होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /

नालागढ़ से कांग्रेसी विधायक लखविंदर सिंह राणा के भाजपा में जाते ही सियासत गर्म, कांग्रेस ने काले झंडे दिखाए

नालागढ़ से कांग्रेसी विधायक लखविंदर सिंह राणा के भाजपा में जाते ही सियासत गर्म, कांग्रेस ने काले झंडे दिखाए

नालागढ़ से कांग्रेसी विधायक लखविंदर सिंह राणा के भाजपा में शामिल होने के बाद सियासत गर्म है. कांग्रेस ने काले झंडे दिखाकर जताया विरोध.

नालागढ़ से कांग्रेसी विधायक लखविंदर सिंह राणा के भाजपा में शामिल होने के बाद सियासत गर्म है. कांग्रेस ने काले झंडे दिखाकर जताया विरोध.

नालागढ़ से कांग्रेसी विधायक लखविंदर सिंह राणा के भाजपा में शामिल होने के बाद सियासत गर्म है. इंटक के प्रदेश अध्यक्ष बाबा हरदीप सिंह ने लखविंदर राणा पर जमकर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि जिस पार्टी ने उनका मान-सम्मान बढ़ाया है, एमएलए बनाया है उसी पार्टी को छोड़ पह भाजपा में हुए शामिल हो गए.

अधिक पढ़ें ...

नालागढ. नालागढ़ से कांग्रेसी विधायक लखविंदर सिंह राणा के भाजपा में शामिल होने के बाद सियासत गर्म है. ब्लॉक काग्रेस नालागढ़ के अध्यक्ष हुस्न चंद ठाकुर और इंटक के प्रदेश अध्यक्ष बाबा हरदीप सिंह ने पत्रकारों से बात की है. इस दौरान लखविंदर सिंह राणा पर बाबा हरदीप ने जमकर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि जिस पार्टी ने उनका मान-सम्मान बढ़ाया है, एमएलए बनाया है उसी पार्टी को छोड़ पह भाजपा में हुए शामिल हो गए.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस उनका विरोध करेगी. जहां पर भी लखविंदर सिंह राणा कार्यक्रम करेंगे उसी जगह पर पहुंचकर कांग्रेसी काली पट्टियों से स्वागत करेंगे. कांग्रेस के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने काली पट्टियां दिखाकर विधायक लखविंदर राणा का विरोध करना शुरू कर दिया है. लखविंदर सिंह राणा उर्फ पप्पू राणा को टप्पू राणा बाबा कहा है. हर दीप ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में नालागढ़ विधानसभा क्षेत्र की जनता लखविंदर सिंह राणा को जवाब देगी. कांग्रेस से गद्दारी करने का खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ेगा.

गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष पवन काजल और कांग्रेस के नालागढ़ से विधायक लखविंदर राणा ने भी भाजपा का दामन थाम लिया है. उन्होंने दिल्ली में सीएम जयराम ठाकुर, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ले ली है. पवन काजल कांगड़ा से कांग्रेस विधायक हैं. साल 2012 में वह यहां से निर्दलीय जीतने के बाद कांग्रेस में शामिल हुए थे, क्योंकि भाजपा ने उन्हें यहां से टिकट नहीं दिया था. बाद में 2017 विधानसभा चुनाव में भी पवन काजल ने जीत हासिल की थी.

Tags: Haryana Congress, Haryana news, Nalagarh News, Solan news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर