्ते से ना जाए. पास के गांव से लोहे की सीढ़ी मंगवाई और बच्चों को धीरे-धीरे करके स्कूल में पहुंचाया गया. एसएमसी प्रधान बंटी शर्मा ने कहा कि उन्हें सुबह इसके बारे में जानकारी मिली थी और जल्द ही इस समस्या का हल कर लिया जाएगा. शिक्षा विभाग की ओर से पहुंचे अधिकारी अजय जरियाल ने बताया कि जल्द ही इस समस्या का समाधान होगा. मल्टीटास्क वर्कर की भर्ती के बाद ही यह मामला सामने आया है. जिस व्यक्ति ने स्कूल के भवन के लिए जमीन दान में दी थी उसने भी मल्टीटास्क वर्कर के लिए आवेदन दिया था. मालिक से बात की जाएगी.

Tags: Chamba, Himachal Politics, Himachal pradesh, Schools, Shimla News

अगली ख़बर