लाइव टीवी

हिमाचल में कागड़ा में सबसे अधिक नशा तस्करी, 30 दिन में पुलिस ने पकड़े 35 मामले
Dharamsala News in Hindi

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 19, 2019, 5:25 PM IST
हिमाचल में कागड़ा में सबसे अधिक नशा तस्करी, 30 दिन में पुलिस ने पकड़े 35 मामले
हिमाचल के नार्थ रेंज में अपराध को लेकर पुलिस की बैठक.

Crime Meeting in Kangra: डीआईजी ने बताया कि खनन एक्ट में 36 के लगभग विभाग हैं, जिन्हें कार्रवाई का अधिकार है. खनन के मामलों में नार्थन रेंज चालान भी बढ़े हैं.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में कांगड़ा (Kangra) की सीमाएं पंजाब और जम्मू-कश्मीर के साथ लगती हैं. यही वजह है कि आज कांगड़ा हिमाचल का उड़ता कांगड़ा बनता जा रहा है.. हिमाचल में सबसे ज्यादा नशे (Drugs) के मामले कांगड़ा (Kangra) से ही सामने आते हैं. ऐसे में कांगड़ा पुलिस ने इसे उड़ता कांगड़ा बनाने से बचाने के लिए हाल ही में एक व्याप्क अभियान छेड़ा था.

नतीजतन, 30 दिन के अंदर पुलिस ने 35 मामले एनडीपीएस (NDPS) एक्ट के तहत, 70 मामले एक्साइज़, जबकि लाखों लीटर अवैध शराब भी नष्ट की है और कई मामलों के तहत प्राथमिकी दर्ज करते हुए आरोपियों को सलाखों के पीछे धकेला है इस अभियान के दौरान जिलाभर के यूथ क्लबों, स्कूलों-कॉलेजों और पंचायतों में जाकर भी लोगों को नशे के ख़िलाफ़ आगाह किया है.

धर्मशाला में बैठक
हिमाचल के नॉर्थ जॉन में आपराधिक गतिविधियों और इनको रोकने के लिए दूसरे विभागों के सहयोग के लिए धर्मशाला में समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया. नॉर्थ जॉन के DIG संतोष पटियाल की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में हर प्रकार के अपराधों पर चर्चा की गई और इन्हें कैसे रोका जाए इस पर भी अधिकारियों से सवाल-जबाव किये गए. बैठक में महिला अपराधों पर विशेष रूप से चर्चा की गई, वहीं पुलिस थाना में आने वाले हर व्यक्ति की बात सुनने के निर्देश भी पुलिस अधिकारियों को दिए गए. बैठक में जिला कांगड़ा, चंबा व ऊना के पुलिस अधिकारियों ने भाग लिया.



डीआईजी संतोष पटियाल ने बताया कि बैठक में अपराधों व अन्य मामलों की समीक्षा की गई.
डीआईजी संतोष पटियाल ने बताया कि बैठक में अपराधों व अन्य मामलों की समीक्षा की गई.


ये बोले डीआईजी संतोष पटियाल
डीआईजी संतोष पटियाल ने बताया कि बैठक में अपराधों व अन्य मामलों की समीक्षा की गई. महिलाओं के खिलाफ हिंसा के मामलों पर चर्चा की गई है. पूर्व में जिस एरिया में ड्रग पेडलर और ड्रग एडिक्ट अधिक होते थे, उन क्षेत्रों में अब काफी हद तक स्थिति नियंत्रण में है. ड्रग समाज के लिए बहुत खतरनाक एंगल है, जिस पर हम काम कर रहे हैं. नशा निवारण निवारण कमेटियों के माध्यम से लोगों को जागरूक करके नशे के खिलाफ काम किया जा रहा है.

खनन के मामलों में चालान और जुर्माना भी बढ़े
डीआईजी ने बताया कि खनन एक्ट में 36 के लगभग विभाग हैं, जिन्हें कार्रवाई का अधिकार है. खनन के मामलों में नार्थन रेंज चालान भी बढ़े हैं, जुर्माना भी बढ़ा है. खनन विभाग का भी ऐसे मामलों में सहयोग लिया जाता है. पुलिस द्वारा ऐसे मामलों में कार्रवाई में इजाफा किया गया है. पुलिस को निर्देश दिए गए हैं कि पुलिस थाना में जो भी व्यक्ति आता है, उसकी बात सुनी जाए, न कि उसे जज किया जाए. जनता का पुलिस पर विश्वास बढ़ेगा तो पुलिस को जनता का सहयोग भी मिलता और जनता का भला भी होता है. सही में देखा जाए तो जनता ही पुलिस की ताकत है.

ये भी पढ़े: हिमाचल के चंबा में 20 साल की युवती से गैंगरेप, दोनों आरोपी गिरफ्तार

हिमाचल में 4 दिन धूप खिलने के बाद फिर बर्फबारी, केलांग में पारा -12 डिग्री

लेक्चरर ने नाबालिग छात्रा से Whats App पर मांगी अश्लील तस्वीरें, FIR दर्ज

CAA के बीच NRC की पैरवी: हिमाचल BJP अध्यक्ष सत्ती बोले-देश धर्मशाला नहीं

पर्दे के पीछे छुपाया था चिट्टा, सुंदरनगर पुलिस ने रेड डाली, 2 युवक गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 19, 2019, 5:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर