कांगड़ा: नाहरवन में मिला शव, स्वैटर और जूते लापता शिक्षक के निकले, शव पर संशय

कांगड़ा में जंगल में मिला शव.

Dead Body Found in Kangra: गुमशुदगी की रिपोर्ट आने के बाद से ही पुलिस ने प्रकाश जग्गी को ढूंढने का अभियान छेड़ रखा था. इसी बीच 18 दिन बीत जाने के बाद पुलिस को एक अज्ञात शव नाहरवन के जंगल में एक नाले के पास पड़ा हुआ मिला.

  • Share this:
    ब्रजेश्वर साकी

    देहरा. हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा (Kangra) जिला की ज्वालामुखी पुलिस स्टेशन के अंतर्गत ग्राम पंचायत नाहरवन के जंगलों में एक शव (Dead body) मिला है, जिसकी शिनाख्त अभी नहीं हो पाई है. दरअसल, ज्वालामुखी के अंतर्गत ग्राम पंचायत नाहरवन के वार्ड नम्बर 5 से बीते 22 अप्रैल से सैर के दौरान सेवानिवृत्त अध्यापक प्रकाश जग्गी लापता (Missing) हुए थे. प्रकाश जग्गी के घर से 700 से 800 मीटर दूर जंगल के नाले में शव के मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई है. नाले में पड़े शव की सूचना मिलने के बाद स्थानीय पुलिस (Police) ज्वालाजी व रक्कड़ पुलिस के आलाधिकारियों सहित धर्मशाला से फोरैंसिक टीम मौके पर पहुंची व मामले को लेकर साक्ष्य जुटाए. तकरीबन 3 से भी ज्यादा घंटे तक मौजूद रही धर्मशाला से आई फोरैंसिक टीम ने यहां हरेक साक्ष्य जुटाने का प्रयास किया.

    स्वैटर और जूते तो प्रकाश जग्गी के लेकिन शव नहीं
    शव मिलने के बाद सबसे पहले पुलिस ने गुमशुदा प्रकाश जग्गी के परिजनों को शिनाख्त के लिए मौके पर बुलाया तो परिजनों का इस पर कहना था कि शव के स्वैटर व जूते तो उनके ही हैं, परंतु शव को लेकर परिजनों ने इंकार किया. प्रकाश जग्गी के लड़के का कहना है कि जो स्वैटर और जूते हैं. वह उसके पापा के ही हैं, लेकिन ये शव उनका नहीं है.

    परिजनों ने मौके से नहीं उठाने दिया शव
    परिजन बाद में शव को यहां से न उठाने को लेकर अड़े रहे और एसपी कांगड़ा के समक्ष ही शव को उठाने की मांग करते रहे. मौके के हालात देखकर एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन भी मौके पर पहुंच गए व उन्होंने परिजनों को पूरा आश्वासन दिया कि वह मामले की पूरी जांच करेंगे. इस बीच एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन ने परिजनों के शव को लेकर हुई आशंका के चलते उसके डीएनए करवाने की भी बात कही है. इसकी रिपोर्ट 10 दिन के भीतर आ जाएगी व शव को लेकर परिजनों के मन में चली शंका भी दूर होगी. यहां आश्वासन मिलने के बाद परिजनों ने शव को ले जाने दिया.

    पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए टांडा भेजा शव
    पुलिस ने भी शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए टांडा भेज दिया है. मामले की पुष्टि डीएसपी ज्वालाजी तिलक राज शांडिल ने की है. उन्होंने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है, साथ ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मृतक की मौत के सही कारण पता चलेंगे. जांच पूरी होने के बाद ही मामले पर कुछ कहा जा सकता है.

    22 अप्रैल को लापता हुए थे प्रकाश जग्गी
    प्रकाश जग्गी 22 अप्रैल सुबह अपने घर से रोजाना की तरह सैर करने निकले थे परंतु सैर करने के पश्चात वापस घर नहीं लौटे, जिसके बाद परिजनों ने अपने तौर पर तलाशी करने के बाद थाना ज्वालामुखी में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवा दी थी. परिवार वालों ने पता लगाने की कोशिश की लेकिन प्रकाश जग्गी का कोई पता नहीं लग सका. हारकर परिवार वालों ने पुलिस की सहायता मांगी थी. उधर, सेवानिवृत्त अध्यापक के अचानक गायब होने की खबर से इलाके के लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है. हालांकि गुमशुदगी की रिपोर्ट आने के बाद से ही पुलिस ने प्रकाश जग्गी को ढूंढने का अभियान छेड़ रखा था. इसी बीच 18 दिन बीत जाने के बाद पुलिस को एक अज्ञात शव नाहरवन के जंगल में एक नाले के पास पड़ा हुआ मिला.

    प्रकाश जग्गी के परिजनों ने इन लोगों पर लगाए हैं आरोप
    उपरोक्त मामले के संदर्भ में शिकायतकर्ता राजेश जग्गी पत्नी प्रकाश जग्गी निवासी पंजियाड़ा ने थाना में रिपोर्ट दर्ज करवाते हुए उसके पति के अपहरण में गांव के ही 8 लोगों पर आरोप लगाया है. इन आरोपियों में से एक महिला भी शामिल है. राजेश का आरोप है कि उक्त लोगों ने गुप्त तरीके से उसके पति का अपहरण किया है. हालांकि पुलिस ने राजेश जग्गी के बयान पर उपरोक्त 8 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर आगामी छानबीन शुरू कर दी थी.