नवजात और मां को पालकी में बिठाया, फिर बर्फ के बीच 5 किमी पैदल चलकर पहुंचाया घर
Chamba News in Hindi

नवजात और मां को पालकी में बिठाया, फिर बर्फ के बीच 5 किमी पैदल चलकर पहुंचाया घर
महिला और उसके नवजात बच्चे को पालकी में उठाकर घर पहुंचाया गया.

लोगो ने जच्चा-बच्चा को पालकी में उठाकर घर पहुंचाया.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश में बीते दिन हुई बर्फबारी और बारिश से जहां स्थानीय लोग, सैलानी और किसान-बागवान खुश हैं, लेकिन लोगों की मुश्किलें भी बढ़ने लगी है.

दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों का को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. काम-काज पर आने जाने के लिए बर्फबारी की वजह से काफी परेशानी हो रही है. मरीजों को हॉस्पिटल तक पहुंचान में दिक्कत है. कुछ ऐसा ही मामला चंबा में सामने आया है.

दरअसल, सोमवार को मेडिकल कॉलेज चंबा से एक महिला की डिलीवरी के बाद छुट्टी दे दी गई. चम्बा से किहार तक महिला और नवजात बच्चे को गाड़ी में पहुंचाया गया, लेकिन सड़क से महिला के घर तक करीब 5 किलोमीटर का रास्ता पैदल तय करना पड़ा.



लोगो ने जच्चा-बच्चा को पालकी में उठाकर घर पहुंचाया. हालांकि, मुख्य सड़क मार्गों को विभाग और प्रशासन ने वाहनों के लिए खोल दिया है, लेकिन दूरदराज के क्षेत्रों में पैदल रास्ते से बर्फ हटाना मुमकिन नहीं है. इस वजह से महिला को पालकी में उठाकर ले जाना पड़ा.
जानकारी के अनुसार, 5 किलोमीटर का सफर तयकर लोगों ने कड़ी मशक्कत के बाद महिला और बच्चे को सुरक्षित घर पहुंचाया गया. लोगों के मुताबिक, मेडा से जगराल 11 किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य शुरू हुआ है, मगर अभी तक सड़क निर्माण कार्य रफ्तार नहीं पकड़ पाया था.

2 महीने से काम बंद पड़ा है. आगे के कार्य के लिए वन विभाग से अनुमति नहीं मिल पाई है. इस वजह से यहां करीब दो दर्जन गांव के लोगों को पैदल सफर तय करना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें : 33 साल बाद हिमाचल और यूपी के बीच दौड़ेंगी 46 बसें, हुआ करार

सूर्खियां: 8 लाख की लूट, मौसम, कैबिनेट मीटिंग और शिमला में ब्लैक आउट

जनवरी में 202 डॉक्टर और 732 नर्सों की होंगी नियुक्तियां: विपिन परमार

'लोकसभा चुनाव नजदीक आते ही क्यों आई सवर्णों की याद'- यश पठानिया

नाबालिग और युवती चिट्टे समेत गिरफ्तार, मनाली जा रही बस में कर रहे थे सफर

चक्रवाती तूफान में फंसे हिमाचल के 5 विधायक, क्रूज से किए रेस्क्यू
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज