लाइव टीवी

कड़े पहरे में मां ज्वालामुखी के दर्शन कर सकेंगे श्रद्धालु, 29 सितंबर से नवरात्र मेले की शुरुआत
Dharamsala News in Hindi

News18 Himachal Pradesh
Updated: September 17, 2019, 6:38 AM IST
कड़े पहरे में मां ज्वालामुखी के दर्शन कर सकेंगे श्रद्धालु, 29 सितंबर से नवरात्र मेले की शुरुआत
मेला प्रबंधकों ने श्रद्धालुओं से दर्शन, पूजा अर्चना और मंदिर परिक्रमा के समय धक्का-मुक्की नहीं करने की अपील की.

एसडीएम ने स्थानीय व बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि वे नवरात्र के दौरान स्थानीय प्रशासन, मंदिर समितियों व धार्मिक स्थलों के स्वयंसेवी श्रद्धालुओं को व्यवस्था बनाए रखने में अपना सहयोग दें.

  • Share this:
कांगड़ा. हिमाचल के कांगड़ा जिले में प्रसिद्ध शक्तिपीठ ज्वालामुखी (Shaktipeeth Jwalamukhi) मंदिर में नवरात्र मेले (Navratra Fair) का आयोजन 29 सितंबर से 08 अक्तूबर के दौरान किया जाएगा. सहायक मंदिर आयुक्त एसडीएम अंकुश शर्मा ने बताया कि सोमवार को मेले की तैयारियों को लेकर बैठक आयोजित कर कई महत्वपूर्ण लिए गए. इनमें बाहरी राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं (Devotees) के लिए किए जाने वाले प्रबंधों (Management), श्रद्धालुओं को कड़े पहरे में माता के दर्शन करवाने, श्रद्धालुओं के लिए पीने के पानी की व्यवस्था, नि:शुल्क लंगर व्यवस्था , नि:शुल्क औषधालय व्यवस्था, मुंडन व्यवस्था सहित अन्य प्रकार की तैयारियों को करने के संदर्भ में निर्णय लिए गए.

एसडीएम ने समस्त अधिकारियों से कहा कि वे बैठक में लिए गए निर्णयों को जमीनी स्तर पर अमलीजामा पहनाने में पीछे न रहें, जो भी निर्देश दिए गए हैं उनपर सख्ती से अमल करें. उन्होंने मेले के दौरान साफ-सफाई की बेहतर व्यवस्था एवं स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करने और मेले के दौरान सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर अस्थायी शौचालयों की सुविधा उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए. सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को पेयजल स्रोतों की साफ सफाई सुनिश्चित करने और सभी स्रोतों में क्लोरीफिकेशन के निर्देश दिए गए.

मंदिर रोड पर भिक्षा देने पर पूर्ण प्रतिबंध 

एसडीएम ने कहा कि पुलिस, स्वास्थ्य, लोक निर्माण, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य, गृह रक्षा, परिवहन, विद्युत इत्यादि विभाग पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं को हर संभव सहायता एवं सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए तत्पर रहें. मंदिर रोड पर ढोल-नगाड़े और भिक्षा देने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा. साथ ही कन्या पूजन के लिए पहले से एक निश्चित स्थान निर्धारित किया जाएगा.



एसडीएम ने कहा कि लंगर में परोसे जाने वाले भोजन की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाए. उन्होंने स्थानीय व बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि वे नवरात्र के दौरान स्थानीय प्रशासन, मंदिर समितियों व धार्मिक स्थलों के स्वयंसेवी श्रद्धालुओं को व्यवस्था बनाए रखने में अपना सहयोग दें. उन्होंने किसी भी सूरत में वाहनों में क्षमता से अधिक सवारी को नहीं बैठाने की बात कही. उन्होंने कहा कि लोग यातायात नियमों का सख्ती से पालन करें ताकि दुर्धटनाओं और अनावश्यक जाम से बचा जा सके.

कांगड़ा के ज्वालामुखी मंदिर में 29 सितंबर से शुरू हो रहे शारदीय नवरात्र मेले की तैयारी को लेकर बैठक का आयोजन.


श्रद्धालुओं से अपने सामान तथा बच्चों को अकेले न छोड़ने का आग्रह करते हुए एसडीएम ने कहा कि किसी भी अनजान व्यक्ति पर भरोसा न करें. अपने खान-पान का विशेष ध्यान रखें ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी से बचा जा सके.

श्रद्धापूर्वक पंक्तिबद्ध हो कर भक्ति भाव से करें माता का दर्शन

एसडीएम ने श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि वे मंदिर में दर्शन, पूजा अर्चना अथवा मंदिर परिक्रमा के समय धक्का-मुक्की न करें. वे श्रद्धापूर्वक पंक्तिबद्ध हो कर भक्ति भाव से माता का दर्शन करते हुए व्यवस्था को सुचारु बनाने में प्रशासन को सहयोग दें. उन्होंने श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों को सचेत करते हुए कहा कि वे अपनी यात्रा के दौरान किसी भी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान न दें. किसी भी प्रकार की कठिनाई आने पर स्थानीय प्रशासन को सूचित करें.

(कांगड़ा से ब्रजेश्वर साकी की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें - जयराम ठाकुर कैबिनेट का बड़ा फैसला- छात्रों को बांटे जाएंगे फ्री लैपटॉप

ये भी पढ़ें - HC के आदेश पर नाहन में अवैध निर्माण हटाने का कार्य शुरू

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 17, 2019, 6:38 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर