vidhan sabha election 2017

तेजाब से झुलसी मंगेतर को अपनाने से नहीं हिचका जवान, ईक दूजे के हुए जफां-जाकिर

Maritunjay Puri | News18Hindi
Updated: December 8, 2017, 10:02 AM IST
तेजाब से झुलसी मंगेतर को अपनाने से नहीं हिचका जवान, ईक दूजे के हुए जफां-जाकिर
शादी समारोह के दौरान जफां के साथ जाकिर.
Maritunjay Puri | News18Hindi
Updated: December 8, 2017, 10:02 AM IST
कहते हैं प्यार हर जख्म भर देता है. कुछ ऐसा ही हो रहा है जफां के साथ. तेजाब हमले में चेहरे झुलसने के बाद भी उसके मंगेतर ने उसका साथ नहीं छोड़ा. उससे शादी कर ली.

सरहद पर देश की रक्षा करने के लिए पूरे जज्बे के साथ डटे रहने वाले हिमाचल के कांगड़ा के इस जवान ने समाज के लिए भी एक मिसाल पेश की है. फौजी जवान ने तेजाब कांड में झुलसी अपनी मंगेतर का साथ नहीं छोड़ा और शादी कर ली.

पंचायत के चकवन डूहकी गांव की यह कहानी अपने आप में समाज के लिए एक संदेश है. तेजाब हमले में बुरी तरह से झुलसी जफां (शालू) के साथ खुंडियां के समेतर के फौजी मंगेतर जाकिर ने निकाह कर लिया.

पहले 6 नवंबर को दोनों की शादी होनी थी, लेकिन 26 अक्तूबर को लंज के चकवन डूहकी में दो चचेरी बहनों ने पीने के पानी के लिए अपने ही चाचा की लड़की जफां पर तेजाब फेंक दिया था. हमले के सिलसिले में फिलहाल शालू की दोनों चचेरी बहनें और सगी ताई पुलिस हिरासत में हैं.

चीन बॉर्डर पर पर तैनात है जाकिर
शालू का पति जाकिर चीन बॉर्डर पर अपनी सेवाएं दे रहा है. जैसे ही जाकिर को जानकारी मिली कि उसकी मंगेतर पर तेजाब से हमला किया गया तो वह भी बिना देर शालू का इलाज करवाने में जुट गया. जाकिर ने कहा कि अगर निकाह के बाद तेजाब वाली घटना होती तो क्या वह अपनी पत्नी का इलाज नहीं करवाता. निकाह दो दिलों का बंधन होता है.

इलाज के दौरान हर पल शालू के साथ रहा जाकिर
इलाज के दौरान भी जाकिर शालू के साथ ही टांडा मेडिकल कॉलेज, आईजीएमसी व पीजीआई में रहा. पूरा इलाज अपनी देखरेख में करवाता रहा. शालू के पिता मुन्शीद्दीन ने बताया कि जाकिर ने किसी की परवाह किए बिना उनकी बेटी का साथ दिया.

जाकिर ने तेजाब हमले के बाद भी शालू से निकाह करने की बात कही, जिसे हम भी नाकार नहीं सके. दोनों का निकाह बड़ी सादगी के साथ कर दिया गया. उन्होंने बताया कि अब भी शालू का इलाज चल रहा है. हर रोज मरहम पट्टी के लिए ज्वाली जी अस्पताल जाना पड़ता है.

आज भी पालमपुर में आंखों के चेकअप के लिए शालू को पति जाकिर लेकर गया. उन्होंने कहा कि इस दौरान शालू के ससुर जलालुद्दीन व सास गुलामू बीबी भी शालू का हालचाल पूछते रहे. मुंशीद्दीन ने शालू के लिए ऐसा जीवन साथी मिलने पर भरी आंखों से जाकिर की प्रशंसा की. इलाके में भी जाकिर के इस कदम की खूब प्रशंसा हो रही है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर