• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • पंचायत चुनाव-2020: ये आलिशान होटल नहीं, हिमाचल की पंदरेहड़ पंचायत है, जिसमें है कोरपोरेट दफ्तर, जिम और CCTV

पंचायत चुनाव-2020: ये आलिशान होटल नहीं, हिमाचल की पंदरेहड़ पंचायत है, जिसमें है कोरपोरेट दफ्तर, जिम और CCTV

कांगड़ा की पंदरेहड़ पंचायत.

कांगड़ा की पंदरेहड़ पंचायत.

Panchayat Elections in Himachal: डीसी कांगड़ा राकेश प्रजापति ने छले पांच साल में पंदरेहड़ पंचायत का प्रदर्शन सराहनीय रहा है. पंदरेहड़ पंचायत ने समूचे हिमाचल में ‌कांगड़ा का नाम रोशन किया है.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में मौजूदा समय में पंचायत चुनाव 2020 (Panchayat Elections-2020) को लेकर सरगर्मियां शिखर पर हैं. पंचायतें हर गांव में विकास की धुरी हैं. ऐसे में जिला ‌कांगड़ा (Kangra) के नूरपुर ब्लॉक की पंदरेहड़ पंचायत पूरे हिमाचल में रोल मॉडल बन कर सामने आई है. इन दिनों यह पंचायत प्रदेश भर में आकर्षण का केंद्र बनी हुई है. पंचायत प्रतिनिधियों ने अपने पंचायत कार्यालय को कॉरेपोरेट दफ्तर (Corporate Office) की तरह बनाया है. पंचायत में बाकायदा जिम (Gym) भी बनाया गया है.

पंचायत में आने वाले मेहमानों के लिए होटल की तरह रेस्ट रूम है. पंचायत कार्यालय का कांफ्रेंस हॉल कोरपोरेट दफ्तर की तरह है और पूरा पंचायत कार्यालय सीसीटीवी कैमरों से लेस है. पंचायत में सामुदायिक भवन और सिलाई केंद्र सहित कई अत्याधुनिक सुविधाएं नागरिकों के लिए मुहैया करवाई गई हैं. यह सब कुछ पंचायत प्रतिनिधियों ने अपने विजन और मेहनत के दम पर किया है. पंचायत के कायाकल्प में प्रधान ने अपना बड़ा रोल निभाया है।

सरकारी प्राइमरी स्कूल में स्मार्ट कक्षाएं, प्रधान-शिक्षक पढ़ा रहे अपने बच्चे
पिछले नौ साल से बंद पड़े सरकारी प्राइमरी स्कूल नवनियुक्त प्रधान न केवल खुलवाया, बल्कि उसमें स्मार्ट कक्षाएं तक शुरू करवाई हैं. प्राइमरी स्कूल की पूरी पढ़ाई अंग्रेजी के माध्यम में की गई है. पंचायत प्रधान दावा करते हैं कि उनकी पंचायत का प्राइमरी स्कूल सूबे का ऐसा पहला स्कूल है, जिसमें स्मार्ट कक्षाएं शुरू हुई हैं. विशेष बात यह है कि इस सरकारी स्कूल ने पंचायत प्रधान सिकंदर राणा अपने बच्चों को भी पढ़ा रहे हैं. यही नहीं, इसी स्कूल के अध्यापक भी अपने बच्चों को यहीं पढ़ा रहे हैं. प्रधान सिकंदर राणा की की पत्नी निशुल्क रूप से सरकारी प्राइमरी स्कूल में बच्चों को पढ़ा रही हैं.

पंचायत का कांन्फ्रेंस हाल.


मनरेगा के पैसे से बदली तस्वीर

पंचायत प्रतिनिधियों ने 10 लाख रुपये की लागत से बच्चों के ‌खेलने के लिए खेल मैदान अपने दम पर बनाया है. पंचायत प्रतिनिधियों की ओर से गांव की खेतीबाड़ी को लाभदायक बनाने के लिए पांच चेक डैम बनाकर सिंचाई की व्यवस्था की गई है. पंदरेहड़ पंचायत में मनरेगा के तहत 56 वाटर टैंक बनाए गए हैं. पंचायत का हर घर पक्की सड़क और गली से जोड़ा गया है। अब इस पंचायत के विकास की एक डाक्यूमेंट्री बनाई गई है, जिसमें पंचायत प्रधान और प्रतिनिधियों की खूब प्रशंसा हो रही है.

मनरेगा के तहत महज तीन माह में तैयार किया पुल
पंदरेहड़ पंचायत ने मनरेगा के तहत 23 लाख रुपए की लागत से एक बड़े पुल का निर्माण करवाया है. प्रदेश में इतनी बड़ी लागत से शायद ही कोई पुल मनरेगा योजना के तहत बना हो. जबकि सरकारी एजेंसियां ऐसा पुल दोगुनी लागत पर बनाती हैं. राकेश पठानिया, ‌वन, युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री ने कहा कि पंदरेहड़ पंचायत ने प्रदेश भर में विकास की एक नई मिसाल कायम की है. बाकी पंचायतें पंदरेहड़ से काफी कुछ सीख सकती हैं कि किस तरह से विकास कार्य होते हैं. वहीं, डीसी कांगड़ा राकेश प्रजापति ने छले पांच साल में पंदरेहड़ पंचायत का प्रदर्शन सराहनीय रहा है. पंदरेहड़ पंचायत ने समूचे हिमाचल में ‌कांगड़ा का नाम रोशन किया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज