राम मंदिर मामला: धर्मशाला के शोधकर्ता का दावा-148 साल पहले ब्रिटिश लेखक ने अपनी किताब में किया है अयोध्या का वर्णन
Dharamsala News in Hindi

राम मंदिर मामला: धर्मशाला के शोधकर्ता का दावा-148 साल पहले ब्रिटिश लेखक ने अपनी किताब में किया है अयोध्या का वर्णन
5 अगस्त को पीएम मोदी के हाथों अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास होना है.

धर्मपाल ने एक पत्र लिखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आग्रह किया गया है कि अयोध्या में बनने वाली लाईब्रेरी और म्यूजियम में इस लेख को प्रदर्शित किया जाए.

  • Share this:
धर्मशाला. उत्तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya) में राममंदिर (Ram Mandir) निर्माण के लिए 5 अगस्त को पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narender Modi) निर्माण का शिलान्यास करेंगे. यहां एक भव्य मंदिर बनेगा. वहीं,हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा (Kangra) जिले के धर्मशाला से ताल्लुक रखने वाले धर्मपाल नाम के लेखक और शोधकर्ता ने दावा किया है कि ब्रिटिश काल के एक लेखक और शोधकर्ता की 148 साल पुरानी पुस्तक है, जिसमें अयोध्या नगरी का खूबसूरत और गौरवमयी इतिहास का संक्षिप्त परिचय दिया गया है.

धर्मपाल ने कहा कि वर्ष 1871 में स्काटिस एडलफी प्रेस मुद्रास द्वारा प्रकाशित दुर्भल पुस्तक प्रकाशित की थी. इसे तत्कालीन ब्रिटिश सरकार में कार्यरत उच्च अधिकारी एवं लेखक एडवर्ड वेलफोर ने संपादित किया था. इस पुस्तक के एक लेख में आयोध्या नगरी के गौरवमयी इतिहास का संक्षित परिचय दिया गया है. किताब अयोध्या के ऐतिहासिक महत्व पर प्रकाश डालती है.

पीएम मोदी को लिखा पत्र



धर्मपाल ने एक पत्र लिखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आग्रह किया गया है कि अयोध्या में बनने वाली लाईब्रेरी और म्यूजियम में इस लेख को प्रदर्शित किया जाए. धार्मिक नगरी आयोध्या में भूमि-पूजन अनुष्ठान के शुभ अवसर पर हिमाचल के लोगों में भी खासा उत्साह है. प्रदेश की दूसरी राजधानी धर्मशाला में भी घी के दिए जलाने से लेकर कई तरह से इस दिन को दीपावली की तरह मनाने की तैयारियां चल रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज