लाइव टीवी

हिमाचल विधानसभा का शीत सत्र: हिमाचल को जल्द मिलेंगे 350 डॉक्टर

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 12, 2019, 9:58 AM IST
हिमाचल विधानसभा का शीत सत्र: हिमाचल को जल्द मिलेंगे 350 डॉक्टर
हिमाचल प्रदेश विधानसभा का विंटर सेशन.

Doctor Post in Himachal: चर्चा के बाद जब स्वास्थ्य मंत्री जवाब देने को तैयार हुए तो नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि सरकार नान सीरियस है.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में जल्द ही 350 डॉक्टर (Doctor Post) मिलेंगे. स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने धर्मशाला में हिमाचल विधानसभा के शीत सत्र के दौरान यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि भर्ती प्रकिया के लिए इंटरव्यू शुरू कर दिए गए हैं.

जानकारी के अनुसार, बुधवार को शीत सत्र (Winter Session) के तीसरे दिन स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने नियम 130 के तहत चर्चा के जवाब में कहा कि प्रदेश के स्वास्थ्य संस्थानों में खाली पड़े डाक्टरों के पदों को कैंपस इंटरव्यू के माध्यम से भरा जा रहा है. सरकार करीब 350 पदों को जल्द भरने जा रही है, जिसकी शुरूआत टांडा मेडीकल कालेज से 100 डाक्टरों के इंटरव्यू कर हो रही है. उन्होंने कहा कि हिम केयर योजना के तहत छूटे लोगों के कार्ड बनने पहली जनवरी से फिर शुरू हो जाएंगे. मंत्री ने कहा कि प्रदेश की तीनों फारमेसियों को सरकार पीपीपी मोड पर देने पर विचार कर रही है.

इन विधायकों ने पूछा था सवाल
विधानसभा सत्र के तीसरे दिन दोपहर भोजन के बाद नियम 130 के तहत प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं पर विधायक इंद्रदत लाखपाल, अरुण कुमार और राम लाल ठाकुर के प्रस्ताव पर चर्चा करवाई गई, जिसमें कुल 19 विधायकों ने अपने-अपने पक्ष रखे। तीखे आरोपों प्रत्यारोपों के बीच इस चर्चा को पूरा करवाने के लिए विधानसभा अध्यक्ष को दो बार समय बढ़ाना पड़ा, जिसमें एक बार एक घंटा और फिर आधा घंटा समय बढ़ाया गया.

धर्मशाला में शीत सत्र के दौरान मौजूद विधायक.
धर्मशाला में शीत सत्र के दौरान मौजूद विधायक.


यह भी बोले स्वास्थ्य मंत्री
विधायकों द्वारा उठाए गए सवालों का जबाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने कहा कि प्रदेश सरकार केंद्र की स्वास्थ्स योजनाओं के साथ जनता के हित में कई नई योजनाओं का लाभ दे रही है. उन्होंने कहा कि हिमाचल में आयुस्मान और हिम केयर योजनाओं के लिए जरूरतमंद लोगों को निशुल्क चिकित्सा सुविधा मुहैया करवा रही है. ऐसा सरकारी ही नहीं प्रदेश के करीब 56 निजी अस्पतालों के माध्यम से भी सुविधाएं दी जा रही हैं. उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार के समय कागज के टुकड़े पर कई ऐसे स्वास्थ्य संस्थान खोल दिए, जो कई जगह तो ढूंढने पर भी नहीं मिल पाए. ना तो स्टाफ की व्यवस्था हुई न ही भवन थे.बच्चे की मौत पर कंपनी को नोटिस
उन्होंने कहा कि हमीरपुर में एक एंटिबाइयटिक इंजेक्स के बाद बच्ची की मौत हुई थी, उस मामले में संबंधित कंपनी को नोटिस देकर जांच के साथ-साथ कार्रवाई भी होगी. स्वास्थ्य मंत्री ने विधायक राम लाल ठाकुर के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि उन्होंने जो आरोप लगाए हैं, उसके सबूत लेकर आएं. दवाइयों की गुणवता सही है. देश भर में 118 सेंपल लिए थे, जिनमें से हिमाचल के छह सेंपल फेल हुए हैं. सरकार ने ऐसी कंपनियों के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए हैं.

चंबा मेडिकल कालेज पर सवाल
डलहौजी से विधायक आशा कुमारी के सवाल पर कहा कि स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि चंबा मेडिकल कालेज में प्रोफेसर, असिस्टेंट और एसोसिएट के पद भर जा रहे है. भवन निर्माण सहित अन्य कार्य के लिए सरकार औपचारिकताओं के दौर से गुजर रही हैं. 320 करोड़ से टेंडर हो रहा है. मंत्री ने कहा कि सरकार हेल्थ वर्कर के खाली स्थानों को भरने का प्रपोजल तैयार कर रही है. चर्चा में अरुण कुमार, राम लाल ठाकुर, राकेश पठानिया, आशा कुमारी, विक्रम सिंह जरयाल, विक्रमादित्य सिंह, नरेंद्र सिंह ठाकुर, नंद लाल, सुखराम चौधरी, कर्नल धनी राम शांडिल, राकेश सिंघा, कमलेश कुमारी, सुंदर सिंह ठाकुर, मुल्ख राज प्रेमी, मोहन लाल ब्राक्टा, जीत राम कटवाल, लखविंद्र राणा, राजेंद्र गर्ग और परमजीत सिंह पम्मी ने भाग लिया.

सरकार नॉन सीरियस-मुकेश
चर्चा के बाद जब स्वास्थ्य मंत्री जवाब देने को तैयार हुए तो नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि सरकार नान सीरियस है. विधानसभा सत्र किस लिए है. ना तो मुख्यमंत्री सदन में हैं न ही अन्य मंत्री सदन में हैं. कोरम भी पूरा नहीं था. ऐसे हालात में चर्चा की कोई औचित्य नहीं है, जिसके थोड़ी देर में मुख्यमंत्री सहित मंत्री व विधायक सदन में लौट आए. अग्रिहोत्री ने स्वास्थ्य मंत्री के कागज के टुकड़े पर अधिसूचना जारी करने के मामले में तीखे शब्दों में कहा कि क्या भाजपा सरकार सोने या हीरों से जड़ित कागजों पर अधिसूचना जारी करती है.

स्वास्थ्य मंत्री ने घेरा
स्वास्थ्य मंत्री ने पूर्व कांग्रेस द्वारा की गई नोटिफिकेशनों पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि नूरपुर में एक पीएचसी की नोटिफिकेशन की गई थी, जिसे सता में आने के बाद सरकार कई माह तक तलाशती रही, लेकिन उस नाम की कोई जगह ही नूरपुर या जसूर सहित पूरे क्षेत्र में मिल पाई, जिससे कांग्रेस सरकार की बिना तथ्यों के जल्दबाजी साफ झलकती है.

खूब लगे ठहाके
चर्चा के दौरान जब विधायक राकेश पठानिया सरकार की उपलिब्धयां गिना रहे थे तो विधायक सुखविंद्र सुखू व आशा कुमार ने चुटकी ली जिस पर खूब ठहाके लगे. आशा कुमारी ने कहा कि इनका बतौर विधायक यह अंतिम भाषण है. विधायक हर दिन नए नए सूट बदल रहे हैं, मंत्री बन गए तो क्या होगा. उधर राकेश पठानिया जब वेंटिलेटर लगाने की बात कर रहे थे, तो सुक्खू ने चुटकी लेते हुए कहा कि जल्द ओथ नहीं हुई तो जरूरत पड़ सकती है. चर्चा के दौरान विधायक पत्र बम का जिक्र करके भी स्वास्थ्य मंत्री पर टिप्पणियां करते रहे. इसी दौरान जब स्वास्थ्य मंत्री ने नेता प्रतिपक्ष की ओर इशारा करते हुए कहा कि यह पत्र बम आपकी तरफ से भी हो सकता है. इस पर अग्रिहोत्री ने तीखा जवाब देते हुए कहा कि वह जब भी वार करते हैं, छाती पर करते हैं, पीठ पर नहीं. पत्रवम आपका अपना मामला है, उसे आप स्वयं ही निपटें.

ये भी पढ़ें: 11 दिन से लापता शुभम: आरोपी दोस्त का होगा Polygraph टेस्ट, कोर्ट ने दी मंजूरी

शीतलहर के बाद ठंड से ठिठुरा हिमाचल, 2 दिन भारी बारिश-बर्फबारी के आसार

मिड-डे मील में जातिगत भेदभाव: हेडमिस्ट्रेस सस्पेंड, बच्चों के बयान दर्ज

हिमाचल विधानसभा में गूंजा मिड-डे मील में जातिगत भेदभाव मामला, जांच के आदेश

सुंदरनगर में फर्जी IAS बनकर 5 लाख रुपये मांगे, पुलिस ने दर्ज की FIR

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 9:52 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर