Dharamshala MC Elections: दलाई लामा की नगरी मैकलोड़गंज में एक परिवार में जंग

मैकलोड़गंज भले ही धर्मशाला का एक छोटा सा शहर हो, मगर यह शहर देश ही नहीं दुनिया भर में मशहूर है.

मैकलोड़गंज भले ही धर्मशाला का एक छोटा सा शहर हो, मगर यह शहर देश ही नहीं दुनिया भर में मशहूर है.

Dharamshala MC Elections: मैकलोड़गंज भले ही धर्मशाला का एक छोटा सा शहर हो, मगर यह शहर देश ही नहीं दुनिया भर में मशहूर है. इस छोटे से ही वार्ड को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश अमेरिका और दुनिया को हमेशा अपनी रडार पर रखने वाला देश चीन भी जानता है.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश में नगर निगम चुनाव (Dharamshala MC Elections) में भले ही प्रत्याशियों ने अपने शब्दभेदी वाणों से तूणीर को भर लिया है और सभी राजनीतिक दल अपनी-अपनी ढफली अपना-अपना राग अलापने शुरू कर चुके हैं. वहीं, जनता भी सबक सिखाने का मन बना चुकी है. नगर निगम धर्मशाला (Dharamshala) की आर्थिकी को मजबूत बनाने और शहर के खज़ाने को भरने वाले सबसे मजबूत वार्ड-3 मैकलोड़गंज (Mcleodganj) के लोग मानते हैं कि मैकलोड़गंज भले ही धर्मशाला का एक छोटा सा शहर हो, मगर यह शहर देश ही नहीं दुनिया भर में मशहूर है. इस छोटे से ही वार्ड को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश अमेरिका और दुनिया को हमेशा अपनी रडार पर रखने वाला देश चीन भी जानता है.

मौजूदा समय में कांग्रेस का कब्जा

वर्तमान में मैकलोड़गंज से माया देवी पार्षद हैं, जो कि कांग्रेस से ताल्लुक रखती हैं. बावजूद इसके कांग्रेस ने इस बार उनका टिकट काट कर बाहरी शख्स को अपना प्रत्याशी बना दिया है. फिलहाल, इस बार मैकलोड़गंज ही वो वार्ड है जिसे धर्मशाला नगर निकाय के 17 वार्डों में सबसे हॉट वार्ड कहा जा सकता है, इसलिये भी क्योंकि यहां भाजपा-कांग्रेस समेत आजाद प्रत्याशी के बीच में कड़ी टक्कर मानी जा रही है. फिलहाल भाजपा ने यहां से मौजूदा डिप्टी मेयर औंकार नैहरिया को अपना उम्मीदवार बनाया है, जबकि कांग्रेस ने पूर्व में सुधेड़ पंचायत के प्रधान रह चुके अजीत नैहरिया को अपना प्रत्याशी घोषित किया है, जो कि दस बार यहां की टैक्सी यूनियन के भी प्रधान रह चुके हैं.

आवारा पशुओं की समस्या.

साथ ही वर्तमान में वो इंडो तिब्बतियन एसोसियेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं. खास बात तो ये है कि औंकार नैहरिया और अजीत नैहरिया दोनों ही प्रत्याशी एक ही परिवार से ताल्लुक रखते हैं. वहीं दिनेश कपूर नाम के जिस आजाद प्रत्याशी ने इस वार्ड से ताल ठोक रखी है. इन दोनों प्रत्याशियों के रिश्ते में नाती हैं, और भाजपा से टिकट न मिलने के चलते आजाद में अपना भाग्य आजमाने के लिए मैदान में उतर आये हैं, यहां इस सीट पर खास बात ये है कि यहां जिस भी प्रत्याशी को तिब्बती वोटर्स का भरपूर समर्थन मिला वो प्रत्याशी हर हाल में जीत दर्ज करने वाला है, लेकिन हैरत की बात ये है कि इन तीनों का तिब्बतियों में अच्छा-खासा रसूख है. ऐसे में अब तिब्बति वोटर्स भी हैरत में हैं कि अब वो अपना मत किस प्रत्याशी के हक में डालें.

मैकलोडगंज में हर साल बड़ी संख्या में सैलानी आते हैं.


1200 वोटर्स करेंगे फैसला



न्यूज़-18 ने वार्ड -तीन मैकलोड़गंज में हालात का जायजा लिया. मैकलोड़गंज शहर की जनसंख्या 10 हजार के करीब है. यूरोपियन कंट्रीज़ और दूसरे देशों से आकर यहां निवास करने वालों की संख्या पांच हजार के करीब है. कुल मिलाकर पंद्रह हजार की आबादी वाले इस वार्ड में 12 सौ के करीब वोटर्स हैं, जिसमें 640 पुरुष वोटर्स, जबकि 560 महिला वोटर्स हैं, जबकि 370 तिब्बतियन वोटर्स हैं.

मैकलोडगंज वार्ड में कांग्रेस और भाजपा के बीच मुकाबला है.


टूरिज्म पर निर्भरती, सड़कों की बदहाली

यहां की ज्यादातर आबादी सिर्फ टूरिज़्म पर निर्भर है. बहुत से लोग होटल कारोबारी हैं. शहर की तमाम सड़के बहुत ही संकीर्ण हैं. जिसकी वजह से यहां आये दिन जाम की स्थिती देखने को मिलती है, इस शहर में जाम की समस्या सबसे बड़ी ज्वलंत समस्या है, आवारा जानवरों की यहां भरमार है, कूड़े के निस्तारण के लिए कोई ठोस व्यवस्था नहीं है. पार्किंग को लेकर भी मैकलोड़गंज की जनता हमेशा कशमकश में रहती है. ये इलाका गद्दी समुदाय बहुल है. यहां के लोग अच्छे पढ़े-लिखे भी हैं.

लोग क्या चाहते हैं?

लोगों की मानें तो यहां प्रत्यासी एक दूसरे के ऊपर ही छींटा-कशी करने में अपना वक्त जाया कर रहे हैं, जबकि उन्हें इस क्षेत्र की समस्याओं को प्राथमिकता के साथ तबज्जो देनी चाहिये और जितना इस क्षेत्र का नाम है उसे और चार चांद लगाने के लिए जीतोड़ मेहनत करनी चाहिये, इससे न केवल यहां की जनता का भला होगा, बल्कि इनका भी नाम होगा. यहां पार्किंग की समस्या सबसे ज्यादा है. पर्यटन सीज़न में तो यहां सभी के पसीने छूट जाते हैं. बरसात में सड़कें पानी से लबालब भर जाती हैं. वैंडिग जोन में कारोबार करने वाले लोगे बेहद परेशान हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज