धर्मशाला: दलाई लामा निवास के पास 160 साल से चल रही दुकान होगी बंद
Dharamsala News in Hindi

धर्मशाला: दलाई लामा निवास के पास 160 साल से चल रही दुकान होगी बंद
धर्मशाला में 160 साल पुरानी दुकान.

160 years old Shop to be closed in Dharamshala: साल 1860 में यहां यह दुकान खोली गई थी, जो कि अब बंद होने जा रही है.

  • Share this:
धर्मशाला: हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा (Kangra) जिले के मशहूर टूरिस्ट स्पॉट मैकलोडगंज शहर के मध्य में तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा (Dalai Lama) के निवास से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित 160 साल पुरानी प्रतिष्ठित नोवरोजी एंड संस जनरल मर्चेंट शॉप बंद होने जा रही है. अगले महीने दुकान बंद हो जाएगी. दुकान (Shop) को एक पारसी परिवार चलाता है. परिवार अंग्रेजों के जमाने से हिमाचल प्रदेश में दुकानें प्रॉपर्टी बेच चुका है और दुकान को बंद करने की तैयारी है. यद्यपि स्टोर-कम-निवास ने नोवरोजी परिवार की छह पीढ़ियों को पतवार में देखा है. नौजेर नोवरोजी 2002 में अपनी मृत्यु से पहले 60 साल से अधिक समय तक दलाई लामा के दोस्त थे.

काफी मुश्किल फैसला
नोवरोजी के छोटे बेटे और मालिक परवेज नोवरोजी कहते हैं, "यह एक कठिन निर्णय है, लेकिन कभी-कभी आपको चीजों को छोड़ देना पड़ता है." वह एक निजी कंपनी से सेवानिवृत्त हैं और 2010 से दुकान चला रहे थे. नोजेर के बड़े बेटे कुरुष नोवरोजी पश्चिम बंगाल में एक चाय का व्यवसाय करते हैं. वर्तमान में वह यहां से अपना सामान एकत्र करने और व्यवसाय को समेटने के लिए पहंचे हैं. अब तक नोरेज ने मिनरल वाटर और शराब, किराने के ब्रांड, बेकरी उत्पाद, तंबाकू का निर्माण किया है.

साथियों ने जताया दुख
इसी दुकान के साथ शॉप करने वाले 58 वर्षीय प्रेम सागर बुक सैलर हैं और दुकान के सामने टूर एंड ट्रैवल का भी कारोबार करते हैं. उन्होंने कहा कि यह स्टोर कई ऐतिहासिक घटनाओं का गवाह है. धर्मशाला और मैकलोडगंज शहर और मेरे लिए यह दुखद क्षण है. लोग भावनात्मक रूप से स्टोर से जुड़े थे. लेकिन बदलाव प्रकृति का नियम है और इस तरह से इतिहास का निर्माण होता है.'' 50 वर्षीय कुलप्रकाश शर्मा ने कहा, ''हम इस स्टोर को मिस करेंगे जो मैकलोडगंज का पर्याय है. मेरे पास इस दुकान से लेबल और स्टिकर का संग्रह है. वे अब स्मृति चिन्ह बन जाएंगे.



पुराना वर्ल्ड चार्म इंटेक
मौजूदा समय में दुकान में अखबारों, पत्रिकाओं और कन्फेक्शनरी रखी गई है. इसके अलावा एक बीते युग की यांदे भी यहां संजोई गई हैं. लकड़ी के ढांचों में दुकान में प्राचीन वस्तुएं हैं, जिनमें पेट्रोमैक्स 835 स्पेशल लैंप शामिल है, जो जर्मनी निर्मित हैंगिंग विक लैंप हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज