लाइव टीवी

हिमाचल विधानसभा का शीत सत्र: पहले ही दिन कांग्रेस का हंगामा, वॉकआउट किया

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 9, 2019, 5:55 PM IST
हिमाचल विधानसभा का शीत सत्र: पहले ही दिन कांग्रेस का हंगामा, वॉकआउट किया
धर्मशाला: विधानसभा से वॉकआउट करते हुए कांग्रेस विधायक.

Himachal Assembly Winter Session: नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने नियम-67 के स्थगन प्रस्ताव के तहत इंवेस्टर मीट को लेकर चर्चा की मांग उठाई. अग्निहोत्री ने कहा कि इंवेस्टर मीट प्रदेश के इतिहास में सबसे बड़ा घोटाला हुआ है.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा (Himachal Pradesh Vidhan Sabha) के शीत सत्र (Winter Session) का सोमवार को आगाज हो गया. दोपहर 2 बजे से धर्मशाला (Dharamshala) के तपोवन (Tapovan) में विधानसभा का सत्र शुरू हुआ. राष्ट्रगान के साथ शुरू हुए सत्र में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल ने सभी सदस्यों का स्वागत किया.

छह दिन तक चलने वाले शीतकालीन सत्र के पहले दिन की कार्यवाही चार पूर्व सदस्यों जय किशन शर्मा, विक्रम सिंह कटोच, राम रत्तन ठाकुर व गंधर्व सिंह के निधन पर शोकोदग्गार के साथ शुरू हुई. वहीं, सत्र शुरु होने से पहले ही हंगामा देखने को मिला. क्योंकि नेता विपक्ष को मुख्य गेट से एंट्री नहीं मिली तो उन्हें वहां धरना दिया. सीएम के मनाने पर वह माने. वहीं, सत्र की शुरुआत के बाद कांग्रेस ने सदन से वॉकआउट कर दिया.

इन्वेस्टर मीट को लेकर विपक्ष का हंगामा
मुख्यमंत्री जयराम ने दो नए सदस्यों विशाल नेहरिया और रीना कश्यप का स्वागत किया. इसके बाद नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने नियम-67 के स्थगन प्रस्ताव के तहत इंवेस्टर मीट को लेकर चर्चा की मांग उठाई. अग्निहोत्री ने कहा कि इंवेस्टर मीट प्रदेश के इतिहास में सबसे बड़ा घोटाला हुआ है. सरकार हिमाचल को बेचने की तैयारी है. अफ़सर हिमाचल को लुटाने की फ़िराक में है. कांग्रेस यह नहीं होने देगी. इसको लेकर सत्ता पक्ष ने भी हल्ला मचाना शुरू कर दिया. दोनों ही तरफ़ से बहसबाजी शुरू हो गई. सत्ता पक्ष ने विपक्ष के ख़िलाफ़ "चोर मचाए शोर" के नारे शुरू कर दिए. उधर विपक्ष ने भी नारेबाजी शुरू कर दी. दोनों तरफ से सदन में ही ज़ोरदार नारेबाज़ी शुरू हो गई. विपक्ष ने "बेच दिया भई बेच दिया, सारा हिमाचल बेच दिया" और "आली बाबा चालीस चोर "के नारे लगाए. इसी हंगामे के बीच विपक्ष ने सदन से वाकआउट कर दिया.

बजट सत्र से विधानसभा सत्रों में नहीं मिलेगा सस्ता खाना
लोकसभा में खाने पर मिलने वाले अनुदान को ख़त्म किए जाने के बाद हिमाचल में भी इसकी आवाज़ उठ रही थी. इस पर विपक्ष व अन्य सदस्यों के साथ चर्चा के बाद हिमाचल में भी सत्र के दौरान खाने पर मिलने वाले अनुदान को खत्म करने का निर्णय लिया है. यह वक्तव्य मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने सदन में दिया. उन्होंने बताया कि बजट सत्र में ये अनुदान बन्द हो जाएगा. ठियोग के विधायक राकेश सिंघा ने इसका समर्थन किया और मांग उठाई कि जो पिछले सदन में विधायकों का भत्ता बड़ा है, वह भी वापस लिया जाए.

सरकार इंवेस्टर मीट को लेकर चर्चा के लिए तैयार-सीएमविपक्ष के वाकआउट करने के बाद मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस शासित प्रदेशों में भी ग्लोबल इन्वेस्टर मीट हुई है. जब हिमाचल में इंवेस्टर मीट होती है तो उसपर हंगामा होता है. अपने कार्यकाल में जब अग्निहोत्री उद्योग मंत्री थे, तब वह ऐसा नहीं कर पाए, इसलिए इन्हें इंवेस्टर मीट की पीड़ा है. भाजपा ने सभी राज्यों का मॉडल देखा और एक साल में अध्ययन करने के बाद धर्मशाला में सफल आयोजन किया. 11 देशों के इन्वेस्टर हिमाचल आए. ऐसे कामों पर विपक्ष को सहयोग करना चाहिए. नियम के तहत चर्चा में विपक्ष के सभी सवालों का जवाब दिया जाएगा.

धर्मशाला में तपोवन से कांग्रेस ने किया वॉकआउट.
धर्मशाला में तपोवन से कांग्रेस ने किया वॉकआउट.


इन्हें दी गई श्रद्धांजलि
इससे पहले, मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि मॉनसून सत्र और शीतकालीन सत्र के बीच चार पूर्व विधानसभा सदस्यों का निधन बड़ी क्षति है. पूर्व विधायक जय किशन शर्मा का 74 वर्ष की आयु में ऊना में निधन हो गया. वह 1998 में हरोली विधानसभा से निर्वाचित हुए व भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष भी रहे. मुख्यमंत्री ने कांग्रेस सदस्य रहे विक्रम सिंह कटोच निधन पर भी शोक जताया. उनका गत अक्टूबर में 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया. विक्रम कटोच 1972 इंदौरा से विधायक व हिमाचल प्रदेश में राज्य मंत्री भी रहे. बीडीसी से अपना राजनीतिक जीवन शुरू किया. इसके अलावा, राम रत्तन ठाकुर के निधन पर भी शोक व्यक्त किया गया. उनका 83 वर्ष की आयु में नवंबर में निधन हुआ. कांगड़ा शाहपुर में 1977 में जनता पार्टी से चुनाव लड़कर विधानसभा पहुंचे थे. भाजपा ने उन्हें दो बार टिकट दिया. वह 4 माह तक आपातकाल के दौरान जेल में भी रहे. सरपंच के रूप में उनका राजनीतिक जीवन शुरू हुआ था. सोमवार को पूर्व सदस्य रहे गंधर्व सिंह का 87 वर्ष की आयु में निधन हो गया. 1990 में चम्बा जिला के बनीखेत से सदस्य चुने गए थे. माननीयों के निधन पर संवेदना प्रकट करता है. मुख्यमंत्री के बाद विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने भी चारों दिवंगत आत्माओं के लिए शोक व्यक्त किया.

ये भी पढ़ें: हिमाचल विधानसभा के बाहर शीत सत्र से पहले हंगामा, गेट पर नेता विपक्ष का धरना

हिमाचल न्यायिक सेवा: चुनौती बनीं टॉपर, 10 में से 8 स्थान बेटियों ने कब्जाए

देवभूमि हिमाचल भी महिलाओं के लिए नहीं सुरक्षित, हर 24 घंटे के बाद महिला से रेप

शिमला के रामपुर में खाई में गिरी कार, महिला सहित 2 लोगों की मौत

नाहन में सनसनीखेज वारदात: घर से उठाया, गला रेता और मरा समझकर छोड़ गए

मंडी इंटरनेशनल एयरपोर्ट महज जुमलेबाजी और घोषणाओं तक ही सीमित: कांग्रेस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 5:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर