COVID-19: कांगड़ा के छोटा बंगाल में कोरोना की दस्तक, 40% आबादी संक्रमित

छोटा बंगाल में पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी.

छोटा बंगाल में पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी.

Corona virus: छोटा भंगाल की सीमा मंडी जिले के साथ लगती है, इसलिये यहां के लोगों को कांगड़ा की बजाय मंडी स्थित स्वास्थ्य विभाग की सेवाएं आसानी से मिल सकती हैं, यही वजह है कि उन्हें वक़्त पर सही इलाज मिल सके, इसके लिये मंडी स्थित मेक शिफ्ट होस्पिटल में भी व्यवस्था की गई है.

  • Share this:

धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा (Kangra) के छोटा भंगाल में भी कोरोना के संक्रमण (Corona Virus) ने दस्तक दे दी है. आलम ये है कि यहां की 40 फ़ीसदी आबादी कोरोना की चपेट में आ चुकी है. इतना ही नहीं, छोटा भंगाल (Chota Bangal) में स्वास्थ्य महकमे के दो प्राथमिक चिकित्सा केंद्र यानी प्राइमरी हैल्थ सेंटर में तैनात स्टाफ़ भी इस संक्रमण की चपेट में आया है. आनन-फानन में वहां मोबाइल स्वास्थ्य सेवा का संचालन करना पड़ा है. मोबाइल एम्बुलेंस (Mobile Ambulance) के जरिये ही वहां स्वास्थ्य सेवाओं को सुचारू रखने का फ़ैसला लिया गया है.

मोबाइल स्वास्थ्य सेवा से काम

फ़िलहाल, मोबाइल स्वास्थ्य सेवा के जरिये वहां रहने वाले लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने की जदोजहद चल रही हैं. बाकायदा, छोटा भंगाल की इस स्थिति को मद्देनजर रखते हुये ख़ुद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी सजग हैं. उन्होंने कांगड़ा के CMO डॉक्टर गुरदर्शन गुप्ता के साथ इस बाबत बातचीत करते हुये मंडी स्थित मेडिकल कॉलेज नेरचौक का भी सहयोग लेने का हवाला दिया है,

मंडी जिले से सटा इलाका
दरअसल, छोटा भंगाल की सीमा मंडी जिले के साथ लगती है, इसलिये यहां के लोगों को कांगड़ा की बजाय मंडी स्थित स्वास्थ्य विभाग की सेवाएं आसानी से मिल सकती हैं, यही वजह है कि उन्हें वक़्त पर सही इलाज मिल सके, इसके लिये मंडी स्थित मेक शिफ्ट होस्पिटल में भी व्यवस्था की गई है. छोटा भंगाल में कोरोना संक्रमण फैलने की वजह वहां चल रहे पावर प्रोजेक्ट में काम करने वाले बाहर से आने वाले लोगों को बताया जा रहा है, बाकायदा इसकी तस्दीक़ ख़ुद कांगड़ा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर गुरदर्शन गुप्ता और जिलाधीश राकेश प्रजापति ने की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज