लाइव टीवी

धर्मशाला उपचुनाव : विजय को प्रत्याशी बनाए जाने पर गद्दी समुदाय गदगद

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 29, 2019, 9:11 AM IST
धर्मशाला उपचुनाव : विजय को प्रत्याशी बनाए जाने पर गद्दी समुदाय गदगद
कांग्रेस ने पच्छाद और धर्मशाला विधानसभा उपचुनाव के लिए प्रत्याशियों के नाम घोषित किए.

युवा प्रत्याशी होने के साथ-साथ धर्मशाला में गद्दी समुदाय के मतदाताओं को देखते हुए कांग्रेस आला कमान द्वारा लिया गया फैसला सियासी मायनों में अहम माना जा रहा है.

  • Share this:
शिमला. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) ने धर्मशाला उप-चुनाव (Dharamshala by-election) में नए चेहरे के तौर पर युवा प्रत्याशी विजय इंद्र करण (Vijay Indra Karan) को उतारने का फैसला लिया है. विजय इंद्र करण कांगड़ा लोकसभा क्षेत्र से युवा कांग्रेस (Congress) के वर्तमान में अध्यक्ष हैं. गद्दी समुदाय से संबध रखने वाले विजय इंद्र करण छात्र जीवन से ही पार्टी से जुड़े हैं. युवा प्रत्याशी होने के साथ-साथ धर्मशाला में गद्दी समुदाय (Gaddi Community) के मतदाताओं को देखते हुए कांग्रेस आला कमान द्वारा लिया गया फैसला सियासी मायनों में अहम माना जा रहा है. कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर (Kuldeep Singh Rathor) ने कहा कि केंद्रीय कांग्रेस आला कमान ने वरिष्ठ और युवा पीढ़ी को ध्यान में रखकर धर्मशाला से प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारा है. उन्होंने कहा कि धर्मशाला से 7 आवदेन आए थे, लेकिन युवा पीढ़ी को तवज्जो देते हुए विजय इंद्र करण को चुनाव मैदान में उतारा गया है.

विजय को टिकट मिलने से गद्दी समुदाय गदगद

जनजातीय समुदाय से संबंध रखने वाले कांगड़ा (Kangra) संसदीय क्षेत्र से युवा कांग्रेस के प्रभारी विजय इंद्र करण पेशे से होटल व्यवसाय से जुड़े हैं. पिछली सरकार में वह पर्यटन निगम के निदेशक थे. उन्हें निदेशक बनाए जाने में सुधीर शर्मा (Sudhir Sharma) का ही हाथ था. अचानक सुधीर शर्मा से दूरियां बढ़ने के बाद विजय दूसरे खेमे में चले गए और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप राठौर को धर्मशाला से नया चेहरा मिल गया. इतना ही नहीं धर्मशाला में विजय ने दम दिखाते हुए अपने अलग से कार्यक्रम करवाकर भी कुलदीप राठौर का दिल जीत लिया. सुधीर शर्मा ने इसका खूब विरोध किया, लेकिन प्रदेश कांग्रेस ने अपने राष्ट्रीय सचिव की परवाह नहीं की. इतना ही नहीं सुधीर के बढ़ते कद को देखते हुए अन्य कांग्रेस नेताओं ने भी उन्हें घेरना शुरू कर दिया था, लेकिन पार्टी में उनकी न सुने जाने के चलते सुधीर पीछे हट गए. इसके चलते अब कांग्रेस ने विजय करण को प्रत्याशी बनाकर बड़ा दांव खेला है. विजय को टिकट मिलने से गद्दी समुदाय गदगद है.

धर्मशाला में विजय नेअपने अलग से कार्यक्रम करवाकर भी कांग्रस प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप राठौर का दिल जीत लिया.


कौन है विजय इंद्र करण

विजय इंद्रकरण पुत्र जयकरण निवासी काला पुल तहसील धर्मशाला के रहने वाले हैं. वह विवाहित हैं और उनकी जन्मतिथि 24 दिसंबर 1978 है. अनुसूचित जनजाति से संबंध रखने वाला युवा चेहरा समुदाय में पैठ रखता है. विजय पंजाब विश्वविद्यालय से अंग्रेजी विषय में स्नातकोत्तर हैं. वह वर्ष 2002 से 2003 तक पंजाब विश्वविद्यालय में अंग्रेजी विभाग के प्रतिनिधि रहे हैं. 2003 से 2004 में पंजाब श्वविद्यालय के छात्र परिषद के कैंपस सचिव रहे. इसके बाद विजय 2004 से 2008 तक हिमाचल प्रदेश युवा कांग्रेस के महासचिव रहे. वह 2008 से 2011 तक कांग्रेस के विभिन्न कार्यक्रमों के जिला समन्वयक भी रहे. 2011 से 2013 तक कांगड़ा चंबा संसदीय क्षेत्र के कांग्रेस महासचिव रहे. फिर 2014 से 2018 तक हिमाचल प्रदेश पर्यटन विभाग के निदेशक रहे. वह वर्तमान में कांगड़ा चंबा संसदीय क्षेत्र के युवा कांग्रेस प्रभारी हैं. इसके अतिरिक्त वह धर्मशाला के कोतवाली बाजार स्थित काला पुल में पोंग व्यू नामक होटल चलाते हैं और कांग्रेस के पूर्व मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी के रिश्तेदार भी हैं.

ये भी पढ़ें - हिमाचल उपचुनाव: कांग्रेस ने घोषित किए दोनों उम्मीदवारों के नाम
Loading...

ये भी पढ़ें - कुल्लू दशहरा : खाने-पीने के व्यापारियों पर WhatsApp से रखी जाएगी नजर

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 29, 2019, 9:11 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...