स्वास्थ्य मंत्री नड्डा के जिले में डेंगू पीड़ितों की संख्या पहुंची 132, पुडूचेरी से आई टीम लौटी

बिलासपुर में डियारा सैक्टर सबसे ज्यादा डेंगू प्रभावित भी है.

Arun Chandel
Updated: July 11, 2018, 5:33 PM IST
स्वास्थ्य मंत्री नड्डा के जिले में डेंगू पीड़ितों की संख्या पहुंची 132, पुडूचेरी से आई टीम लौटी
बिलासपुर में डेंगू बेकाबू हो गया है. (सांकेतिक तस्वीर)
Arun Chandel
Updated: July 11, 2018, 5:33 PM IST
हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले में दिन-ब-दिन डेंगू पीड़ितों की संख्या बढ़ती जा रही है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के जिले बिलासपुर में अब 132 डेंगू पीड़ित सामने आ चुके हैं. पुडूचेरी से आई स्वास्थ्य टीम बुधवार को लौट गई है.

वहीं, डेंगू से निपटने के लिए जिला प्रशासन ने हर वीरवार को ड्राई-डे मनाने का फैसला लिया है. बता दें कि बिलासपुर में डियारा सैक्टर सबसे ज्यादा डेंगू प्रभावित भी है.

बिलासपुर शहर में बेहतर सफाई व्यवस्था न होने के कारण डेंगू लोगों पर भारी पड़ रहा है. स्वास्थ्य विभाग और सरकार की कोशिशों के चलते अब भी वार्ड नंबर आठ में हालात गंभीर हैं. हालांकि, वार्ड- 9 और 10 में स्थिति काफी हद तक नियंत्रित है. इस बात का खुलासा डेंगू के नियंत्रण के लिए दिल्ली और पुडूचेरी से टीमों के लिए आंकड़े और रिपोर्ट में हुआ है.

इस वजह से फैला डेंगू

माना जा रहा है कि इस वार्ड की सड़क के किनारे जगह-जगह गंदगी, टूटा हुआ सामान, कबाड़ पड़ा है. साथ ही नालियों में गंदगी पसरी है. बड़ी संख्या में यहां पर टायर और अन्य सामान भी डेंगू फैलने की मुख्य वजह है. जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग और नगर परिषद इसे लेकर गंभीर नहीं थी.

यहां सबसे ज्यादा केस
बिलासपुर के डियारा सैक्टर में सबसे ज्यादा प्रकोप है. यहां ही सबसे ज्यादा केस सामने आए हैं. केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा के निर्देशों पर दिल्ली व पुडूचेरी से विशेषज्ञों की टीमें यहां पहुंची थी. उन्होंने दो दिन तक शहर का दौरा किया.
Loading...
टीम के सदस्यों की मानें तो लोगों में जागरूकता की भारी कमी है. ऊपर से बरसात का मौसम है. इससे स्थिति और भी भयावह हो सकती है. उधर, स्वाथ्य विभाग और प्रशासन दावा कर रहा है कि डेंगू पर अंकुश लगा लिया गया है. वर्तमान समय बिलासपुर में डेंगू से 132 लोग पीड़ित हैं.

ये भी पढ़ें : बिलासपुर में डेंगू को लेकर सरकार अलर्ट, अब तक 94 मामले सामने आए
दमकल विभाग की NOC के बिना चल रहे नालागढ में 380 उद्योग

 

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर