अपना शहर चुनें

States

COVID-19: नियम तोड़ने वालों पर होगी सख्ती, शिमला में No mask No Entry कैंपेन होगा शुरू

शिमला में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए बड़ा फैसला लिया गया है.
शिमला में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए बड़ा फैसला लिया गया है.

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए शिमला (Shimla) में प्रशासन ने अब सख्ती करने का फैसला लिया है. जल्द नो मास्क,नो एंट्री,नो सर्विस अभियान शुरू होगा. 

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला (Shimla) में कोरोना (COVID-19) के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए प्रशासन और सख्ती करने जा रहा है. प्रशासन ने लापरवाही करने वालों लोगों के खिलाफ सख्ती करने का निर्णय लिया है. प्रशासन अब ऐसे लोगों पर सख्ती बरतने जा रहा है जो लोग बिना मास्क के घूमते हैं .प्रशासन ने इसके लिए नो मास्क,नो एंट्री,नो सर्विस अभियान शुरू करेगा. कोविड -19 के संक्रमण को रोकने के लिए सोमवार को हुई बैठक में प्रशासन ने यह यह निर्णय लिया है. एडीसी शिमला अपूर्व देवगन की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई बैठक में नगर निगम वार्ड पार्षद, व्यापार मण्डल और विभिन्न विभागों के अधिकारी शामलि हुए.
पंचायत स्तर तक होगा समितियों का गठन


बैठक में शिमला ग्रामीण और शहरी वार्ड और पंचायत स्तर पर संक्रमण को रोकने के लिए जागरूकता समितियों का गठन करने का निर्णय लिया गया है. इसमें पार्षद एवं पंचायत प्रधान को उस कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किया जाएगा और कमेटी में 6 से 7 व्यक्तियों को सदस्य के रूप में नियुक्त किया जाएगा ताकि बढ़ते संक्रमण को रोका जा सके. एसडीएम शिमला शहरी मंजीत शर्मा ने बताया कि समितियों द्वारा हर वार्ड तथा पंचायतों में 60 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों की पहचान करके सूची तैयार की जाएगी. इसके बाद प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और मुख्य चिकित्सा अधिकारी के सहयोग से उनकी रेंडम सैंपलिंग की जाएगी.
ये भी पढ़ें: Big News: रेलवे ने कैंसिल की 12 फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन, यहां चेक करें पूरी लिस्ट



अगर सैंपल के दौरान व्यक्ति पॉजिटिव निकलता है तो  पाॅजिटिव व्यक्ति का ध्यान रखा जाएगा और प्रत्येक मरीज को ऑक्सीमीटर सहित जरूरी मेडिकल किट भी  उपलब्ध की जाएगी. उन्होंने बताया कि समितियों द्वारा लोगों को धार्मिक, सामाजिक एवं  पारिवारिक कार्यक्रमों में भीड़ इकट्ठा न होने के प्रति जागरूक किया जाएगा. उन्होंने सभी पार्षदों को अपने वार्ड में कमेटी का गठन करके सूची को कार्यालय में भेजने के निर्देश दिए. उन्होंने बताया कि शादियों एवं अन्य समारोहों में भीड़ को कम करने की आवश्यकता है, जिसके लिए चुने हुए प्रतिनिधि एवं व्यापार मण्डल के सहयोग की आवश्यकता है. एसडीएम ने बताया कि ‘नो मास्क, नो एन्ट्री, नो सर्विस’ का मुख्य उद्देश्य जहां लोगों को बिना मास्क के अनुमति नहीं रहेगी. वहीं कार्यालयों में भी बिना मास्क के कोई भी सेवाएं नहीं दी जाएगी. बैठक के दौरान अतिरिक्त उपायुक्त ने कोरोना जागरूकता की शपथ भी दिलवाई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज